चीनी मार्शल आर्ट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Wushu
पारम्परिक चीनी: 武術
शाब्दिक अर्थ: martial art

चीनी मार्शल आर्ट, कभी-कभी मैंडरिन चीनी भाषा में वुशु (सरलीकृत चीनी: 武术; परंपरागत चीनी: 武術; पिनयिन: wǔshù) कहलाता है, लेकिन कुंग फू (चीनी : 功夫पिनयिन गोंगफू) के नाम से लोकप्रिय है, कई तरह की लड़ाई की शैलियां हैं, जिन्हें आज जो चीन कहलाता है, वहा पे सदियों से विकसित किया गया है। लड़ाई की ये शैलियां आमतौर पर सामान्य लक्षण के अनुसार वर्गीकृत किया जाते हैं, इनकी पहचान "परिवार" (家, जिया), "संप्रदायों" (派, पै) अथवा "स्कूलों" (門, मे) के मार्शल आर्ट के रूप में की जाती है। ऐसे लक्षणों के उदाहरणों में पशुओं का अनुकरण करते हुए शारीरिक व्यायाम करना, अथवा चीनी दर्शन, धर्म और किंवदंतियों से प्रेरित प्रशिक्षण तरीके शामिल हैं। शैलियां जो ची में हेरफेर पर केंद्रित है, कभी-कभी इन्हें आंतरिक (内家拳, नीजियाक्वान-nèijiāquán) लेबल का कहा जाता है, जबकि अन्य जो मांसपेशियों को उन्नत बनाने और हृदयवाहिका संबंधी फिटनेस पर केंद्रित होती है, वाह्य (外家拳, वैजियाक्वान-wàijiāquán) लेबल की बतायी जाती हैं। भौगोलिक स्थिति जैसे कि उत्तरी (北拳, बीक्वान-běiquán) और दक्षिणी (南拳, नैनक्वान -nánquán) भी वर्गीकरण का एक अन्य लोकप्रिय तरीका है।

शब्दावली[संपादित करें]

कुंग फू और वुशु, चीनी मार्शल आर्ट के लिए अंग्रेजी में प्रयुक्त शब्द से लिये गए हैं। हालांकि चीनी शब्द कुंग फू (चीनी : 功夫; पिनयिन: gōngfū) और वुशु (सरलीकृत चीनी: 武术; परंपरागत चीनी: 武術; पिनयिन: wǔshù ; केंटोनीज: मोउह-सेयूहट - Cantonese: móuh-seuht) का अर्थ बिल्कुल अलग है;[1] "चीनी मार्शल आर्ट" का चीनी समकक्ष शब्द झोंगगुओ वुशु होगा (परंपरागत चीनी: 中國武術; पिनयिन: zhōngguó wǔshù)।

वुशु जिसका का शाब्दिक अर्थ "मार्शल आर्ट" है। यह दो शब्दों 武術: () से बना है, जिसका अर्थ है "मार्शल" अथवा "सैन्य" (shù), जिसका पर्याय "अनुशासन", "कौशल" अथवा "पद्धति" है। वुशु शब्द आधुनिक खेल का भी पर्याय बन गया है, जो निहत्थे और हथियार के साथ (टाओलू-tàolù 套路) चीनी कला प्रदर्शन से जुड़ा है, जिसे अंक प्राप्त करने के लिए समकालीन सौंदर्य मानदंड के रूप में रूपांतरित कर दिया गया और इसी आधार पर आंका जाने लगा है।

"कुंग फू" की संदिग्धता[संपादित करें]

चीनी भाषा में कुंग फू शब्द का इस्तेमाल ऐसे सन्दर्भ में भी किया जा सकता है जहां मार्शल आट्स से इसका कोई संबंध नहीं है और बोलचाल की भाषा में किसी व्यक्ति द्वारा लंबे समय से कड़ी मेहनत के जरिए कोई हुनर या दक्षता हासिल कर लेने पर किया जाता है।[1] जबकि वुशु सामान्य मार्शल गतिविधियों के लिए कहीं अधिक सटीक शब्द है।

इतिहास[संपादित करें]

चीनी मार्शल आर्ट्स की उत्पत्ति प्राचीन चीन में आत्मरक्षा की आवश्यकता, शिकार की तकनीक और सैन्य प्रशिक्षण के लिए हुई. प्राचीन चीनी में सैनिकों के प्रशिक्षण में हाथ से मुकाबला करने और हथियार का अभ्यास महत्वपूर्ण था।[2][3]

आत्मरक्षा की कला में अभ्यास करते भिक्षुओं की प्राचीन चित्रण.

किंवदंती के अनुसार, 4000 साल से भी पहले अर्द्ध-पौराणिक शिआ राजवंश (夏朝) के शासन के समय चीनी मार्शल आट्स की उत्पत्ति हुई.[4] कहते हैं येलो साम्राट ह्वेन्गडी (उत्थान की पौराणिक तरीख 2698 ईसा युग पूर्व (BCE)) ने चीन में लड़ाई की पुरानी पद्धति की शुरूआत की.[5] येलो सम्राट, जिन्होंने दवा, ज्योतिष शास्त्र और मार्शल आर्ट्स पर बहुत बड़ा ग्रंथ लिखा है; चीन के नेता बनने से पहले प्रख्यात सेनापति हुआ करते थे। कहते हैं उन्होंने जियाओ डि के हुनर को विकसित किया और युद्ध में इसका प्रयोग किया।[6]

प्रारंभिक इतिहास[संपादित करें]

शौबो (Shǒubó) (手搏), का चलन शांग राजवंश (1766-1066 ईसा युग पूर्व (BCE) और 7वीं शताब्दी में जियांग बो (सैंडा की तरह) के समय में था,[7] ये दोनों प्राचीन चीनी मार्शल आर्ट्स के उदाहरण हैं। 509 ईसा युग पूर्व (BCE) कंफ्यूसियस ने लू के ड्यूक डिंग को सुझाव दिया कि लोगों को मार्शल आट्स के साथ ही साथ साहित्यिक कला का भी अभ्यास करें[7], इस प्रकार सेना या धार्मिक संप्रदाय के अलावा आमलोगों ने भी मार्शल आर्ट्स का अभ्यास करना शुरू कर दिया. कुश्ती मुकाबला की एक पद्धति, जो जुयेली अथवा जिओली (juélì or jiǎolì) (角力) कहलाती है, का जिक्र क्लासिक ऑफ रिट्स (ईसा युग पूर्व 1ली शताब्दी) में है।[8] मुकाबले की पद्धति में स्ट्राइक्स, थ्रो, ज्वाइंट मैनीपुलेशन (जोड़ों में जोड़तोड़), प्रेशर प्वाइंट (दबाव बिंदुओं) हमला जैसी तकनीक शामिल हैं। चिन राजवंश (221-207 ईसा पूर्व युग (BCE) के समय में जियो डि एक खेल बन चुका था। हान इतिहास के सन्दर्भ ग्रंथों की सूची में दर्ज है कि बगैर हथियार के निहत्था युद्ध, जो शौबो (shǒubó) (手搏) कहलाता था, इसे किस तरह लड़ा जाय का मैन्युअल पहले ही लिखा जा चुका था और दोस्ताना कुश्ती जो जुयेली या जियोली (juélì or jiǎolì) (角力) के रूप में जाना जाता है, के बीच में पूर्ववर्ती हान (206 ईसा पूर्व – 8 ईसा युग) ने फर्क किया था। कुश्ती का प्रमाण शी जी, रिकॉर्ड्स ऑफ दी ग्रांड हिस्टोरियन में भी मिलता है, जिसे सिमा कियेन द्वारा 100 ईसा पूर्व लिखा गया था।[9]

मैडेन ऑफ यूए की कहानी के वू और यूए के बसंत तथा शरद वृतांत (ईसा पूर्व 5वीं सदी) में "हार्ड" और "सॉफ्ट" तकनीक के भावों के एकीकरण सहित हाथ से हाथ मुकाबला करने के सिद्धांत की व्याख्या की गयी है।[10]

तांग राजवंश में तलवार नृत्य के विवरण ली बाई की कविताओं में अमर हो गये। सोंग और युआन राजवंशों के जमाने में शाही अदालतों द्वारा शियांगपू (xiangpu) (सुमो का एक पूर्ववर्ती) प्रतियोगिताएं प्रायोजित की जाती थीं। वुशु की आधुनिक अवधारणाएं पूरी तरह से मिंग और चिंग राजवंशों द्वारा विकसित की गयीं.[11]

दार्शनिक प्रभाव[संपादित करें]

