गोविंदस्वामी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(गोविन्द स्वामी से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोविन्दस्वामी वल्लभ संप्रदाय (पुष्टिमार्ग) के आठ कवियों (अष्टछाप कवि) में एक थे। इनका जन्म राजस्थान के भरतपुर राज्य के अन्तर्गत आँतरी गाँव में १५०५ ई० में हुआ था। ये सनाढ्य ब्राह्मण थे, ये विरक्त हो गये थे और महावन में आकर रहने लगे थे।[1] १५८५ ई० में इन्होंने गोस्वामी विट्ठलनाथ से विधिवत पुष्टमार्ग की दीक्षा ग्रहण की और अष्टछाप में सम्मिलित हो गए। इन्होंने भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न लीलाओं का अपने पदों में वर्णन किया

गोविंद दास जी का एक पद

श्री वल्लभ चरण लग्यो चित मेरो।
इन बिन और कछु नही भावे, इन चरनन को चेरो ॥१॥
इन छोड और जो ध्यावे सो मूरख घनेरो।
गोविन्द दास यह निश्चय करि सोहि ज्ञान भलेरो ॥२॥

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. हिन्दी साहित्य का इतिहास, आचार्य रामचन्द्र शुक्ल, सम्वत २०३८, पृष्ठ १२३

इन्हें भी देखें[संपादित करें]