गोरा बादल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गोरा और बादल महान राजपूत योद्धा थें, जिनकी कहानी पद्मावत (1540 CE), गोरा बादल पद्मिनी चौपाई (1589 CE), और उनके बाद के रूपांतरणों में दिखाई देती है । दिल्ली के अलाउद्दीन खिलजी ने रतनसिंह की पत्नी रानी पद्मावती को प्राप्त करने के लिए चित्तौड़ पर हमला किया और राजा को धोखे से बन्दी बना लिया । गोरा, बादल और उनके सैनिकों ने पद्मिनी और उनके साथियों के रूप में प्रच्छन्न दिल्ली में प्रवेश किया, और राजा को बचाया। गोरा इस अभियान में लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुएं, जबकि बादल राजा को चित्तौड़ ले गए। वे निर्भीक और सच्चे योद्धा थे।

गोरा बादल - पद्मिनी चौपाई[संपादित करें]

हेमरतन की गोरा बादल पद्मिनी चौपाई (1589 CE) एक कथानक का अनुसरण करती है: "अलाउद्दीन ने रतनसिंह की पत्नी पद्मिनी को प्राप्त करने के लिए चित्तौड़ पर आक्रमण किया और धोखे से रतनसिंह को पकड़ लिया।[1] चित्तौड़ के भयभीत रईसों ने पद्मिनी को अलाउद्दीन के सामने आत्मसमर्पण करने पर विचार किया। लेकिन योद्धा गोरा (या गोरू) और बादल (या बदिल) उसकी रक्षा करने और राजा रतनसिंह को बचाने के लिए सहमत होते हैं। वे माँ पद्मावती को अलाउद्दीन के सामने आत्मसमर्पण करने का दिखावा करते हैं, लेकिन इसके बजाय योद्धाओं को राजमहल में छिपाकर लाते हैं। वे राजा को बचाते हैं; गोरा अलाउद्दीन की सेना से लड़ते हुए शहीद हो जाता है, जबकि बादल राजा को चित्तौड़ किले में वापस ले जाता है। गोरा की पत्नी आत्मदाह (सती) करती है ।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ramya Sreenivasan 2007, पृ॰ 210.
  2. Ramya Sreenivasan 2007, पृ॰ 211.