चीनी मार्शल आर्ट के साथ जुड़े विचार चीनी समाज के विकास के साथ बदले और समय के साथ इसने कुछ दार्शनिक आधार प्राप्त किया: मनोविज्ञान और मार्शल आर्ट के अभ्यास से संबंधित एक दाओवादी सूत्र, झुआन्गजी (庄子) में एक लेखांश. माना जाता है कि झुआन्गजी के नामस्रोत लेखक का जन्म ईसा पूर्व 4थी शताब्दी में हुआ था। ताओ ते चिंग, अक्सर ही जिसका श्रेय लाओ जी को दिया जाता है, एक अन्य दाओवादी पाठ है जिसमें मार्शल आर्ट के लिए प्रयोज्य सिद्धांत शामिल हैं। कन्फ्यूशियसवाद के शास्त्रीय झाऊ ली (周禮/周礼) पाठ के अनुसार झाऊ राजवंश (ईसा पूर्व 1122–256) के (सरलीकृत चीनी: 六艺; परंपरागत चीनी: 六藝; पिनयिन: liu yiरस्म-रिवाज, संगीत, सुलेखन और गणित सहित) तीरंदाजी और सारथी "छह कलाओं" के हिस्से हैं। ईसा पूर्व 6ठी शताब्दी के दौरान सुन त्जू (孫子) द्वारा लिखितद आर्ट ऑफ वार (孫子兵法) सीधे-सीधे सैन्य युद्ध से जुड़ा हुआ है, लेकिन इसमें चीनी मार्शल आर्ट में उपयोग होने वाले विचार भी शामिल हैं।

कम से कम ईसा पूर्व युग 500 से दाओवादी पेशेवर ताओ यिन का अभ्यास करते रहे हैं, जो कीगोंग जैसा ही शारीरिक अभ्यास है और जो ताई ची चुआन की एक पैदाईश है।[12] ई.सं. 39-92 में, पान कू द्वारा लिखित "सिक्स चैप्टर्स ऑफ हैंड फाइटिंग" हान शू (पूर्व हान राजवंश का इतिहास) में शामिल किया गया। इसके अलावा, मशहूर चिकित्सक, हुआ तुओ ने ईसा पूर्व 220 के आस-पास बाघ, हिरण, बंदर, भालू और पक्षी को लेकर "फाइव एनिमल्स प्ले" बनाया.[13] दाओवादी दर्शन और उसके स्वास्थ्य तथा व्यायाम करने के दृष्टिकोण ने एक हद तक चीनी मार्शल आर्ट को प्रभावित किया है। दाओवादी अवधारणाओं के प्रत्यक्ष सन्दर्भ "एईट इम्मोर्टल्स" जैसी शैलियों में पाए जा सकते हैं, जो लड़ने की तकनीकों का उपयोग करते हैं और जिनका श्रेय प्रत्येक इम्मोर्टल की विशेषताओं जाता है।[14]

शाओलिन और मन्दिर-आधारित मार्शल आर्ट[संपादित करें]

वुशु की शाओलिन शैली को पहला संस्थागत चीनी मार्शल आर्ट माना जाता है।[15] युद्ध में शाओलिन की भागीदारी का सबसे पुराना सबूत ई.सं. 728 का वो स्तंभ है, जिसमें दो विशेष अवसरों के साक्ष्य हैं: ई.सं. 610 के आस-पास डाकुओं से शाओलिन मठ की रक्षा करना और बाद में ई.सं. 621 में हुलाओ युद्ध में वांग शिचोंग की पराजय में उनकी भूमिका. 8वीं से लेकर 15वीं सदी तक, युद्ध में शाओलिन की भागीदारी के सबूत देने वाले कोई दस्तावेज मौजूद नहीं हैं। बहरहाल, 16वीं और 17वीं सदी के बीच के कम से कम चालीस ऐसे स्रोत मिलते हैं, जिनसे पता चलता है कि शाओलिन भिक्षु न सिर्फ मार्शल आर्ट्स का अभ्यास करते थे, बल्कि मार्शल अभ्यास शाओलिन मठ के जीवन का एक ऐसा अभिन्न अंग बन चुका था कि भिक्षुओं ने इसके औचित्य के लिए एक नयी बौद्ध विद्या के सृजन की आवश्यकता महसूस की.[16] मिंग के बाद के विभिन्न साहित्यिक विधाओं में शाओलिन के मार्शल आर्ट के अभ्यास के सन्दर्भ मिलते हैं: शाओलिन भिक्षु योद्धाओं के स्मृति लेखों, मार्शल आर्ट नियम-पुस्तिका, सैन्य विद्यावली, ऐतिहासिक लेखनों, यात्रा-विवरणों, कहानियों और कविताओं में इसके उल्लेख मिलते हैं। हालांकि ये स्रोत शाओलिन में आरंभ हुई किसी विशेष शैली के बारे में कुछ नहीं बताते.[17] तांग काल के स्रोतों के विपरीत, ये स्रोत सशस्त्र युद्ध के शाओलिन तरीकों का उल्लेख करते हैं। इसमें वो कौशल भी शामिल है जिससे शाओलिन भिक्षु प्रसिद्द हुए- स्टाफ अर्थात लाठी (गन (gùn), कैंटोनीज में ग्वान (gwan)). मिंग जनरल क्वी जिगुआंग ने शाओलिन क्वान फा (पिनयिन रोमनीकरण: शिआओ लिन क्वान फा (Xiao Lin Quán Fǎ) या वेड-गाइल्स रोमनीकरण में शाओ लिन चुआन फा (Shao Lin Ch'üan Fa), 少 林 拳 法 "फिस्ट प्रिंसिपल्स"; जापानी उच्चारण: शोरिन केम्पो या केन्पो) के विवरण और लाठी तकनीक को अपनी पुस्तक में शामिल किया। पुस्तक के शीर्षक जी शिआओ शिन शु(紀效新書) का अंग्रेजी में अनुवाद "न्यू बुक रिकॉर्डिंग इफेक्टिव टेक्निक्स" किया जा सकता है। जब इस पुस्तक का प्रसार पूर्व एशिया में हुआ, तब ओकिनावा[18] और कोरिया जैसे क्षेत्रों में मार्शल आर्ट के विकास पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा.[19]

आधुनिक युग[संपादित करें]

आज जिन युद्ध शैलियों के अभ्यास किये जा रहे हैं, सदियों से इनका विकास होता रहा है, जिनमें बाद में अस्तित्व में आये रूपों को शामिल किया गया। जिन्हें शामिल क्या गया उनमें से कुछ हैं - बागुआ, शराबी मुक्केबाजी, ईगल क्लौ, फाइव एनिमल्स, ह्सिंग इ (Hsing I), हुंग गर (Hung Gar), लाउ गर (Lau Gar), मंकी, बक मेई पाई (Bak Mei Pai), प्रेयिंग मांटीस (Praying Mantis), फुजिआन व्हाइट क्रेन(Fujian White Crane), विंग चुन और ताई ची चुआन.

1900-01 में, चीन में विदेशी कब्जेदारों और ईसाई मिशनरियों के खिलाफ धार्मिक और सुसंगत गुस्सा फूट पड़ा. विद्रोहियों द्वारा मार्शल आर्ट और व्यायाम विद्या का उपयोग किये जाने से पश्चिम में इस विद्रोह को बॉक्सर विद्रोह के रूप में जाना जाता है। हालांकि यह मूल रूप से मांचू चिंग राजवंश के विरोध में था, लेकिन महारानी डोवगर सिक्सी ने विद्रोहियों पर नियंत्रण स्थापित किया और विदेशी शक्तियों के विरुद्ध इसका उपयोग करने का प्रयास किया। विद्रोह की असफलता के दस साल बाद किंग राजवंश का पतन हो गया और चीनी गणतंत्र का निर्माण हुआ।

चीनी मार्शल आर्ट के मौजूदा विचार गणतांत्रिक अवधि (1912-1949) की घटनाओं से गहरे तौर पर प्रभावित हैं। क्विंग राजवंश के पतन तथा जापानी आक्रमण की खलबली और चीनी गृह युद्ध के संक्रमण काल में चीनी मार्शल आर्ट आम लोगों के लिए अधिक सुलभ हो गया, अधिक से अधिक मार्शल कलाकारों को खुले तौर पर अपनी कला सिखाने के लिए प्रोत्साहित किया गया। उस समय, कुछ लोग मार्शल आर्ट को राष्ट्रीय गौरव को बढ़ाने के और एक मजबूत राष्ट्र के निर्माण एक साधन के रूप में देखने लगे. परिणामस्वरुप, कई प्रशिक्षण नियम पुस्तिकाएं (拳谱) प्रकाशित हुईं, एक प्रशिक्षण अकादमी बनायी गयी, दो राष्ट्रीय परीक्षाएं आयोजित की गयीं और प्रदर्शन टीमों ने विदेश यात्रा की,[20] और चीन में तथा विदेश स्थित विभिन्न चीनी समुदायों के बीच अनेक मार्शल आर्ट संघों की स्थापना की गयी। 1928 में राष्ट्रीय सरकार द्वारा केन्द्रीय गुओशु अकादमी (झोंगयांग ग़ुओशुगुआन, 中央国术馆/中央国术) स्थापित की गयी[21] और 1910 में हुओ युआनजिआ द्वारा स्थापित जिंग वू एथलेटिक एसोसिएशन (精武体育会/精武体育会) उन संगठनों की मिसाल है, जिन्होंने चीनी मार्शल आर्ट के प्रशिक्षण में एक व्यवस्थित पद्धति को बढ़ावा दिया.[22][23][24] गणतांत्रिक सरकार द्वारा 1932 में चीनी मार्शल आर्ट को बढ़ावा देने के लिए प्रांतीय और राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के आयोजन की एक श्रृंखला शुरू की गयी। 1936 में, बर्लिन में 11वें ओलिंपिक खेलों में, पहली बार अंतरराष्ट्रीय दर्शकों के सामने चीनी मार्शल कलाकारों के एक समूह ने अपनी कला का प्रदर्शन किया। फलस्वरूप, उन प्रदर्शनों से एक खेल के रूप में मार्शल आर्ट को लोकप्रियता मिली.

