ग्रीष्म लहर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग्रीष्म लहर यह मुख्य रूप से समुद्री जलवायु वाले देशों में हो सकता है। उच्च आर्द्रता के साथ हो सकता है, जो जरूरत से ज्यादा गर्म मौसम, की लम्बी अवधि से बनता है।[1]

प्रभाव[संपादित करें]

इसके प्रभाव से शरीर का तापमान बहुत बढ़ जाता है। इससे अतिताप हो सकता है। इसके अलावा इससे खेती पूरी तरह से खराब हो सकती है।

व्याख्या[संपादित करें]

इसका कोई एक व्याख्या नहीं है। अलग-अलग देशों में इसकी अलग अलग व्याख्या मिलती है। डेनमार्क के अनुसार 28 °C (82.4 °F) से अधिक होने से, स्वीडन के अनुसार 5 दिनों तक तापमान 25 °C (77.0 °F) से अधिक हो तो उसे ग्रीष्म लहर कहा जाता है।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]