गोलाध्याय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गोलाध्याय, भास्कराचार्य द्वारा रचित ग्रन्थ सिद्धान्त शिरोमणि के चार भागों में से एक भाग है। अन्य तीन भाग लीलावती, बीजगणित, तथा ग्रहगणित हैं।[1]

इसमें चक्रवाल गणित का एक प्रश्न देखिए-

का सप्तषष्टिगुणिताकृतिरेकयुक्ता
का चैकष्टि गुणिता च सखे सरूपा ।
स्यानमूलता यदि कृतिप्रकृतिर्नितान्तं
त्नच्चेतसि प्रवद तात तता लतावत् ॥
(तात्पर्य है कि वह कौन सा वर्ग है जिसे ६७ से गुणा कर उसमें १ का वर्ग जोड़ दें, अथवा वह कौन सा वर्ग है जिसे ६१ से गुणा करके १ का वर्ग जोड़ देंने से प्राप्त अंक पूर्ण वर्ग हो जाता है (या उसका निरवयव वर्गमूल मिल जाता है।)।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. दिनकर जोशी (२००५) (अंग्रेज़ी में). Glimpses of Indian Culture [भारतीय संस्कृति की झलक]. स्टार पब्लिकेशन. प॰ ७१-७२. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788176501903. http://books.google.be/books?id=-fw-0iBvmMAC. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]