घूम, पश्चिम बंगाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
घूम
पड़ोसी
दार्जिलिंग से घूम के लिए हेरिटेज नैरो गेज ट्रेन
दार्जिलिंग से घूम के लिए हेरिटेज नैरो गेज ट्रेन
घूम की पश्चिम बंगाल के मानचित्र पर अवस्थिति
घूम
घूम
Location in West Bengal, India
निर्देशांक: 27°00′37″N 88°14′47″E / 27.0102°N 88.2465°E / 27.0102; 88.2465निर्देशांक: 27°00′37″N 88°14′47″E / 27.0102°N 88.2465°E / 27.0102; 88.2465
Countryभारत
Stateपश्चिम बंगाल
Districtदार्जिलिंग
ऊँचाई2225 मी (7,300 फीट)
समय मण्डलIST (यूटीसी+5:30)
PIN734102
Telephone code0354

घूम (ग़ुम भी कहा जाता है) भारत के पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग हिमालय पहाड़ी क्षेत्र में एक छोटा पहाड़ी इलाका है। यह दार्जिलिंग नगरपालिका के वार्ड नंबर एक के अंतर्गत आता है। दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे में घूम रेलवे स्टेशन भारत का सबसे ऊँचा रेलवे स्टेशन है। यह 2,258 मीटर (7,407 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है।[1]

भौगोलिक स्थिति[संपादित करें]

घूम की भौगोलिक स्थिति इस प्रकार है--27°00′37″N 88°14′47″E / 27.0102°N 88.2465°E / 27.0102; 88.2465

दार्जिलिंग हिमालय प्रदेश के उत्तर-पूर्व में स्थित है और घूम दार्जिलिंग के ही उत्तर में स्थित एक ‌रेलवे स्टेशन है। कंचनजंगा जो 8,586 मीटर (28,169 फीट) की ऊँचाई पर है।[2] सिंगाकीला रिज पर ३,६६५ मीटर (१२,०२४ फीट) की ऊँचाई पर बसा संदक्फू चोटी पश्चिम बंगाल का सबसे ऊँचा स्थान है।.[3]दार्जिलिंग उपखंड में जनसंख्या का कुल ६१% भाग ग्रामीण इलाकों में रहते है और ३९% जनसंख्या शहरी क्षेत्रों में रहती है। दार्जिलिंग चाय का उत्पादन और निर्यात बड़े पैमाने पर होता है। यह प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से आबादी के एक बड़े हिस्से को संलग्न करता है। कुछ चाय बागानों की पहचान २०११ की जनगणना में कस्बों या गांवों के रूप में की गई थी।[4][5][6][7]

युद्ध स्मारक[संपादित करें]

दार्जिलिंग की पहाड़ियों में भारतीय सेना के सैनिकों और पूर्व सैनिकों की उच्च सांद्रता है। 1947 में आजादी के बाद से, दार्जिलिंग क्षेत्र में सत्तर सैनिकों की सेवा के दौरान मृत्यु हो चुकी है। 1976 में, दार्जिलिंग के तत्कालीन उपायुक्त मनीष गुप्ता ने यहां युद्ध स्मारक बनाने की पहल की और एक समिति का गठन किया गया। 1984 में, बटेसिया को युद्ध स्मारक के स्थान के रूप में चुना गया था। 1991 में, दार्जिलिंग गोरखा स्वायत्त पहाड़ी परिषद के अध्यक्ष सुभाष घिसिंग ने युद्ध स्मारक के निर्माण के लिए वित्त देने पर सहमति व्यक्त की। युद्ध स्मारक में एक पवित्र उठाए गए अंडाकार मंच, 37 फीट 24 फीट (10 मीटर 7 मीटर), 9 फुट (3 मीटर) ऊंची कांस्य प्रतिमा जिसका निर्माण कृष्णानगर के गौतम पाल द्वारा हुआ था और 30 फुट (9 मीटर) ऊंची त्रिकोणीय ग्रेनाइट की समाधि है।[8]

पर्यटन स्थल[संपादित करें]

