चार धाम महामार्ग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

चार धाम महामार्ग उत्तराखंड राज्य में एक प्रस्तावित परियोजना है, जिसके अंतर्गत राज्य में स्थित चार धाम तीर्थस्थलों को एक्सप्रेस राष्ट्रीय राजमार्गों के माध्यम से जोड़ा जायेगा।[1][2][3][4] परियोजना के अंतर्गत कम से कम १० मीटर चौड़े दो-लेन (प्रत्येक दिशा में) राष्ट्रीय राजमार्ग बनाये जायेंगे। इस परियोजना के अंतर्गत कुल ९०० किमी सड़कों का निर्माण होगा। भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री, नरेंद्र मोदी द्वारा दिसंबर २०१६ में इस परियोजना की आधारशिला रखी गयी थी।[5][6]

मार्ग[संपादित करें]

यात्रा मार्ग ऋषिकेश से आरम्भ होंगे, और चारों धामों तक जाएंगे।

  1. ऋषिकेश – यमुनोत्री
    • ऋषिकेश
    • धरासू (रारा ९४; ऋषिकेश से १४४ किमी की दूरी पर)
    • यमुनोत्री (रारा ९४; धरासू से ९५ किमी की दूरी पर)
  2. ऋषिकेश – गंगोत्री
    • ऋषिकेश
    • धरासू (रारा ९४; ऋषिकेश से १४४ किमी की दूरी पर)
    • गंगोत्री (रारा १०८; धरासू से १२४ किमी की दूरी पर)
  3. ऋषिकेश – केदारनाथ
    • ऋषिकेश
    • रुद्रप्रयाग (रारा ५८; ऋषिकेश से १४० किमी की दूरी पर)
    • गौरीकुंड (रारा १०९; रुद्रप्रयाग से ७६ किमी की दूरी पर)
  4. ऋषिकेश – बद्रीनाथ
    • ऋषिकेश
    • रुद्रप्रयाग (रारा ५८; ऋषिकेश से १४० किमी की दूरी पर)
    • माणा (रारा ५८; रुद्रप्रयाग से १४० किमी की दूरी पर)

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]