चिकन 65

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
चिकन 65

चिकन 65 दक्षिण भारत का एक लोकप्रिय मसालेदार, तला हुआ चिकन व्यंजन है, जिसे बार में हलके नाश्ते के रूप में, या मुख्य भोज से पहले परोसा जाता है, या जो जल्दी बनने वाला नाश्ता है. पकवान का स्वाद अदरक, लाल मिर्च, सरसों का पाउडर और सिरका से आता है, हालांकि सटीक व्यंजन विधि भिन्न हो सकती है. यह हड्डी सहित या रहित चूज़े का उपयोग करते हुए बनाया जा सकता है.

नाम[संपादित करें]

हालांकि पकवान को निर्दिष्ट करने के लिए "चिकन 65" नाम का उपयोग सार्वभौमिक रूप से किया जाता है, तथापि नाम की उत्पत्ति के बारे में कई अलग-अलग क़िस्से मौजूद हैं.[1] यह आम तौर पर स्वीकार किया है कि इन उपाख्यानमूलक सिद्धांतों में कौन-सा (यदि कोई हो तो) सच है यह कोई नहीं जानता:

  • 65 संख्या चिकन में 65 अलग तत्वों का प्रतिनिधित्व करता है
  • चिकन 65 में 65 चेन्नै के लोकप्रिय होटल "बुहारी" द्वारा इसे पेश किए गए वर्ष का प्रतिनिधित्व करता है. अतः यह नाम "चिकन 65" पड़ा. वे चिकन 78, चिकन 82, चिकन 90 भी परोसते हैं, जो सब उन वर्षों में पहली बार प्रस्तुत किए गए.[2][3]
  • 65 संख्या अधिकांशतः सिरका में डुबा कर तैयार करने के लिए लगने वाले दिनों की संख्या या पकवान तैयार करने वाला वर्ष माना गया है. (लेकिन, 65 दिनों के लिए सिरका में डुबाने का मतलब होगा कि चिकन सड़ने लगेगा या उसे प्रशीतित करेंगे तो उसका स्वाद और ताज़ापन नष्ट हो जाएगा. एक वृत्तांत दावा करता है कि यह व्यंजन 1965 में भारतीय सैनिकों के लिए एक सरल भोजन के समाधान के रूप में उभरा. अन्य क़िस्सों का दावा है कि एक उद्यमी होटल व्यवसायी ने मर्दाना भोजन करने वालों पर 65-मिर्च व्यंजन विधि को आज़माया और तदनुसार व्यंजन का नाम रखा.[4][5][6][7][4]
  • यह भी कहा गया कि चिकन 65 नाम इस व्यंजन को तैयार करने के लिए प्रयुक्त चूज़े की उम्र से विकसित हुआ है. चिकन 65 नामक मूल व्यंजन विधि 65 दिन के या लगभग 2 महीनों के चूज़ों के उपयोग द्वारा तैयार की गई थी. चूंकि यह एक शराब-घरों का नाश्ता है, छोटे और मुलायम चिकन, वाइन के साथ एक अच्छे स्टार्टर का काम देते हैं. (इस व्युत्पत्ति के संशयवादियों का तर्क है कि आम तौर पर एक छोटा मुलायम चूज़ा बस 25-35 दिन पुराना होता है ना कि 65 दिनों का. 65 दिनों में चूज़ा बड़ा और मोटा होगा.)
  • चिकन 65 नाम पकाने से पहले पूरे चूज़े को काटे जाने वाले टुकड़े की संख्या से संबंधित है. (हालांकि, मज़ाक में यह सुझाव दिया गया है कि 65 टुकड़ों में एक पूरे चूज़े को काटने से उसका कीमा बन जाता है, ना कि चिकन 65.)
  • इसके नाम की व्युत्पत्ति के बारे में एक और दिलचस्प कहानी भारत के उत्तरी राज्यों से आने वाले भारतीय सेना के सैनिकों से जुड़ी है जिनकी नियुक्ति मद्रास (अब चेन्नै) में हुई थी, जो समय काटने के लिए शहर जाते थे. सैनिकों के बीच लोकप्रिय एक रेस्तरां में मेनू स्थानीय भाषा में हुआ करता था. इसके परिणामस्वरूप मेनू न पढ़ सकने वाले गैर स्थानीय लोग भोजन का आदेश देते समय, नाम बताने की जगह अपनी पसंद बताने के लिए मेनू में दर्ज संख्या का उल्लेख करते थे (इस मामले में यह व्यंजन, संख्या 65 से जुड़ा था). कहा जाता है कि सैनिकों के बीच इस व्यंजन की लोकप्रियता बढ़ गई, जब एक ने खाया, पसंद किया और अपने साथी सैनिक को इसके बारे में बताया. उन्हें बस जाकर आइटम 65 का आदेश देने के लिए कहा गया, जो बाद में केवल चिकन 65 कहलाने लगा और समय के साथ मुख्य भोज से पहले परोसे जाना वाले इस व्यंजन का यह आधिकारिक नाम बन गया.

संदर्भ[संपादित करें]

साँचा:India-food-stub