चित्तू पाण्डे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

चित्तू पाण्डे (10 मई 1865 - 1946) भारत के स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी थे। उन्हें 'बलिया का शेर' के नाम से जाना जाता है। उन्होने १९४२ में बलिया में भारत छोड़ो आन्दोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। १९ अगस्त १९४२ को एक 'राष्ट्रीय सरकार' की घोषणा करके वे उसके अध्यक्ष बने जो कुछ दिन चलने के बाद अंग्रेजों द्वारा दबा दी गई। यह सरकार बलिया के कलेक्टर को सत्ता त्यागने एवं सभी गिरफ्तार कांग्रेसियों को रिहा कराने में सफल हुई थी। वे अपने आप को गांधीवादी मानते थे।

जीवन परिचय[संपादित करें]

चित्तू पाण्डे का जन्म उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के रत्तूचक गाँव में हुआ था।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]