चीनी गृह युद्ध की समाप्ति और 1 अक्टूबर 1949 को चीन के जनवादी गणराज्य की स्थापना से चीनी मार्शल आर्ट का अंतरराष्ट्रीय प्रसार बड़ी तेजी से हुआ। कई प्रसिद्ध मार्शल कलाकारों ने चीन के जनवादी गणराज्य के शासन से पलायन करके ताइवान, हांगकांग,[25] और विश्व के अन्य हिस्सों में शरण ली. उन शिक्षकों ने विदेशों में बसे चीनी समुदाय के लोगों को प्रशिक्षित करना शुरू किया, लेकिन अंततः उन्होंने अन्य जातीय समूहों के लोगों को भी शामिल करके अपने प्रशिक्षण का विस्तार किया।

चीन में, चीनी सांस्कृतिक क्रांति (969–1976) के अशांत वर्षों के दौरान पारंपरिक मार्शल आर्ट के अभ्यास को हतोत्साहित किया गया।[26] माओवादी क्रांतिकारी सिद्धांत के साथ तालमेल बैठाने के लिए चीन के जनवादी गणतंत्र द्वारा पारंपरिक चीनी जीवन के कई अन्य पहलुओं की तरह मार्शल आर्ट में भी मौलिक परिवर्तन किये गये।[26] चीन के जनवादी गणतंत्र ने मार्शल आर्ट के स्वतंत्र स्कूलों के स्थान पर समिति-संचालित वुशु खेल का आरंभ किया। इस नए खेल प्रतियोगिता को इस खेल के सशक्त विध्वंसकारी आत्म-रक्षा के पहलुओं और चीनी मार्शल आर्ट की पारिवारिक वंशावली से अलग कर दिया गया।[26] आलंकारिक भाषणों में वे बोलचाल का शब्द गोंगफू के बजाय कुओशु (Kuoshu) (या गुओशु, जिसका अर्थ होता है "राष्ट्र की कला") शब्द के उपयोग को प्रोत्साहित करने लगे, ताकि व्यक्तिगत उपलब्धि के बजाय चीनी मार्शल आर्ट को राष्ट्रीय गौरवके साथ अधिक घनिष्ठता से जोड़ा जा सके.[26] 1958 में, सरकार ने मार्शल आर्ट प्रशिक्षण को विनियमित करने के लिए बतौर एक छतरी संगठन ऑल-चीन वुशु एसोसिएशन की स्थापना की. शारीरिक संस्कृति और खेल के चीनी राज्य आयोग ने अधिकांश प्रमुख कलाओं को मानकीकृत रूप देने की पहल की. इस दौरान, एक राष्ट्रीय वुशु प्रणाली स्थापित की गयी, जिसमें मानक रूपों, शिक्षण पाठ्यक्रम और प्रशिक्षक श्रेणीकरण को शामिल किया गया। हाई स्कूल और विश्वविद्यालय स्तर पर वुशु की शुरूआत की गयी। पुनर्निर्माण के युग (1976-1989) के दौरान जब कम्युनिस्ट विचारधारा वैकल्पिक दृष्टिकोणों के साथ अधिक समझौतापरक हो गयी, तब पारंपरिक शिक्षण के दमन शिथिल हो गये।[27] 1979 में, शारीरिक संस्कृति और खेल के चीनी राज्य आयोग ने वुशु के शिक्षण और अभ्यास के पुनर्मूल्यांकन के लिए एक विशेष कार्य बल बनाया. 1986 में, चीन के जनवादी गणराज्य में वुशु गतिविधियों पर शोध तथा प्रशासन के लिए बतौर केंद्रीय प्राधिकारी वुशु का चीनी राष्ट्रीय शोध संस्थान स्थापित किया गया।[28] खेलों के प्रति सरकार की नीतियों और नजरिये में आम बदलाव आने से 1998 में स्टेट स्पोर्ट्स कमीशन (केंद्रीय खेल प्राधिकरण) बंद कर दिया गया। संगठित खेलों के आंशिक रूप से अ-राजनीतिकरण और चीनी खेल नीति के अधिक बाजारोन्मुखी होने के एक प्रयास के रूप में इस बंदी को देखा गया।[29] चीन के भीतर इन सामाजिक कारकों के बदलने के परिणामस्वरुप, पारंपरिक और आधुनिक दोनों प्रकार की वुशु शैलियों का चीनी सरकार द्वारा विकास किया जा रहा है।[30] चीनी मार्शल आर्ट अब चीनी संस्कृति का एक अभिन्न अंग बन गया है।[31]

शैलियां[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: List of Chinese martial arts
शंघाई के बंड में अभ्यास करते द यंग स्टाइल ऑफ़ ताइजीक्वान

मार्शल परंपरा में चीन का एक लंबा इतिहास है, जिसमें सैकड़ों विभिन्न शैलियां शामिल हैं। पिछले दो हजार साल में कई विशिष्ट शैली विकसित की गयीं और प्रत्येक का अपनी तकनीकों और विचारों का समुच्चय है।[32] विभिन्न शैलियों के आम विषय भी हैं, जो अक्सर "परिवारों" (家, jiā), "संप्रदायों" (派, pai) या "स्कूलों" (門, men) द्वारा वर्गीकृत किये जाते हैं। ऎसी भी शैलियां हैं जो पशुओं की गतिविधियों की नकल करती हैं और कुछ शैलियां विभिन्न चीनी दर्शनों, मिथकों और किंवदंतियों से प्रेरणा लेती हैं। कुछ शैलियां अपना अधिकांश ध्यान की (qi) के दोहन में लगाती हैं, जबकि अन्य प्रतियोगिता पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

चीनी मार्शल आर्ट में फर्क करने के लिए उन्हें विभिन्न श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है: मसलन, बाहरी (外家拳) और आंतरिक (内家拳).[33] चीन के किस भाग में शैलियों का उद्भव हुआ, उस स्थान या अवस्थिति के आधार पर भी चीनी मार्शल आर्ट को वर्गीकृत किया जा सकता है, जैसे कि उत्तरी (北拳) और दक्षिणी (南拳). यांग्तज़े नदी (चांग जियांग) यह विभाजन करती है। अपने प्रांत या शहर के अनुसार भी चीनी मार्शल आर्ट को वर्गीकृत किया जा सकता है।[20] उत्तरी और दक्षिणी शैलियों के बीच मुख्य अंतर यह है कि उत्तरी शैलियां तेज और शक्तिशाली किक्स, ऊंची कूद और आम तौर पर अस्थिर तथा त्वरित गति पर जोर दिया करती हैं, जबकि दक्षिणी शैलियां मजबूत भुजा और हाथ की तकनीकों, तथा स्थिर, दृढ़ मुद्रा और तेज फुटवर्क पर अधिक ध्यान देती हैं। उत्तरी शैलियों के उदाहरण में चांगकुआन और सिंग्यीकुआन शामिल हैं। दक्षिणी शैलियों में बक मेई, चोय ली फुट और विंग चुन शामिल हैं। धर्म, अनुकरणशील शैलियों (象形拳) और हुंग गर (洪家) जैसी पारिवारिक शैलियों के अनुसार भी चीनी मार्शल आर्ट को विभाजित किया जा सकता है। वर्गीकरण के प्रकार पर ध्यान दिए बिना चीनी मार्शल आर्ट के विभिन्न समूहों के बीच प्रशिक्षण में विशिष्ट अंतर हैं। हालांकि, कुछ अनुभवी मार्शल कलाकार ही आंतरिक और बाह्य शैलियों में एक स्पष्ट अंतर कर पते हैं, या उत्तरी पद्धतियों के मुख्यतः किक-आधारित और दक्षिणी पद्धतियों के ऊपरी शरीर पर अधिक निर्भर होने के विचार को ग्राह्य कर पाते हैं। अपने आंतरिक नामावली के बावजूद अधिकांश शैलियों में हार्ड और सॉफ्ट दोनों तत्व हुआ करते हैं। यिन और यांग सिद्धांतों के आधार पर अंतर का विश्लेषण करके दार्शनिकों ने जोर देकर बताया कि किसी एक की अनुपस्थिति प्रशिक्षार्थी के कौशल को असंतुलित या त्रुटिपूर्ण बना देगी, क्योंकि यिन और यांग दोनों ही अपने आपमें पूरे के आधे-आधे हैं। अगर इस तरह के अंतर एक बार अस्तित्व में आये, तबसे वे धुंधले हो गए।

