घर में तार लगाना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
अपार्टमेन्ट वायरिंग के लिये प्रयुक्त एकल-फेज़ ~230V/40A/9kW फ्यूज बॉक्स

घरों में कई तरह के तार लगाने पड़ते हैं, जैसे- बिजली के तार (प्रकाश, पंखे, हीटर आदि के लिये), टेलीफोन के तार, होम थिएटर, कम्प्यूटर नेटवर्क, टीवी केबल आदि। इसके अलावा तापन, संवातन तथा वातानुकूलन के लिए भी तार जोड़ने पड़ते हैं।

घर में उपयोग होने वाले बिजली के तारों की इन तारों में मुख्य रूप से दो प्रकार की धातुएं अधिक उपयोग की जाती हैं- 1. एल्युमिनियम 2. ताँबा (कॉपर)

इन दोनों धातुओं में से कॉपर धातु के तार की चालकता अधिक होती है। इसलिए इसका उपयोग विद्युत् खपत के नुकशान को कम करने के लिए वायरिंग में किया जाता है। वहीं एल्युमिनियम तार वजन में हल्का होता है लेकिन इसकी चालकता कॉपर वायर की अपेक्षा कुछ कम होती है। चालकता में ज्यादा कमी न होने के कारण एल्युमिनियम वायर ने भी वायरिंग के क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बना ली है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]