दार्जिलिंग अंचल का एक मनोरम दृश्य

यी गा चोलिंग गोम्पा जो घूम पोस्ट ऑफिस के सामने स्थित है, इसे अधिक लोकप्रिय रूप से घुम मठ कहा जाता है। कई ट्रैवल गाइड और टैक्सी ड्राइवर पर्यटकों को हिल कार्ट रोड और घम रेलवे स्टेशन के नीचे स्थित मठ में ले जाते हैं, जो कि सैमटेन चॉलिंग मठ है और इसे पुराना घूम मठ कहा जाता है। यि गा चोलिंग मठ 8000 फीट की ऊंचाई पर है और दार्जिलिंग से 8 किमी (5.0 मील) की दूरी पर स्थित है। इसकी स्थापना 1850 में प्रसिद्ध मंगोलियाई ज्योतिषी और भिक्षु सोकपो शेरब ग्यात्सो ने की थी।[9][10]

घाटियां[संपादित करें]

7,900 फीट (2,400 मीटर) की ऊँचाई पर घम-सुखियापोखरी सड़क पर, एक विशाल चट्टान है जो बालसन घाटी और उससे आगे की पहाड़ियों का भव्य दृश्य प्रस्तुत करती है। यहां एक मनोरंजन पार्क गर्ग वर्ल्ड है जो एक नवीनतम आकर्षण बन गई है।[11]

यातायात[संपादित करें]

घूम कई सड़कों का मिलन बिंदु है। सिलीगुड़ी से दार्जिलिंग तक का हिल कार्ट रोड यहां से होकर जाता है। यह दार्जिलिंग से 6 किमी (3.7 मील), कुर्सियांग से 24 किमी (15 मील) और लोपू से लगभग 45 किमी (28 मील) दूर है। एक अन्य सड़क यहां से मोंगपु तक जाती है और एक सड़क कलिम्पोंग-सिलीगुड़ी सड़क तक जाती है। भारत-नेपाल सीमा के करीब सुखियापोखरी यहां से मिरिक की सड़क पर 11 किमी (6.8 मील) है।[12]

शिक्षा प्रणाली[संपादित करें]

घूम जोरेबंग्लो कॉलेज की स्थापना 2004 में घूम में हुई थी। यहां नेपाली, अंग्रेजी, इतिहास, भूगोल, राजनीति विज्ञान, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, शिक्षा और कला आदि विषयों की पढ़ाई होती है।[13][14]

यहां स्थित घूम बॉयज़ स्कूल केवल लड़कों के लिए एक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय है।[15]

घूम गर्ल्स हायर सेकेंडरी स्कूल एक इंग्लिश-मीडियम गर्ल्स स्कूल है, जिसमें केवल कक्षा V से कक्षा XII तक पढ़ाने की सुविधा है।[16]

स्वस्थ्य केंद्र[संपादित करें]

घूम में 6 बेड के साथ एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है।[17]

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Agarwala, A.P. (editor), Guide to Darjeeling Area, 27th edition, p. 53-55, ISBN 81-87592-00-1.
  2. Gurung, H. & Shrestha, R. K. (1994). Nepal Himalaya Inventory. Kathmandu: Ministry of Tourism and Civil Aviation.
  3. "Sandakphu-Phalut Trek". Himalayan High. मूल से 21 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 March 2020.
  4. "Darjeeling". District Profile - General Information. District administration. मूल से 21 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 March 2020.
  5. "District Statistical Handbook 2013 Darjeeling". Tables 2.2, 2.4b. Department of Planning and Statistics, Government of West Bengal. मूल से 21 जनवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 March 2020.
  6. "Darjeeling Tea". District administration. मूल से 11 सितंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 March 2020.
  7. "2011 Census – Primary Census Abstract Data Tables". West Bengal – District-wise. Registrar General and Census Commissioner, India. मूल से 21 दिसंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 March 2020.
  8. Agarwala, A.P., p. 48
  9. "Darjeeling Tourism". https://www.darjeeling-tourism.com. 
  10. "Sight-seeing". West Bengal cities. travel-westbengal.com. मूल से 29 June 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2007-06-13.
  11. A Road Guide to Darjiling, p. 10,
  12. A Road Guide to Darjiling, map on p. 16, TTK Healthcare Ltd, Publications Division, ISBN 81-7053-173-X.
  13. "Ghoom Jorebunglow College". GJC. मूल से 27 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 February 2020.
  14. "Ghoom Jorebunglow Degree College, Darjeeling". Careers 360. मूल से 27 फ़रवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 February 2020.
  15. "Ghoom Boys High School". Target Study. मूल से 23 मार्च 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 March 2020.
  16. "Ghoom Girls Higher Secondary School". ICBSE. अभिगमन तिथि 23 March 2020.
  17. "Health & Family Welfare Department" (PDF). Health Statistics – Primary Health Centres. Government of West Bengal. मूल (PDF) से 21 अप्रैल 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 March 2020.