चागांती कोटेस्वारा राव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

चागांती कोटेस्वारा राव भारतीय वक्ता हैं जो सनातन धर्म पर अपने प्रवचनों के लिए जाने जाते हैं। वह पुराणों के ज्ञाता है। उनके प्रवचनों का व्यापक रूप से पालन किया जाता है और टेलीविजन चैनलों जैसे भक्ति टीवी और टीटीडी पर प्रसारित किया जाता है।[1] पूरी दुनिया में तेलुगु भाषी लोगों के बीच वह काफी लोकप्रिय है। उन्हें 2016 में आंध्र प्रदेश सरकार की ओर से सांस्कृतिक सलाहकार के रूप में भी नियुक्त किया गया था।[2]

जीवन[संपादित करें]

चागांती कोटेस्वारा राव का जन्म 14 जुलाई 1959 को दंपति चागांती सुंदरा शिवा राव और चागांती सुषीलम्मा के घर हुआ था। वह नियमित रूप से रामायण, महाभारत और विभिन्न पुराणों जैसे विभिन्न हिंदू महाकाव्यों पर धार्मिक प्रवचन देते हैं। ये विभिन्न रेडियो और टीवी चैनलों पर प्रसारित होते हैं। कुछ भक्तिमय टीवी चैनलों ने उनके प्रवचनों को प्रसारित करने के लिए विशेष समय निर्धारित किया हुआ है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Staff Reporter. "'Set aside time for spiritual growth'". The Hindu.
  2. Reporter, Staff (9 April 2016). "Chaganti Koteswara Rao appointed government cultural adviser". The Hindu (अंग्रेज़ी में). The Hindu. अभिगमन तिथि 15 March 2018.