जगदीश चन्द्र जैन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
प्रो. डॉ. जगदीश चन्द्र जैन
जन्म 20 जनवरी 1909
Basera, in Western Uttar Pradesh
मृत्यु 28 जुलाई 1994(1994-07-28) (उम्र 85)
Mumbai, India
मृत्यु का कारण Cardiac arrest
राष्ट्रीयता Indian
शिक्षा Gurukula, Banaras Hindu University and Shantiniketan under Rabindranath Tagore
प्रसिद्धि कारण Writer, professor, thinker, and freedom fighter during the Indian independence movement
धार्मिक मान्यता Moral, ethical values and universal laws

डॉ जगदीश चन्द्र जैन (20 जनवरी 1909 – 28 जुलाई 1993) प्रसिद्ध विद्वान, भारतविद, शिक्षाशास्त्री, लेखक, तथा भारतीय स्वतन्त्रता के सेनानी थे। उन्होने ८० से अधिक पुस्तकों की रचना की जो विविध विषयों की हैं, जैसे जैन दर्शन, प्राकृत साहित्य, बच्चों के लिए हिन्दी की पाठ्यपुस्तकें आदि। उनकी रची पुस्तकें आज भी पूरे भारत के विद्यालयों में पढायी जातीं हैं।

डॉ जैन गाँधी हत्या के मुकदमे में प्रमुख गवाह थे। कहा जाता है कि उन्होने सरकार को गांधी हत्या के षडयन्त्र के प्रति पहले ही सावधान कर दिया था।

जीवन परिचय[संपादित करें]

डॉ जगदीश चन्द्र जैन का जन्म सन १९०९ में उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के पास बसेड़ा नामक ग्राम में हुआ था।

कृतियाँ[संपादित करें]

  • जैन साहित्य का वृहद इतिहास,
  • भारतीय दर्शन : एक नई दृष्टि, विद्याभवन राष्ट्रभाषा ग्रंथमाला,
  • दो हजार वर्ष की पुरानी कहानियाँ,
  • History and Development of Prakrit Literature,
  • Life in ancient India as depicted in the Jain canons and commentaries, 6th century BC to 17th century AD,
  • Studies in early Jainism: selected research articles,
  • The murder of Mahatma Gandhi, prelude and aftermath,
  • Prakrit Narrative Literature: Origin And Growth,
  • Amidst the Chinese people,
  • The gift of love and other ancient Indian tales about women

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]