ग्वालियर ज़िले के मन्दिर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

ग्वालियर के मंदिरों में गोलेश्वर महादेव, धूमेश्वर महादेव, मंशापूर्ण हनुमान, खेडापति माता का मंदिर प्रसिद्ध है।    

गोलेश्वर महादेव[संपादित करें]

गोलेश्वर महादेव का प्राचीन मंदिर भितरवार तहसील में है यह नए बस स्थानक के पास है यहाँ की मान्यता है कि यदि भितरवार में पानी बरसता है तो सभी भितरवार वासियों द्वारा पार्वती नदी (जो की मंदिर के पास ही कुछ दूरी पर प्रवाहित होती है) से पानी लाकर मंदिर के शिवलिंग को पूर्ण रूप से पानी में डुबोया जाता है  मंदिर के गर्भगृह  को चारों और से मिट्टी से बंद कर दिया जाता है  जिससे पानी बाहर न निकल पाए सभी लोग अपने सिर पर , कन्धों पर घड़ों में पानी भरकर लाते हैं और मंदिर को भरते हैं जब पूरा शिवलिंग पानी में डूब जाता है तो अपने आप जल वृष्टि होने लगती है।

धूमेश्वर[संपादित करें]

धूमेश्वर  महादेव मंदिर सिंध नदी के तट पर स्थित है। यह बडगोर ग्राम के पास है। इस मंदिर पर कई यज्ञ हो चुके है।

मंशापूर्ण हनुमान[संपादित करें]

मंशापूर्ण हनुमान मंदिर दियादाह धर्मशाला पुराने थाने के पास भितरवार में स्थित है  

खेडापति माता[संपादित करें]

खेडापति माता का मंदिर भितरवार का प्रसिद्ध मंदिर है।