गोविन्द भगवत्पाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गोविन्द भगवत्पाद, आदि शंकराचार्य के गुरु थे। आचार्य गोविन्दपाद् महा प्रतिभाशाली, त्यागी, विद्वान महात्मा थे। आचार्य गौंडपाद के प्रधान शिष्य थे। महान आचार्य कुमारिल भट्ट की तरह से इन्होंने भी कदाचारी बौद्ध धर्म के वाममार्गी को संतान धर्म के पथ पर लाया। जब बाल्यकाल में बालक शंकर इनके सेवा में आये, कुछ ही समय में शंकर को वे पहचान गए की बालक शंकर का आविर्भाव अवश्य ही किसी विशेष कार्य को पूर्ण करने हेतु हुआ है । गौ शनदा , आदि शंकराचार्य के भव्य गुरु और अद्वैत वेदांत के पहले ऐतिहासिक प्रतिपादक, [1] को Sanrr Sansthāna Gauḍapadccrya Maṭha के संस्थापक माना जाता है। अद्वैत वेदान्त वेदान्त की एक शाखा है। अहं ब्रह्मास्मि अद्वैत वेदांत यह भारत मेँ उपज हुई कई विचारधाराओं में से एक है। जिसके आदि शंकराचार्य पुरस्कर्ता थे।जो इसको आगे बढ़ाए और बाद में इन्हें ही इसका श्रेय दिया जाने लगा[1] भारत में परब्रह्म के स्वरुप के बारे में कई विचारधाराएं हैं। जिसमें द्वैत, अद्वैत, विशिष्टाद्वैत, केवलाद्वैत, द्वैताद्वैत ऐसी कई विचारधाराएँ हैं। जिस आचार्य ने जिस रूप में (ब्रह्म) को देखा उसका वर्णन किया। इतनी विचारधाराएँ होने पर भी सभी यह मानते है कि भगवान ही इस सृष्टी का नियंता है। अद्वैत विचारधारा के पहला संस्थापक आदि शंकराचार्य को नही मना जा सकता लेकिन इसे आगे बढ़ने में ज्यादा बल शंकराचार्य ने जरूर किये थे। श्री गौड़पादाचार्य मठ ( संस्कृत : श्री संस्थान गौडपदचार्य मठ , श्री संस्थान गौनापदचार्य महा ), जिसे कवेल , पांडे , गोवा में स्थित कावा महा ( कवच मठ ) के रूप में भी जाना जाता है, स्मार्टन सरस्वती ब्रह्म सरस्वती ब्रह्मा के सबसे पुराने मठ हैं । इसकी स्थापना ४ ९ ० ई। के आसपास गौपाड़ा द्वारा की गई थी, जिसके छात्र गोविंदा भगवत्पदा , आदि शंकराचार्य के गुरु , हिंदू धर्म में एक अत्यधिक प्रभावशाली व्यक्ति थे। [४] ऐसी भी मान्यता है कि गौपद ने स्वयं श्री गौड़पादाचार्य मठ की स्थापना की थी जब वे गोमांतक (गोवा) में रहते थे। इस प्रकार, मठ को श्री सौंसटन गौड़पादाचार्य मठ के रूप में जाना जाने लगा। अन्य मठों के विपरीत, श्री गौड़पादाचार्य मठ सभी हिंदुओं की आस्था को प्रभावित करने के लिए स्थापित एक ध्रुवीय केंद्र नहीं है, इसका अधिकार क्षेत्र केवल दक्षिणा सारस्वत ब्राह्मणों तक सीमित है। पीटाधिपति "प्रमुख भिक्षु" श्री गौड़पदाचार्य हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]