प्रशिक्षण[संपादित करें]

चीनी मार्शल आर्ट के प्रशिक्षण में निम्नलिखित घटक शामिल हैं: मूल तत्व, प्रकार, उपयोग और हथियार; विभिन्न शैलियां प्रत्येक घटक पर अलग-अलग तरह से जोर दिया करती हैं।[34] इसके अलावा, चीनी मार्शल आर्ट द्वारा दर्शन, नैतिकता और यहां तक कि चिकित्सा पद्धति[35] का भी बहुत सम्मान किया जाता है। एक संपूर्ण प्रशिक्षण प्रणाली को चीनी प्रवृत्ति और संस्कृति के बारे में पूरा ज्ञान भी प्रदान करना चाहिए.[36]

मूल तत्व[संपादित करें]

मूल तत्व (基本功) किसी भी मार्शल प्रशिक्षण के लिए एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, क्योंकि उनके बिना कोई विद्यार्थी अधिक उन्नत चरणों की ओर प्रगति नहीं कर सकता. मूल तत्व आम तौर पर प्राथमिक तकनीकों, मुद्राओं सहित {1अनुकूलन व्यायामों{/1} से बने होते हैं। बुनियादी प्रशिक्षण में सरल गतिविधियां हो सकती हैं जिन्हें बार-बार दोहराना पड़ता है; बुनियादी प्रशिक्षण के अन्य उदाहरण हैं स्ट्रेचिंग, ध्यान, स्ट्राइकिंग, थ्रोइंग या जंपिंग. मजबूत और लचीली मांसपेशियों, की या सांस का प्रबंधन और उपयुक्त शरीर यांत्रिकी के बिना चीनी मार्शल आर्ट में किसी विद्यार्थी की प्रगति असंभव है।[37][38] चीनी मार्शल आर्ट के प्राथमिक प्रशिक्षण के बारे में एक आम कहावत निम्नलिखित है:[39]

内外相合,外重手眼身法步,内修心神意氣力。

जिसे इस प्रकार अनुवाद किया जा सकता है:

Train both Internal and External.

External training includes the hands, the eyes, the body and stances. Internal training includes the heart, the spirit, the mind, breathing and strength.

मुद्रा[संपादित करें]

चीनी मार्शल आर्ट प्रशिक्षण में नियोजित संरचनात्मक मुद्राएं ही मुद्रा (स्टेप्स या 步法) हैं।[40][41] वे नींव और एक लड़ाकू के आधारिक संरचना के अतिरंजित रूप का प्रतिनिधित्व करती हैं। प्रत्येक मुद्रा के लिए प्रत्येक शैली के अलग-अलग नाम और भिन्नताएं होती हैं। पैर की स्थिति, वजन का विभाजन, शरीर संरेखण, आदि द्वारा मुद्राओं में भेद किया जा सकता है। मुद्रा प्रशिक्षण का अभ्यास स्थिर रूप से किया जा सकता है, जिसका लक्ष्य एक निर्धारित समय अवधि में मुद्रा की बनावट को बनाए रखने के लिए होता है, या गतिशील रूप से, जिसमें क्रियाओं की एक श्रृंखला बार-बार दोहरायी जाती है। घुड़सवारी मुद्रा (骑马步/马步 qí mǎ bù/mǎ bù) और धनुष मुद्रा जैसी मुद्राओं की मिसालें चीनी मार्शल आर्ट की अनेक शैलियों में पायी जाती हैं।

ध्यान[संपादित करें]

अनेक चीनी मार्शल आर्ट में,ध्यान को प्राथमिक प्रशिक्षण का एक महत्वपूर्ण घटक माना जाता है। ध्यान केंद्रित करने में, दिमागी स्पष्टता के लिए और कीगोंग प्रशिक्षण के लिए एक आधार के रूप में कार्य कर सकने में ध्यान का उपयोग किया जा सकता है।[42][43]

की का प्रयोग[संपादित करें]

अनेक चीनी मार्शल आर्ट में की या ची (ch'i) (氣/气) के विचार का समागम होता है। की को नाना प्रकार से एक आंतरिक ऊर्जा या "जीवन शक्ति" के रूप में परिभाषित किया जाता है, जो प्राणियों में जान डाल देने के रूप में जाना जाता है; या सही हड्डियों के ढांचागत संरेखण और मांसपेशियों (कभी-कभी इसे फा जिन या जिन के नाम से भी जाना जाता है) के प्रभावी प्रयोग के लिए इस शब्द का प्रयोग होता है; या फिर मार्शल आर्ट का विद्यार्थी फिलहाल पूरी तरह समझ पाने को तैयार नहीं है, इस विचार की आशुलिपि के रूप में इसे परिभाषित किया जाता है। कोई जरुरी नहीं कि ये अर्थ परस्पर अनन्य हों.[note 1]

क्विगोंग के नाम से विख्यात विभिन्न शारीरिक और मानसिक व्यायामों के नियमित अभ्यास से व्यक्ति अपनी की में सुधार और मजबूती ला सकता है। हालांकि कीगोंग अपने-आपमें एक मार्शल आर्ट नहीं है, लेकिन यह अक्सर चीनी मार्शल आर्ट में शामिल कर लिया जाता है और, इस प्रकार, आंतरिक क्षमताओं को मजबूत करने के एक अभिन्न अंग के रूप में इसका अभ्यास किया जाता है।

किसी की की ऊर्जा को नियंत्रित करने को लेकर बहुत सारे विचार हैं, जैसे कि इसका इस्तेमाल अपने अथवा किसी का उपचार करने में किया जा सकता है: चिकित्सा कीगोंग का लक्ष्य है। कुछ शैलियां हमला करते समय एक बिंदु पर की को केंद्रित करती हैं और मानव शरीर के विशिष्ट क्षेत्रों पर निशाना साधने पर यकीन करती हैं। ऐसी तकनीक डिम मार्क के रूप में जानी जाती है और इसके सिद्धांत एक्यूप्रेशर से मिलते-जुलते हैं।[44]

हथियारों का प्रशिक्षण[संपादित करें]

अधिकांश चीनी शैलियां शरीर अनुकूलन और समन्वय तथा रणनीतिक कवायद के लिए चीनी हथियारों के व्यापक शस्त्रागार में प्रशिक्षण दिया करती हैं।[45] बुनियादी, विधियों और प्रशिक्षण अनुप्रयोगों में विद्यार्थी के प्रवीण हो जाने के बाद आम तौर पर हथियार प्रशिक्षण (qìxiè 器械) दिया जाता है। हथियार को शरीर का एक विस्तार समझना ही हथियार प्रशिक्षण का बुनियादी सिद्धांत है। मूल तत्व की ही तरह इसमें भी उसी तरह के फुटवर्क और शरीर समन्वय की आवश्यकता होती है।[46] हथियार प्रशिक्षण की प्रक्रिया विधियों, जोडीदारों के साथ विधियों और फिर अनुप्रयोगों के साथ आगे बढ़ती है। अधिकांश शैलियों में पद्धति के लिए खास विशेषीकृत उपकरणों सहित वुशु के अठारह शस्त्रोंमें से प्रत्येक के अपने प्रशिक्षण तरीके होते हैं।

अनुप्रयोग[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Sanshou

अनुप्रयोग मार्शल तकनीकों के सक्रिय उपयोग के लिए सन्दर्भित है। चीनी मार्शल आर्ट तकनीक आदर्शगत रूप से दक्षता और प्रभावशीलता पर आधारित हैं।[47][48][49] अनेक आंतरिक मार्शल आर्ट में पुशिंग हैंड्स जैसे अनमनीय कवायद अनुप्रयोग में शामिल हैं और विभिन्न संपर्क स्टारों और नियम-सेटों के अंदर मुक्केबाजी का अभ्यास भी इसमें शामिल होता है।

