चैत सिंह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

चेत सिंह सन १७७० से १७८० तक काशी राज्य के नरेश रहे। सन् १९७० ई. में महाराज बलवन्त सिंह की मृत्यु के बाद उनके ज्येष्ठ पुत्र ब्राह्मण चेत सिंह काशी-राज की गद्दी पर आसीन हुए और मात्र १० वर्षों तक ही के शासनकाल में अपनी शूरवीरता और पराक्रम से प्रथम ब्रिटिश गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स को काशी पर आक्रमण करने के परिणाम स्वरुप समस्त काशीवासियों के विरोध के कारण, भयभीत होकर काशी से भाग जाने पर मजबूर कर दिया, जिसके पलायन की हड़बड़ी और घबराहट से सम्बन्धित एक कहावत आज भी प्रचलित है-

घोड़ा पर हौदा और हाथी पर जीन,
चुपके से भागा, वारेन हेस्टिंग।

ग्वालियर में निवास[संपादित करें]

ब्रिटिश गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स के साथ युद्ध के बाद हेस्टिंग्स जान बचाकर चुनार भाग निकला। लेकिन वहां से अंग्रेजी फौज की मदद लेकर उसने चेत सिंह पर दोबारा हमला किया। चेत सिंह ने उसका मुकाबला किया लेकिन अंग्रेजी फौज के पास संंख्या बल ज्यादा होने की वजह से चेत सिंह को काशी छोड़ना पड़ा। चेत सिंह रामनगर का किला छोड़कर इलाहाबाद (प्रयागराज), रीवा होते हुए ग्वालियर पहुंचे, जहां महाद जी सिंधिया ने उन्हें शरण दी। लेकिन चेत सिंह फिर आजीवन कभी बनारस नहीं लौट पाए।

चेत सिंह की राजकार्य[संपादित करें]

महाराजा चेत सिंह की वीरता के ऐतिहासिक पक्ष के साथ उनकी धार्मिक निष्ठा, साहित्य प्रेम एवं सांगीतिक अनुशीलन की भव्यता का अवलोकन कराने वाली आपके दरबारी कवि श्री बलभद्र की नाना छन्दों में रची ११६६ पद्यों की उद्भुत रचना 'चेतसिंह-विलास' में प्राप्त होती है, जिसमें कवि ने राजा मनसाराम, बलवन्त सिंह, एवं चेत सिंह का जीवन-परिचय काव्य रूप में दिया है। साथ ही दरबार के अन्य सुप्रसिद्ध कवियों एवं विद्वानों का नामोल्लेख किया है। ज्योतिषी रंगनाथ, पुरोहित, देवभद्र, कवि रघुनाथ और उनके यशस्वी पुत्र कवि गोकुलनाथ एवं महाराज चेत सिंह के साहित्य-गुरु भोलानाथ मिश्र जिन्होंने महाराज का न केवल राज्याभिषेक कराया था, अपितु उन्हें शिक्षित और विनीत भी बनाया था, आदि विद्वानों का विशेष रूप से उल्लेख किया है। राजगद्दी पर बैठने के कुछ दिनों उपरान्त उन्होंने काशी की पंचकोशी की यात्रा की, अपने पैतृक ग्राम गंगापुर गए, जहाँ के सुन्दर जलाशय का वर्णन कवि बलभद्र रचित 'चेतसिंह-विलास' में मिलता है। महाराज चेत सिंह के शासन-काल में दुलारी, कंजन, किशोरी, रुक्मणी, छित्तन बाई ने नृत्य-संगीत से दरबार जीवन्त था।

उत्तराधिकारी[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]