चिमटा (वाद्य यंत्र)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चिमटा
चिमटा
चिमटा
वर्गीकरण

idiophone

इस श्रेणी के अन्य वाद्य

ढोल

संगीतज्ञ

आलम लोहार, आरिफ़ लोहार, कमाल हीर

चिमटा ( पंजाबी: ਚਿਮਟਾ , शाहमुखी : چمٹا‎ ) समय के साथ एक वाद्य यंत्र के रूप में भी प्रयोग में लाया गया है। यह दक्षिण एशिया के एक पारंपरिक वाद्य यंत्र के रूप में विकसित हुआ। यह वाद्ययंत्र अक्सर लोकप्रिय पंजाबी लोक गीत, भांगड़ा संगीत और सिख धार्मिक संगीत में गुरबानी कीर्तन के रूप में जाना जाता है।

अगर वादक एक हाथ में चिमटा जोड़ कर रखता है और उसके दोनों किनारों को एक साथ टकराने देता है, तो चिमटा चीं-चीं ध्वनि उत्पन्न करता है। चिमटा धातु से बना होता हैं और इस प्रकार यह एक धात्विक ध्वनि पैदा करता है और गीत की ताल को बनाए रखने में मदद करता है।[1]

भांगड़ा संगीत या शादियों में अक्सर इसे ढोल और भांगड़ा नर्तकों के साथ जोड़ा जाता है।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Maps Of India". मूल से 11 August 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 September 2011.