कब और कैसे अनुप्रयोग सिखाये जाते हैं, यह शैलियों के हिसाब से बदलता रहता है। आज, कई शैलियों ने अभ्यासों पर केंद्रित करना सिखाना शुरू किया है, जिसमें प्रत्येक विद्यार्थी एक निर्धारित सीमा में युद्ध और तकनीक की कवायद करना जानता है; ये कवायद अर्द्ध-नमनीय होते हैं, अर्थात एक विद्यार्थी साफ निष्पादन के लिए अपनी प्रदर्शनात्मकता में अपनी तकनीक का सक्रिय प्रतिरोधात्मक उपयोग नहीं करता है। अधिक सजीव अभ्यासों में, कम नियम लागू होते हैं और विद्यार्थी किस तरह प्रतिक्रिया करें और प्रत्युत्तर दें, इसका अभ्यास किया जाता है। 'मुक्केबाजी का अभ्यास' अनुप्रयोग प्रशिक्षण के सबसे महत्वपूर्ण पहलू के लिए सन्दर्भित है, जो विद्यार्थियों को गंभीर रूप से घायल होने के मौकों में कमी लाने के लिए नियमों और विनियमों को शामिल करके एक युद्ध जैसी स्थिति बनाता है।

चीनी मार्शल आर्ट की मुक्केबाजी प्रतियोगिताओं में लेई ताई (擂臺/擂台, ऊंचे मंचों की लड़ाई) और सांडा (散打) या सान्शौ (散手) की परम्पराएं शामिल हैं।[50] सोंग राजवंश में पहली बार दिखायी दिया लेईताई सार्वजनिक प्रतियोगिताओं का प्रतिनिधित्व करता है। उन स्पर्धाओं का उद्देश्य था अपने प्रतिद्वंद्वी को किसी भी आवश्यक उपाय से ऊंचे मंच से बाहर फेंक देना. सान्शौ और सांडा लेई ताई प्रतियोगिता के आधुनिक विकास का प्रतिनिधित्व करते हैं, लेकिन गंभीर चोट की आशंका को कम करने के लिए नियम बनाये गए हैं। अनेक चीनी मार्शल आर्ट स्कूल सान्शौ और सांडा के नियमों के तहत ही सिखाते या काम करते हैं; इसी तहत वे गतिविधियों, विशेषताओं और अपनी शैली के सिद्धांत को मिश्रित करते हैं।[51] चीनी मार्शल कलाकार मुक्केबाजी, किकबॉक्सिंग और मिश्रित मार्शल आर्ट सहित गैर-चीनी या मिश्रित युद्ध खेल प्रतिस्पर्धाओं में भी भाग लेते हैं।

विधियां[संपादित करें]

विधियां या चीनी भाषा में ताओलु चीनी : 套路; पिनयिन: tào lù पूर्वनिर्धारित संयुक्त गतिविधियों या संचलनों की श्रृंखला हैं, सो वे गतिविधियों के एक रेखीय सेट में अभ्यास कर सकते हैं। विधियां मूलतः एक विशेष शैली शाखा के वंश की रक्षा करने के लिए हुआ करती थीं और कला के वंश की रक्षा करने के लिए अक्सर उन्नत छात्रों को सिखायी जातीं थीं। विधियां इस तरह से बनायीं जातीं ताकि वे अनुप्रयोगिक तकनीक के शाब्दिक रूप से दोनों, प्रतिनिधिक और अभ्यास परक रूपों को शामिल कर सकें; वाद-विवाद सत्रों के माध्यम से विद्यार्थियों द्वारा जिनका सार तत्व निकाला जा सके, परीक्षण और प्रशिक्षण किया जा सके.[52]

आज, अनेक लोग विधियों को चीनी मार्शल आर्ट के महत्वपूर्ण अभ्यासों में एक मानते हैं। परंपरागत रूप से, उन्होंने युद्ध अनुप्रयोग प्रशिक्षण में एक छोटी-सी भूमिका निभायी और वाद-विवाद, कवायद तथा अनुकूलन द्वारा ग्रहणग्रस्त हो गए। विधियां कलाकार के लचीलेपन, आंतरिक तथा बाह्य शक्ति, गति और सहनशक्ति का धीरे-धीरे निर्माण करती हैं और संतुलन तथा समन्वय सिखाती हैं। कई शैलियों में एक या दोनों हाथों से विभिन्न लंबाई और प्रकार के हथियारों की एक विस्तृत श्रृंखला का उपयोग करने की विधियां शामिल हैं। ऐसी भी शैलियां हैं जो एक निश्चित प्रकार के हथियार पर ध्यान केंद्रित करती हैं। विधियां व्यावहारिक, उपयोगी और प्रयोज्य के साथ-साथ प्रवाह, ध्यान, लचीलापन, संतुलन और समन्वय के प्रवाह को बढ़ावा देने का दोनों उद्देश्य रखती हैं। शिक्षक अक्सर कहते हैं "अपने तरीके या विधि को साधो, जैसे कि तुम मुक्केबाजी करते हो उसी तरह एक मुक्केबाज की तरह तरीके को भी देखो."

चीनी मार्शल आर्ट में दो सामान्य प्रकार की विधियां हैं। सबसे आम हैं "एकल रूप", जो एक अकेले छात्र द्वारा किये जाते हैं। इसके अलावा "मुक्केबाजी के अभ्यास" के रूप भी हैं, जिन्हें दो या अधिक लोगों द्वारा लड़ाकू सेटों के आयोजन से प्रदर्शित किया जाता है। मुक्केबाजी के अभ्यास की विधि इस प्रकार से बनायी गयी है कि नए योद्धाओं को इसके बुनियादी उपायों तथा युद्ध की अवधारणा से अवगत कराया जाय और स्कूल के लिए प्रदर्शन अभ्यासों के काम भी आ सके. जो हथियारों का इस्तेमाल करते हैं, लड़ाई के वो रूप विद्यार्थियों को हथियार चलाने के लिए जरुरी विस्तार, दूरी और तकनीक के शिक्षण के लिए विशेष रूप से उपयोगी होते हैं।

विवाद[संपादित करें]

चीनी मार्शल आर्ट की विधियां यथार्थवादी मार्शल तकनीकों को दर्शाती हैं, इसके बावजूद युद्ध में इन तकनीकों को किस तरह लागू किया जाएगा, इस पर गतिविधियां हमेशा समरूप नहीं होतीं. ऊपर कई विधियों का वर्णन किया गया है, एक तरफ बेहतर युद्ध तैयारियां प्रदान करने के लिए और दूसरी ओर सौंदर्यबोध की दृष्टि से और अधिक ध्यान दिया गया है। निचली मुद्रा और उच्च, स्ट्रेचिंग किक्स का उपयोग, विस्तार की ओर इस प्रवृत्ति की एक अभिव्यक्ति है जो युद्ध अनुप्रयोग के परे चली जाती है। ये दो युक्तियां युद्ध में अवास्तविक हैं और अभ्यास प्रयोजनों के लिए विधियों में इनका इस्तेमाल हुआ करता है।[53] कई आधुनिक स्कूलों ने व्यावहारिक प्रतिरोध या आक्रमण गतिविधियों के बदले कलाबाजी करतबों को स्थान दे दिया है, जो देखने में अधिक चमत्कारिक लगते हैं, इसीलिए प्रदर्शनियों और प्रतियोगिताओं के दौरान इन्हें प्रोत्साहन मिलता है।[note 2] परंपरावादियों ने इस तमाशा-परक वुशु प्रतियोगिता में और अधिक कलाबाजी के अनुमोदन की आलोचना की.[54] हालांकि कई पारंपरिक रूपों में रूप-रंग और दिखावट भी हमेशा ही महत्वपूर्ण रहा है, लेकिन सभी स्वरुप अपने युद्ध कार्यात्मकता के कारण ही अस्तित्व में हैं। ऐतिहासिक रूप से, आधुनिक वुशु के आगमन से बहुत पहले अक्सर मनोरंजन प्रयोजनों के लिए विधियों का प्रदर्शन किया जाता रहा है; अनुपूरक आय के लिए कलाकार सड़कों या थिएटरों में प्रदर्शन किया करते. युआन राजवंश के दौरान पूरी तरह से प्रदर्शन के लिए तैयार की गयी विधियां पहली बार दिखाई दीं.

