चॉकलेट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चाकलेट के टुकड़े

चॉकलेट कोको के बीजों से निर्मित एक कच्चा या संसाधित भोज्य पदार्थ है। कोको के बीजों का स्वाद अत्यन्त कड़ुवा होता है। इसमें स्वाद उत्पन्न करने के लिए इसका किण्वन करना पड़ता है। चॉकलेट भुने और पिसे हुए कोको पॉड्स से बना एक खाद्य उत्पाद है, जो कि तरल, ठोस या पेस्ट के रूप में या अन्य खाद्य पदार्थों में स्वाद बढ़ाने वाले एजेंट के रूप में उपलब्ध है। कम से कम ओल्मेक सभ्यता (19वीं-11वीं शताब्दी ईसा पूर्व) के बाद से कोको का किसी न किसी रूप में सेवन किया जाता रहा है, [1][2] और मेसोअमेरिकन लोगों के अधिकांश- माया और एज़्टेक सहित - ने चॉकलेट पेय बनाया। [3]

कोको का फल

चॉकलेट का इति‍हास[संपादित करें]

'चॉकलेट' इस शब्‍द के बारे में बहुत से तथ्‍य हैं। कुछ के अनुसार यह शब्‍द मूलत: स्‍पैनि‍श भाषा का शब्‍द है। ज्‍यादातर तथ्‍य बताते हैं कि चॉकलेट शब्‍द माया और एजटेक सभ्‍यताओं की पैदाइश है जो मध्‍य अमेरि‍का से संबंध रखती हैं। एजटेक की भाषा नेहुटल में चॉकलेट शब्‍द का अर्थ होता है खट्टा या कड़वा ।

चाँकलेट की प्रमुख सामग्री केको या कोको के पेड़ की खोज 2000 वर्ष पूर्व अमेरि‍का के वर्षा वनों में की गई थी। इस पेड़ की फलि‍यों में जो बीज होते हैं उनसे चॉकलेट बनाई जाते है। सबसे पहले चॉकलेट बनाने वाले लॉग मैक्‍सि‍को और मध्‍य अमेरि‍का के थे।

1528 में स्‍पेन ने जब मैक्‍सि‍को पर कब्‍जा कि‍या तो वहाँ का राजा भारी मात्रा में कोको के बीजों और चॉकलेट बनाने के यंत्रों को अपने साथ स्‍पेन ले गया। जल्‍दी ही स्‍पेन में चॉकलेट रईसों का फैशनेबल ड्रिंक बन गया।

इटली के एक यात्री फ्रेंसि‍स्‍को कारलेटी ने सबसे पहले चॉकलेट पर स्‍पेन के एकाधि‍कार को खत्‍म कि‍या. उसने मध्‍य अमेरि‍का के इंडि‍यंस को चॉकलेट बनाते देखा और अपने देश इटली में भी चॉकलेट का प्रचार प्रसार कि‍या. 1606 तक इटली में भी चॉकलेट प्रसि‍द्ध हो गई।

फ्रांस ने 1615 में ड्रिंकिंग चॉकलेट का स्‍वाद चखा. फ्रांस के लोगों को यह स्‍वास्‍थ्‍य की दृष्टि बहुत लाभदायक पदार्थ लगा। इंग्‍लैंड में चॉकलेट की आमद 1650 में हुई।

अभी तक लोग चॉकलेट को पीते थे। एक अंग्रेज डॉक्‍टर सर हैंस स्‍लोने ने दक्षि‍ण अमेरि‍का का दौरा कि‍या और खाने वाली चॉकलेट की रेसि‍पी तैयार की। सोचि‍ए एक डॉक्‍टर और चॉकलेट की रेसि‍पी. कैडबरी मि‍ल्‍क चॉकलेट की रेसि‍पी इन्‍हीं डॉक्‍टर ने बनाई.

आपको जानकार आश्चर्य होगा की पहले चॉकलेट तीखी हुआ करती थी और पी जाती थी। अमरि‍का के लोग कोको बीजों को पीसकर उसमें वि‍भि‍न्‍न प्रकार के मसाले जैसे चि‍ली वॉटर, वनीला, आदि डालकर एक स्‍पाइसी और झागदार तीखा पेय पदार्थ बनाते थे।

चॉकलेट को मीठा बनाने का श्रेय यूरोप को जाता है जि‍सने चॉकलेट से मि‍र्च हटाकर दूध और शक्‍कर डाली. चॉकलेट को पीने की चीज से खाने की चीज भी यूरोप ने ही बनाया.

प्रकार[संपादित करें]

कई प्रकार के चॉकलेट को पहचाना जा सकता है। शुद्ध, बिना मिठास वाली चॉकलेट, जिसे अक्सर "बेकिंग चॉकलेट" कहा जाता है, में अलग-अलग अनुपात में मुख्य रूप से कोको ठोस और कोको मक्खन होता है। आज उपभोग की जाने वाली अधिकांश चॉकलेट मीठी चॉकलेट के रूप में होती है, जिसमें चॉकलेट को चीनी के साथ मिलाया जाता है।

मिल्क[संपादित करें]

मिल्क चॉकलेट मीठी चॉकलेट होती है जिसमें दूध का पाउडर या संघनित दूध भी होता है। यूके और आयरलैंड में, मिल्क चॉकलेट में कम से कम २०% कुल सूखा कोको ठोस होना चाहिए; शेष यूरोपीय संघ में, न्यूनतम २५% है। [4]

