जगमाल सिंह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
जगमाल सिंह
पिता उदयसिंह द्वितीय

उदयसिंह द्वितीय एक भारतीय शासक था।

जीवन[संपादित करें]

उदयसिंह की सबसे पसंदिता पत्नी रानी धीरबाई भटियाणी चाहती थी कि उदयसिंह के निधन के तत्पश्चात जगमाल को उत्तराधिकार बनाया जाए ,इस कारण उदयसिंह ने जगमाल को अपना उत्तराधिकार बनाने के लिए तैयार हो गए थे और उनकी मृत्यु के बाद १५७२ में महाराणा प्रताप की जगह जगमाल को मेवाड़ साम्राज्य का शासक नियुक्त किया गया था। जैसे ही जगमाल शासक बने वैसे ही इन्होनें अकबर से हाथ मिला लिया था इस कारण अकबर ने खुश होकर जगमाल को अजमेर की जागीर उनको सौंप दी थी इस कारण जो लोग महाराणा प्रताप के साथी थे वे लोग चाहते थे कि प्रताप राज करे इसलिए जगमाल को शासक के पद से हटा दिया और मेवाड़ रत्न महाराणा प्रताप को गद्दी पर बैठा दिया था। एक समय की बात है जब सिरोही के शासक ने जगमाल पर हमला बोल दिया था जिसमें १५७४ ईस्वी में निधन हो गया था। [1][2] लेकिन कुछ स्रोतों से पता चलता है कि जगमाल का निधन १५७४ के बजाय १५८३ में हुआ था।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Maharana Pratap 
  2. "Jagmal Singh", geni_family_tree