अनेक पारंपरिक चीनी मार्शल कलाकार और आधुनिक खेल के पेशेवर इस पर आलोचनात्मक विचार रखते हैं कि विधियों का काम कला के लिए अधिक प्रासंगिक है, न कि मुक्केबाजी और अभ्यास अनुप्रयोगों के; जबकि अधिकांश द्वारा पारंपरिक सन्दर्भ में परंपरागत रूपों के अभ्यास को देखना जारी है- जो उचित युद्ध निष्पादन के लिए दोनों, एक कला के रूप में शाओलिन कलात्मकता और शारीरिक कला शैली के ध्यानी कार्य को बनाये रखने के महत्वपूर्ण है।[55]

मुक्केबाजी अनुप्रयोगों से तकनीक की तुलना करने पर यह अक्सर अलग-अलग रूपों में दिखाई देता हैं, कुछ लोगों को इसका एक कारण यह लगा कि बाहरी लोगों से तकनीकों के असली कार्यों को छिपाने के कारण ऐसा होता है।[56]

वुशु[संपादित करें]

साफ़ रूटीन में देखा गया, वुशु के खेल में आधुनिक रूपों उपयोग किया जाता है
इन्हें भी देखें: Wushu (sport)

जैसा कि इनके रूप सालों से जटिलताओं के बीच और बड़े पैमाने पर विकसित हुए हैं और इसके बहुत सारे रूपों का आजीवन अभ्यास किए जा सकता है, इसीलिए चीनी मार्शल आर्ट्स की शैलियां इस तरह विकसित की गयी हैं कि ये पूरी तरह से अपने रूपों में केंद्रित हैं और अनुप्रयोग का अभ्यास इसमें बिल्कुल नहीं होता. इन शैलियों का प्राथमिक लक्ष्य प्रदर्शन और प्रतिस्पर्धा है और पारंपरिक शैली की तुलना मेंअक्सर इसमें दृश्यात्मक प्रभाव में इजाफा करने के लिए[57] इसमें एरोबिक्स जंप और गतिविधियों को भी शामिल किया जाता है। आमतौर पर जो परंपरागत शैली का अभ्यास करते हैं वे दिखावे पर ध्यान कम देते हैं और वे परंपरावादी कहलाते हैं। बहुत सारे परंपरावादियों का मानना है कि आधुनिक चीनी मार्शल आर्ट्स का विकास अवांछनीय है, उनका कहना है कि इसकी वास्तविक मान्यताओं का ह्रास हो गया है और नई शैली को वे आलांकारिक मुक्केबाजी और दिखावटी तरीके से लात चलाना कहते हैं।[58][59]

"मार्शल नैतिकता"[संपादित करें]

मार्शल आर्ट्स के परंपरागत स्कूल, शाओलिन भिक्षुओं ने जैसा इसे बनाया, आमतौर पर मार्शल आर्ट्स के अध्ययन से जुदा है, यह न केवल आत्मरक्षा अथवा मानसिक प्रशिक्षण का जरिया है, बल्कि नैतिकता की एक पद्धति भी है।[36][60] वुडे ( ) का अनुवाद "मार्शल नैतिकता" के रूप में किया जा सकता है और इसका निर्माण "वू" () जिसका मतलब मार्शल है और "डी" (), जिसका अर्थ नैतिकता है, जैसे दो शब्दों से हुआ है। वुडे (武德) के दो पहलू हैं; "कार्य की नैतिकता" और "मन की नैतिकता". कार्य की नैतिकता का संबंध सामाजिक संबंधों से है, मानसिक नैतिकता का अर्थ भावनात्मक मन (Xin, ) और बौद्धिक मन (Hui, ) के बीच आंतरिक सद्‍भावना पैदा करना है। अंतिम लक्ष्य वी वू है पहुँचने कोई सिरा (Wuji, 极) की अवधारणा को Taoist संबंधित (निकट), जहां दोनों ज्ञान और भावनाओं अन्य प्रत्येक के साथ सद्भाव में हैं।

गुण:

क्रिया
अवधारणा येल रोमीयकरण पारंपरिक हंजी (Hanzi) सरलीकृत हंजी (Hanzi) पुटोंघुआ (Putonghua) केनटोनीज (Cantonese)
विनम्रता कियन (Qian) कियन हिम (him)
ईमानदारी चेंग (Cheng) चेंग (chéng) सिंग (sing)
शिष्टता ली (Li) ली (lǐ) लाई (lai)
निष्ठा यी (Yi) यी (yì) जी (ji)
भरोसा जिन जिन (Xin) सन (sun)
मस्तिष्क
अवधारणा येल रोमीयकरण हंजी (Hanzi) पुटोंघुआ (Putonghua) केनटोनीज
साहस योंग (Yong) योंग (yǒng) युंग (yung)
धैर्य रेन (Ren) रेन (rěn) जैन (jan)
सहनशीलता हेंग (Heng) हेंग (héng) हैंग (hang)
दृढ़ता यी (Yi) यी (yì) नगई (ngai)
अभिलाषा ज़ही (Zhi) जही (zhì) जी (ji)

== ख्यातिप्राप्त पेशेवर

==
इन्हें भी देखें: वर्ग: चीनी मार्शल कलाकार और वर्ग: वुशु पेशेवर

समग्र इतिहास में ख्यातिप्राप्त पेशेवरों (武术名师) के उदाहरण:

वाँग फी हन्ग का एक कथित तस्वीर.कुछ इस विवाद, हालांकि, हड़ताली समानता के लिए एक ज्ञात आदमी की एक तस्वीर और इशारा करने के लिए वाँग फी हन्ग का बेटा है।
  • यू फ़ी (1103-1142 ई.सं) एक प्रसिद्ध चीनी सैन्य जनरल और सोंग राजवंश के देशभक्त थे। ईगल क्लॉ और जिंगयी जैसी शैलियां की रचना का श्रेय यू को जाता है। हालांकि इस दावे के समर्थन के लिए ऐतिहासिक प्रमाण नहीं है कि उन्होंने इन शैलियों का इजाद किया।
  • नेग मुई (1600वीं का आखिरी चरण) विंग चुन कुयेन,ड्रैगॉन स्टाइल और फुजियन ह्वाइट क्रेन जैसी बहुत सारे दक्षिणी मार्शल आर्ट्स की किंवदंती महिला संस्थापक थीं। किंग राजवंश के समय में शाओलिन टेंपल के विध्वंस में बच जानेवाले किंवदंती फाइव एल्डर्स में उन्हें भी एक माना जाता है।
  • यांग लुचेन (1799-1872) 19वीं शताब्दी के द्वितीय मध्य में बीजिंग में ताई ची चुआन कहलानेवाले आतंरिक मार्शल आर्ट्स के एक विशिष्ट शि‍क्षक हुआ करते थे। यांग को यांग शैली का ताई ची चुआन के संस्थापक के रूप में और साथ ही साथ वु/हाव, वु और सुन ताई ची परिवारों में इस कला को प्रेषित करनेवाले के रूप में जाना जाता है।
  • किंग राजवंश (1644-1912) के अंतिम समय में टेन टाइगर्स ऑफ कैंनटॉन (1800 सदी का अंतिम चरण में) गुआंगडोंग (कैनटॉन) में दस सर्वश्रेष्ठ चीनी मार्शल आर्ट्स के मास्टरों का एक दल हुआ करता था। वांग फी हंग के पिता वांग की यिंग इस दल के सदस्य थे।
  • रिपब्लिकन दौर में वांग फी हंग (1847-1924) को चीनी लोक नायक के रूप में जाना जाता था। इनके जीवन पर सौ से भी ज्यादा हांग कांग सिनेमा बने. इस ब्लॉकबस्टर फिल्म में साम्मो हंग, चैकी चान और जेट ली – सभी ने उनके चरित्र को निभाया है।
  • हुओ युआंजिया (1867-1910) चिन वू एथलेटिक एकसोसिएशन के संस्थापक थे, जो विदेशियों के साथ अपने बहुप्रचारित मैच के लिए जाने जाते थे। उनकी जीवनी को हाल ही में फियरलेस (2006) नामक सिनेमा में चित्रित किया गया।
  • यिप मैन (1893-1972) विंग चुन के मास्टर हुआ करते थे और ये पहले मास्टर थे, जिन्होंने पहली बार खुलेआम इस शैली को सिखाया. यिप मैन ब्रूस ली के शिक्षक थे। विंग चुन की ज्यादातर शाखाएं जो आज अस्तित्व में हैं, यिप मैन के शार्गिदों द्वारा विकसित और प्रचारित किए गए थे।
  • ब्रूस ली (1940-1973) एक चीनी- अमेरिकी मार्शल आर्ट्स के कलाकार और अभिनेता थे, जिन्हें 20वीं सदी में एक प्रभावशाली आदर्श माना जाता था।[61] उन्होंने विंग चुन का अभ्यास किया और इसे प्रसिद्ध बनाया. अपने आधार के रूप में विंग चुन का प्रयोग करते हुए और अन्य मार्शल आर्ट्स के प्रभावों को सीखते हुए उनके अनुभव का दायरा बढ़ता चला गया। बाद में उन्होंने अपने मार्शल आर्ट्स के दर्शन को विकसित किया जो कि जीत कुने डू के नाम से जाना जाता है।
  • जैकी चान (जन्म 1954) हांग कांग मार्शल आर्ट्स के कलाकार और अभिनेता हैं, व्यापक रूप से जिन्हें मार्शल आर्ट्स करते हुए उसके साथ शरीरिक करतब से हंसाने और बहुत सारे फिल्मों में जटिल स्टंट करने के लिए जाना जाता है।
  • जेट ली (जन्म 1963) चीन के वुशु स्पोर्ट्स के पांच बार के चैंपियन हैं, बाद में अपने कौशल का प्रदर्शन उन्होंने फिल्मों में किया।

लोकप्रिय संस्कृति[संपादित करें]