व्हाइट[संपादित करें]

व्हाइट चॉकलेट, हालांकि बनावट में मिल्क और डार्क चॉकलेट के समान है, इसमें कोई भी कोको ठोस नहीं होता है जो एक गहरा रंग प्रदान करता है।

डार्क[संपादित करें]

कोको के मिश्रण में वसा और चीनी मिलाकर डार्क चॉकलेट बनाई जाती है। अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन इसे "स्वीट चॉकलेट" कहता है, और चॉकलेट लिकर की १५% एकाग्रता की आवश्यकता होती है। यूरोपीय नियम कम से कम ३५% कोको ठोस निर्दिष्ट करते हैं। [4]

अनस्वीटेंड[संपादित करें]

अनस्वीटेंड चॉकलेट शुद्ध चॉकलेट लिकर है, जिसे कड़वी वा या बेकिंग चॉकलेट भी कहा जाता है। यह बिना मिलावट वाली चॉकलेट है: शुद्ध, पिसी हुई, भुनी हुई चॉकलेट बीन्स एक मजबूत, गहरा चॉकलेट स्वाद प्रदान करती हैं।

बनावट[संपादित करें]

पोषण[संपादित करें]

१०० ग्राम मिल्क चॉकलेट के हिस्से से ५४० कैलरी मिलती है। यह ५९% कार्बोहाइड्रेट (चीनी के रूप में ५२% और आहार फाइबर के रूप में ३%), ३०% वसा और ८% प्रोटीन (टेबल) है। मिल्क चॉकलेट में लगभग ६५% वसा संतृप्त होती है, मुख्य रूप से पामिटिक एसिड और स्टीयरिक एसिड, जबकि प्रमुख असंतृप्त वसा ओलिक एसिड (टेबल) है।

उद्योग[संपादित करें]

चॉकलेट, जो दुनिया भर में प्रचलित है, दुनिया भर में प्रति वर्ष ५० अरब अमेरिकी डॉलर का लगातार बढ़ता कारोबार है।[5] दुनिया के चॉकलेट राजस्व में यूरोप का योगदान ४५% है, [[6]और २०१३ में अमेरिका ने २० अरब डॉलर खर्च किए। [7]

चॉकलेट को विभिन्न प्रकार के चॉकलेट, चॉकलेट गिफ्ट बॉक्स, रिच चॉकलेट, ब्रांडेड चॉकलेट आदि की पेशकश करने वाले ऑनलाइन रिटेलर्स और मार्केटप्लेस के माध्यम से ऑनलाइन खरीदा जा सकता है। [8]

एशिया के अधिकांश अन्य हिस्सों की तरह, चॉकलेट पहली, दूसरी या पचासवीं चीज नहीं है जिसे आप भारत के साथ जोड़ेंगे। लेकिन चॉकलेट सार्वभौमिक है; यह दुनिया भर के बाजारों में फैल गया है, और भारत कोई अपवाद नहीं है। वास्तव में, लगभग १.४ बिलियन लोगों के साथ, भारतीय चॉकलेट बाजार दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाले बाजारों में से एक है। फिर भी भारत में चॉकलेट की कहानी सरल नहीं है, उपभोक्ताओं के स्वाद, वितरण चैनल और उत्पादकों के लिए उपलब्ध सामग्री में काफी भिन्नता है। [9]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  1. Powis, Terry G.; Cyphers, Ann; Gaikwad, Nilesh W.; Grivetti, Louis; Cheong, Kong (24 May 2011). "कोको उपयोग और सैन लोरेंजो ओल्मेक". राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी की कार्यवाही (अंग्रेज़ी में). 108 (21): 8595–8600. PMC 3102397. PMID 21555564. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0027-8424. डीओआइ:10.1073/pnas.1100620108. बिबकोड:2011PNAS..108.8595P.
  2. "Consumían olmecas chocolate hace 3000 años". El Universal. Mexico City. 29 July 2008.
  3. "चॉकलेट: एक मेसोअमेरिकन विलासिता 1200-1521 - कोको प्राप्त करना". फील्ड संग्रहालय. अभिगमन तिथि 23 November 2011.
  4. "मानव उपभोग के लिए कोको और चॉकलेट उत्पादों से संबंधित यूरोपीय संसद और 23 जून 2000 की परिषद के निर्देश 2000/36/ईसी". यूरोपीय संघ का प्रकाशन कार्यालय. अभिगमन तिथि 31 October 2010.
  5. "चॉकलेट के बारे में- इतिहास". Chocolatesource.com. मूल से 27 February 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 January 2010.
  6. "रिपोर्ट: द ग्लोबल मार्केट फॉर चॉकलेट टू २००६". The-infoshop.com. मूल से 16 July 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 January 2010.
  7. Griswold, Alison (24 November 2014). "क्या हम वास्तव में चॉकलेट की कमी का सामना कर रहे हैं?". Slate. स्लेट समूह. मूल से 24 November 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 November 2014.
  8. "चॉकलेट ऑनलाइन". लवलोकल.इन. अभिगमन तिथि ७ सितम्बर २०२१.
  9. "भारतीय चॉकलेट और कोको संस्कृति". दमेककाओ.कॉम.

अन्य[संपादित करें]