चित्राल ज़िला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चित्राल ज़िला
چترال
Chitral
मानचित्र जिसमें चित्राल ज़िला چترال‎ Chitral हाइलाइटेड है
सूचना
राजधानी : चित्राल
क्षेत्रफल : १४,८५० किमी²
जनसंख्या(२००४):
 • घनत्व :
३,७८,०००
 २५/किमी²
उपविभागों के नाम: तहसीलें
उपविभागों की संख्या:
मुख्य भाषा(एँ): खोवार


चित्राल (उर्दू: چترال‎, अंग्रेज़ी: Chitral) पाकिस्तान के ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा प्रांत के सबसे उत्तरी भाग में स्थित एक ज़िला है। यह उस प्रान्त का सबसे बड़ा ज़िला है। इसका क्षेत्रफल १४,८५० वर्ग किमी है और १९९८ की जनगणना में इसकी आबादी ३,१८,६८९ थी। ७,७०८ मीटर ऊँचा तिरिच मीर, जो दुनिया के सबसे ऊंचे पहाड़ों में से है, इस ज़िले में स्थित है। चित्राल ज़िले की राजधानी चित्राल शहर है।[1]

विवरण[संपादित करें]

चित्राल ज़िला पाकिस्तान और ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा प्रान्त दोनों का सबसे उत्तर का ज़िला है। इसके पश्चिम और उत्तर में अफ़ग़ानिस्तान है। उत्तर में अफ़ग़ानिस्तान का वाख़ान गलियारा आता है जो कुछ स्थानों पर सिर्फ १६ किमी चौड़ा है जिसके पार ताजिकिस्तान स्थित है। चित्राल ज़िले के पूर्व में गिलगित-बलतिस्तान (पाक-अधिकृत कश्मीर का हिस्सा) है और दक्षिण में ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा के ही ऊपरी दीर और स्वात ज़िले स्थित हैं। चित्राल ज़िले के कुछ भाग में पामीर पर्वत आते हैं इसलिए यह ज़िला बहुत ही पहाड़ी क्षेत्र है।

चित्राल ज़िला पाकिस्तान और गिलगित-बलतिस्तान से सिर्फ़ दो सड़कों से जुड़ा हुआ है। एक तो लोवारी दर्रे से होती हुई दीर जाती है और दूसरी शन्दूर टॉप से होती हुई ग़िज़र ज़िले के रास्ते से गिलगित जाती है। दोनों ही रास्ते सर्दियों में बर्फ़बारी के कारण बंद हो जाते हैं। पाकिस्तानी सरकार लोवारी दर्रे के नीचे एक सुरंग बनवा रही है। चित्राल के इर्द-गिर्द और भी पहाड़ी दर्रे हैं जिनसे पैदल लोग ज़िले से बाहर आ-जा सकते हैं।

लोग[संपादित करें]

चित्राल में अधिकतर खो लोग रहते हैं जिन्हें चित्राली लोग भी कहा जाता है, जो खोवार भाषा नाम की एक दार्दी भाषा बोलते हैं। इस ज़िले की बुमबूरेत वादी में कलश लोग रहते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Pakistan & the Karakoram Highway Archived 2013-09-22 at the Wayback Machine, Sarina Singh, Lindsay Brown, Paul Clammer, Rodney Cocks, John Mock, Lonely Planet, 2008, ISBN 978-1-74104-542-0