अवधारणाओं के सन्दर्भ और चीनी मार्शल आर्ट का उपयोग लोकप्रिय संस्कृति में पाया जा सकता है। ऐतिहासिक रूप से, चीनी मार्शल आर्ट का प्रभाव पुस्तकों और कला प्रदर्शन में पाया जा सकता है, विशेष रूप से एशिया में. हाल ही में, उन प्रभावों का विस्तार फिल्मों और टेलीविजन में हुआ है, बड़े पैमाने में दर्शक जिनका लक्ष्य हैं। परिणामस्वरुप, चीनी मार्शल आर्ट का विस्तार नस्लीय मूल से परे जा चुका है और इसका एक वैश्विक आकर्षण है।[62][63]

मार्शल आर्ट्स साहित्यिक विधा में प्रमुख भूमिका अदा करता है जो वुक्सिया (wuxia) (武侠小说) कहलाता है। इस तरह का उपन्यास वीरता, जिसका एक भिन्न मार्शल आर्ट्स समाज (वुलिन, (Wulin) 武林) है, के चीनी अवधारणा पर आधारित होता है और जिसका केंद्रीय विषय मार्शल आर्ट्स होता है।[64] ईसा पूर्व (BCE) 2री और 3री शताब्दी में वुक्सिया (Wuxia) कहानियों तक पता लगाया जा सकता है, तांग राजवंश द्वारा लोकप्रिय हुआ और मिंग राजवंश द्वारा उपन्यास में विकसित हुआ। यह विधा अब भी एशिया में काफी लोकप्रिय है और यह मार्शल आर्ट्स की अवधारणा में एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक प्रभाव डालता है।

चीनी ओपेरा जिसमें बीजिंग ओपेरा एक सर्वश्रेष्ठ ज्ञात मिसाल है, में भी मार्शल आर्ट्स का प्रभाव देखा जा सकता है। नाटक की यह लोकप्रिय शैली तांग राजवंश के समय की है और आगे चल कर चीनी संस्कृति की एक मिसाल बन गयी। कुछ मार्शल आर्ट्स आंदोलन चीनी ओपेरा पाये जा सकते हैं और और कुछ मार्शल आर्ट्स के कलाकार चीनी ओपेराओं में बतौर कलाकार पाये जा सकते हैं।

आजकल चीनी मार्शल आर्ट्स सिनेमा विधा में छा चुका है जो चीनी मार्शल आर्ट्स फिल्म के रूप में जाना जाता है। 1970 के दशक में चीनी मार्शल आर्ट्स के शुरूआती समय में पश्चिम में लोकप्रियता फैलाने में ब्रुश ली की फिल्में सहायक रहीं.[65]

फिल्मों की इस विधा में मार्शल कलाकार और अभिनेता जेट ली और जैकी चान का आकर्षण बरकरार है। चीन की मार्शल आर्ट्स फिल्में आमतौर पर "कुंग फू सिनेमा" (功夫片) अथवा अगर विशेष प्रभाव के लिए तार से करतब दिखाया जाता है तो "वायर-फू" रूप में जाना जाता है और आज भी परंपरागत कुंगफू थिएटर का हिस्सा के रूप में यह बेहतर जाना जाता है (इन्हें भी देखें: वाक्सिया, हांगकांग एक्शन सिनेमा).

पश्चिम में कुंग फू आम एक्शन मसाला बन चुका है और बहुत सारी फिल्मों में दिख जाता है, जो कि आमतौर पर यह "मार्शल आर्ट्स" फिल्म नहीं माना जाता है। इन फिल्मों में द मैट्रिक्स ट्रायोलॉजी, किल बिल और द ट्रांसपोर्टर शामिल है, लेकिन यह यहीं तक सीमित नहीं है।

