चराईदेव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
असम, भारत में आहोम राजवंश के समाधिस्थल

चराईदेव (চৰাইদেউ) भारत के असम राज्य के चराईदेव ज़िले में स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है। यह मध्यकालीन आहोम साम्राज्य की सर्वप्रथम राजधानी थी, जिसे सन् 1253 में राजवंश के संस्थापक छो लुंग सुकफा ने बसाया था। आहोम साम्राज्य लगभग 600 वर्षों तक अस्तित्व में था, जिस दौरान राजधानी को कई बार बदला गया लेकिन चराईदेव का महत्व बना रहा। आधुनिक काल में आहोम शाही परिवार की समाधियाँ, जो मैदाम (मोईदाम) कहलाती हैं, इस स्थान पर देखी जा सकती हैं और उनका असम व भारत के इतिहास में स्थान बना हुआ है।[1][2][3][4][5]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Gogoi, Padmeswar (1968). The Tai and the Tai kingdoms: with a fuller treatment of the Tai-Ahom kingdom in the Brahmaputra Valley (अंग्रेज़ी में). Dept. of Publication, Gauhati University. पपृ॰ 264 & 265.
  2. Bezbaruah, Ranju; Banerjee, Dipankar; Research, Indian Council of Historical (2008). North-East India: interpreting the sources of its history (अंग्रेज़ी में). Indian Council of Historical Research. पृ॰ 117. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788173052958.
  3. Gohain, Birendra Kr (1999). Origin of the Tai and Chao Lung Hsukapha: A Historical Perspective (अंग्रेज़ी में). Omsons Publications. पपृ॰ 72 & 73.
  4. Pan-Asiatic Linguistics: Proceedings of the Fourth International Symposium on Languages and Linguistics, January 8-10, 1996 (अंग्रेज़ी में). Institute of Language and Culture for Rural Development. 1996. पृ॰ 1023.
  5. Session, North East India History Association (2003). Proceedings of North East India History Association (अंग्रेज़ी में). The Association. पृ॰ 108.