मार्शल आर्ट्स के विषय टेलीविजन नेटवर्क पर पाया जा सकता है। एक U.S. नेटवर्क की 1970 के दशक के शुरुआत के टीवी पश्चिमी श्रृंखला कुंग फू ने भी टेलीविजन सेवा पर चीनी मार्शल आर्ट्स को बहुत लोकप्रिय बनाया. 60 कडि़यों के साथ यह तीन सालों तक चलनेवला उत्तरी उमेरिका का यह पहला टीवी शो था, जिसने चीनी मार्शल आर्ट्स के दर्शन और अभ्यास को लोगों तक पहुंचाने की कोशिश की.[66][67] चीनी मार्शल आर्ट्स तकनीक का उपयोग अब अधिकांश टीवी एक्शन श्रृंखला में पाया जा सकता है, हालांकि चीनी मार्शल आर्ट्स का दर्शन गहराई से बहुत ही कम दिखाया जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. Pages 26–33[20]
  2. Pages 118–119[52]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Jamieson, John; Tao, Lin; Shuhua, Zhao (2002). Kung Fu (I): An Elementary Chinese Text. The Chinese University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-962-201-867-9.
  2. Van de Ven, Hans J. (2000). Warfare in Chinese History. Brill Academic Publishers. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 90-04-11774-1. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  3. Graff, David Andrew; Robin Higham (2002). A Military History of China. Westview Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8133-3990-1. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)Peers, C.J. (27 जून 2006). Soldiers of the Dragon: Chinese Armies 1500 BC–1840 AD. Osprey Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-84603-098-6. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  4. Green, Thomas A. (2001). Martial arts of the world: an encyclopedia. ABC-CLIO. पपृ॰ 26–39. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781576071502.
  5. Bonnefoy, Yves (15 मई 1993). Asian Mythologies. trans. Wendy Doniger. University Of Chicago Press. पृ॰ 246. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-226-06456-5. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  6. चीनी कुओशु संस्थान. सहई जिओं का इतिहास . 30 जनवरी 2006 को पुनःप्राप्त.
  7. Gewu, Kang (1995). Spring Autumn: The Spring and Autumn of Chinese Martial Arts—5000 Years. Plum Publishing. ASIN B000GGXF7I.
  8. क्लासिक ऑफ़ राइट्स. अध्याय 6, युएलिंग. पंक्ति 108.
  9. Henning, Stanley E. (Fall 1999). "Academia Encounters the Chinese Martial arts" (PDF). China Review International. 6 (2): 319–332. डीओआइ:10.1353/cri.1999.0020. ISSN 1069-5834.
  10. ट्रांस. और एड. ज्हैंग ज्यू (1994), पीपी 367-370, हेनिंग के बाद उद्धृत (1999) पृष्ठ 321 और नोट 8.
  11. Sports & Games in Ancient China (China Spotlight Series). China Books & Periodicals Inc. 1986. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8351-1534-8. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  12. Lao, Cen (1997). "The Evolution of T'ai Chi Ch'uan". The International Magazine of T'ai Chi Ch'uan. खण्ड 21 अंक. 2. Wayfarer Publications. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0730-1049. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  13. Dingbo, Wu; Patrick D. Murphy (1994). Handbook of Chinese Popular Culture. Greenwood Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-313-27808-3.
  14. Padmore, Penelope (2004). "Druken Fist". Black Belt. Active Interest Media. पृ॰ 77. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  15. Wong, Kiew Kit (2002). The Complete Book Of Shaolin. Cosmos Internet Sdn Bhd. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 983-40879-1-8.
  16. Shahar, Meir (2000). "Epigraphy, Buddhist Historiography, and Fighting Monks: The Case of The Shaolin Monastery". Asia Major Third Series. 13 (2): 15–36.
  17. Shahar, Meir (2001). "Ming-Period Evidence of Shaolin Martial Practice". Harvard Journal of Asiatic Studies. Harvard-Yenching Institute. 61 (2): 359–413. डीओआइ:10.2307/3558572. ISSN 0073-0548. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |value= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  18. Kansuke, Yamamoto (1994). Heiho Okugisho: The Secret of High Strategy. W.M. Hawley. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-910704-92-9.
  19. Kim, Sang H. (2001). Muyedobotongji: The Comprehensive Illustrated Manual of Martial Arts of Ancient Korea. Turtle Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1880336533. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  20. Kennedy, Brian; Elizabeth Guo (11 नवंबर 2005). Chinese Martial Arts Training Manuals: A Historical Survey. North Atlantic Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-55643-557-6. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  21. Morris, Andrew (2000). "National Skills: Guoshu Martial arts and the Nanjing State, 1928–1937". 2000 AAS Annual Meeting, March 9–12, 2000. San Diego, CA, USA. http://www.aasianst.org/absts/2000abst/China/C-6.htm. अभिगमन तिथि: 4 जून 2008. 
  22. Brownell, Susan (1 अगस्त 1995). Training the Body for China: sports in the moral order of the people's republic. University of Chicago Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-226-07646-6. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  23. Mangan, J. A.; Fan Hong (29 सितंबर 2002). Sport in Asian Society: Past and Present. UK: Routledge. पृ॰ 244. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7146-5342-X. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); |year= / |date= mismatch में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  24. Morris, Andrew (13 सितंबर 2004). Marrow of the Nation: A History of Sport and Physical Culture in Republican China. University of California Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-520-24084-7. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  25. एमोस, डैनियल माइल्स (1983) "मार्जिनिलिटी एण्ड द हीरो'ज़ आर्ट: हांगकांग में मार्शल कलाकार और गुआंगज़ौ (केण्टन)", लॉस एंजिल्स (अमेरिका) में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, जुलाई 1984, यूएम 8408765
  26. Fu, Zhongwen (9 मई 2006). Mastering Yang Style Taijiquan. Louis Swaine. Berkeley, California: Blue Snake Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-58394-152-5 (trade paper) |isbn= के मान की जाँच करें: invalid character (मदद). नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  27. Kraus, Richard Curt (28 अप्रैल 2004). The Party and the Arty in China: The New Politics of Culture (State and Society in East Asia). Rowman & Littlefield Publishers, Inc. पृ॰ 29. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-742-52720-4. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  28. Bin, Wu; Li Xingdong and Yu Gongbao (1 जनवरी 1995). Essentials of Chinese Wushu. Beijing: Foreign Languages Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 7-119-01477-3. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |unused_data= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  29. Riordan, Jim (14 सितंबर 1999). Sport and Physical Education in China. Spon Press (UK). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-419-24750-5. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)पृष्ठ 15
  30. 8थ IWUF कांग्रेस के मिनट्स, इंटरनैशनल वुशु फेडरेशन, 9 दिसम्बर 2005 (01/2007 को पुनःप्राप्त)
  31. Zhang, Wei; Tan Xiujun (1994). "Wushu". Handbook of Chinese Popular Culture. Greenwood Publishing Group. pp. 155–168. 9780313278082. 
  32. Yan, Xing (1 जून 1995). Liu Yamin, Xing Yan, संपा॰. Treasure of the Chinese Nation—The Best of Chinese Wushu Shaolin Kungfu (Chinese संस्करण). China Books & Periodicals. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 7-800-24196-3. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  33. Tianji, Li; Du Xilian (1 जनवरी 1995). A Guide to Chinese Martial Arts. Foreign Languages Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 7-119-01393-9. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  34. Liang, Shou-Yu; Wen-Ching Wu (1 अप्रैल 2006). Kung Fu Elements. The Way of the Dragon Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-889-65932-0. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  35. Schmieg, Anthony L. (2004). Watching Your Back: Chinese Martial Arts and Traditional Medicine. University of Hawaii Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-824-82823-2. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  36. Hsu, Adam (15 अप्रैल 1998). The Sword Polisher's Record: The Way of Kung-Fu (1st संस्करण). Tuttle Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8048-3138-6. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  37. Wong, Kiew Kit (15 नवंबर 2002). The Art of Shaolin Kung Fu: The Secrets of Kung Fu for Self-Defense, Health, and Enlightenment. Tuttle Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-804-83439-3. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  38. Kit, Wong Kiew (1 मई 2002). The Complete Book of Shaolin: Comprehensive Program for Physical, Emotional, Mental and Spiritual Development. Cosmos Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9-834-08791-8. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  39. Zhongguo da bai ke quan shu zong bian ji wei yuan hui "Zong suo yin" bian ji wei yuan hui, Zhongguo da bai ke quan shu chu ban she bian ji bu bian (1994). Zhongguo da bai ke quan shu (中国大百科全书总编辑委員会) [Baike zhishi (中国大百科, Chinese Encyclopedia)] (चीनी में). Shanghai:Xin hua shu dian jing xiao. पृ॰ 30. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 7-500-00441-9.
  40. Mark, Bow-Sim (1981). Wushu basic training (The Chinese Wushu Research Institute book series). Chinese Wushu Research Institute. ASIN B00070I1FE.
  41. Wu, Raymond (20 मार्च 2007). Fundamentals of High Performance Wushu: Taolu Jumps and Spins. Lulu.com. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-430-31820-1. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  42. Jwing-Ming, Yang (25 जून 1998). Qigong for Health & Martial Arts, Second Edition: Exercises and Meditation (Qigong, Health and Healing) (2 संस्करण). YMAA Publication Center. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-886-96957-4. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  43. Raposa, Michael L. (2003). Meditation & the Martial Arts (Studies in Rel & Culture). University of Virginia Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-813-92238-0. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  44. Montaigue, Erle; Wally Simpson (1997). The Main Meridians (Encyclopedia Of Dim-Mak). Paladin Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-581-60537-4. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  45. Yang, Jwing-Ming (25 जून 1999). Ancient Chinese Weapons, Second Edition: The Martial Arts Guide. YMAA Publication Center. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-886-96967-1. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  46. Wang, Ju-Rong; Wen-Ching Wu (13 जून 2006). Sword Imperatives--Mastering the Kung Fu and Tai Chi Sword. The Way of the Dragon Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-889-65925-8. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  47. Lo, Man Kam (1 नवंबर 2001). Police Kung Fu: The Personal Combat Handbook of the Taiwan National Police. Tuttle Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-804-83271-4. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  48. Shengli, Lu (9 फरवरी 2006). Combat Techniques of Taiji, Xingyi, and Bagua: Principles and Practices of Internal Martial Arts. trans. Zhang Yun. Blue Snake Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-583-94145-2. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  49. Zhongyi, Tong (21 अक्टूबर 2005). The Method of Chinese Wrestling. trans. Tim Cartmell. Blue Snake Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-556-43609-2. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  50. Hui, Mizhou (1996). San Shou Kung Fu Of The Chinese Red Army: Practical Skills And Theory Of Unarmed Combat. Paladin Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-873-64884-6. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  51. Liang, Shou-Yu; Tai D. Ngo (25 अप्रैल 1997). Chinese Fast Wrestling for Fighting: The Art of San Shou Kuai Jiao Throws, Takedowns, & Ground-Fighting. YMAA Publication Center. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-886-96949-3. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  52. Bolelli, Daniele (20 फरवरी 2003). On the Warrior's Path: Philosophy, Fighting, and Martial Arts Mythology. Frog Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-583-94066-9. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  53. Kane, Lawrence A. (2005). The Way of Kata. YMAA Publication Center. पृ॰ 56. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-594-39058-4.
  54. Johnson, Ian; Sue Feng (अगस्त 20, 2008). "Inner Peace? Olympic Sport? A Fight Brews". Wall Street Journal. अभिगमन तिथि 22 अगस्त 2008.
  55. Fowler, Geoffrey; Juliet Ye (दिसम्बर 14, 2007). "Kung Fu Monks Don't Get a Kick Out of Fighting". Wall Street Journal. अभिगमन तिथि 22 अगस्त 2008. |title= में 15 स्थान पर line feed character (मदद)
  56. Seabrook, Jamie A. (2003). Martial Arts Revealed. iUniverse. पृ॰ 20. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0595282474.
  57. Shoude, Xie (1999). International Wushu Competition Routines. Hai Feng Publishing Co., Ltd. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9-622-38153-7.
  58. Parry, Richard Lloyd (अगस्त 16, 2008). "Kung fu warriors fight for martial art's future". London: Times Online. अभिगमन तिथि 22 अगस्त 2008.
  59. Polly, Matthew (2007). American Shaolin: Flying Kicks, Buddhist Monks, and the Legend of Iron Crotch : an Odyssey in the New China. Gotham. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9-781-59240262-5.
  60. Deng, Ming-dao (19 दिसंबर 1990). Scholar Warrior: An Introduction to the Tao in Everyday Life (1st संस्करण). HarperOne. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-062-50232-8. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  61. Joel Stein (14 जून 1999). "ТІМЕ 100: Bruce Lee". Time. अभिगमन तिथि 9 जून 2008. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  62. Prashad, Vijay (18 नवंबर 2002). Everybody Was Kung Fu Fighting: Afro-Asian Connections and the Myth of Cultural Purity. Beacon Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-807-05011-3. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  63. Kato, M. T. (8 फरवरी 2007). From Kung Fu to Hip Hop: Globalization, Revolution, and Popular Culture (Suny Series, Explorations in Postcolonial Studies). State University of New York Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-791-46992-1. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  64. Denton, Kirk A.; Bruce Fulton and Sharalyn Orbaugh (15 अगस्त 2003). "Chapter 87. Martial-Arts Fiction and Jin Yong". प्रकाशित Joshua S. Mostow. The Columbia Companion to Modern East Asian Literature. Columbia University Press. पृ॰ 509. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-231-11314-5. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  65. Schneiderman, R. M. (23 मई 2009). "Contender Shores Up Karate's Reputation Among U.F.C. Fans". The New York Times. अभिगमन तिथि 30 जनवरी 2010.
  66. Pilato, Herbie J. (15 मई 1993). Kung Fu Book of Caine (1st संस्करण). Tuttle Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-804-81826-6. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  67. Carradine, David (15 जनवरी 1993). Spirit of Shaolin. Tuttle Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-804-81828-2. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)

साँचा:People's Republic of China topics