गोपाल मंदिर झाबुआ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
गोपाल मंदिर झाबुआ
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताहिंदू धर्म
डिस्ट्रिक्टझाबुआ
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिझाबुआ
राज्यमध्यप्रदेश
देशभारत
वास्तु विवरण
निर्मातापंडित विश्वनाथ जी त्रिवेदी
वेबसाइट
www.gopalmandirjhabua.blogspot.com

गोपाल मंदिर झाबुआ सबसे प्रसिद्ध हिंदू मंदिरों में से एक है। यह मंदिर गुरु भक्तो के अनंत अविभूषित पूज्य रामशंकर जी जानी ( बड़े बापजी ), पूज्य घनश्याम प्रभु जी जानी (छोटे बापजी ) और माँ रविकांता बेन (गोपाल प्रभु ) को समर्पित है . यह भारत के मध्य प्रदेश राज्य में झाबुआ के प्राचीन शहर में स्थित है। यह मंदिर 'गोपाल कालोनी झाबुआ' क्षेत्र में स्थित है।

इतिहास[संपादित करें]

गोपाल मंदिर झाबुआ का निर्माण वर्ष १९७० में हुआ. मंदिर निर्माण पश्चात् मंदिर सुचारू रूप से चलाने हेतु सर्वसमिति से गोपाल मंदिर ट्रस्ट का गठन किया गया. गोपाल मंदिर के निर्माण में भक्त मंडल व ट्रस्ट के सभी सदस्यों के साथ ही ट्रस्ट में संरक्षक एवं वरिष्ट ट्रस्टी श्री विश्वनाथजी त्रिवेदी मोटा भाई की महत्वपूर्ण भूमिका रही. पं पूज्य श्री विश्वनाथ जी त्रिवेदी (मोटा भाई ) का जन्म मध्य भारत के सुदूर पश्चिम शेत्र में स्थित झाबुआ में श्री ललिता शंकर जी त्रिवेदी के सामान्य ब्राह्मन परिवार में १०-०९-१९१८ को हुआ था।

      श्री मोटा भाई बचपन से ही गंभीर एवं चिन्तनशील रहे।  इन्हे दर्शन , मनोविज्ञान,ज्योतिष का अध्यन करने के साथ ही सुयोग्य अध्यात्मिक गुरु कि तलाश रही।  इसी क्रम में एक बार रेल यात्रा के दोरान एक विभूति से इनकी मुलाकात हुई।  अल्प बातचीत में विभूति ने श्री मोटा भाई के अतीत जीवन कि बाते बताई और अध्यात्मिक जीवन कि भविष्य वाणी करने के साथ उत्कृष्ट व समर्थ गुरु के सानिध्य में अध्यात्मिक साधना करने का सुअवसर शीघ्र ही मिलने कि बात कही। 
       गुजरात स्थित दाहोद में इनकी एक बहन का विवाह हुआ था तथा इनके बहनोई श्री मंगू भाई त्रिवेदी ने श्री मोटा भाई को गुजरात में जन्त्राल में प्रसिद्ध समर्थ गुरु प .पूज्य श्री रामशंकर जी जानी के बारे में बताया।  चर्चा के अंतर्गत इन्हे आभास हुआ के जिन समर्थ गुरु कि इन्हे तलाश थी तथा रेल में मिले उस विभूति ने आध्यात्मिक गुरु के शीघ्र ही मिलने कि बात कही थी वे शायद यही है। वे अपने बहनोई के साथ जन्त्राल में प .पूज्य श्री रामशंकर जी जानी (बडे बापजी) के पास पहुचे।  प्रथम भेट में ही चिरकाल से परिचित जैसा स्नेह व आशीर्वाद प्राप्त हुआ। बडे बापजी ने जन्त्राल में ऋषिकुल कि स्थापना करे चुनिन्दा शिष्यों को भजनों ,उपदेशो, सत्संग व पत्रों के माध्यम से दीक्षित किया।  
        सदगुरु श्री रामशंकर जी जानी ने दिनांक १६-०२-१९४७ को देह त्याग किया। उनके देहत्याग के पश्चात् उनके जयेष्ट पुत्र प .पूज्य श्री घनश्याम जी जानी ने बडे बापजी कि आध्यात्मिक विरासत को सत्संग ,सूत्रों से पोषित , पल्वित व फलित किया।  बडे बापजी कि तरह ही प .पूज्य श्री घनश्याम प्रभु ने मोटा भाई को गले लगाया व अपार स्नेह दिया। घनश्याम प्रभु व मोटा भाई का साथ १४ वर्ष का रहा तथा दिनांक ०८-०७-१९६० को मात्र ४० वर्ष कि आयु में प .पूज्य श्री घनश्याम प्रभु(छोटे बापजी) ने अपना देहत्याग किया। प .पूज्य घनश्याम प्रभु के देहत्याग के बाद गुरु पत्नी जिन्हे भक्त गण प्रेम व आदर से गोपाल के नाम से पुकारते थे का आसीन स्नेह मोटा भाई को मिला। 
         वर्ष १९६८ में दो भक्त माताश्री गोपाल के आशीर्वाद के लिए भरूच माँ श्री के निवास पहुचे।  माताश्री ने दोनों भक्तो को झाबुआ में गुरूभइयो कि झोपडी बांधने कि द्रष्टि से जमीन कार्य करने को कहा।  माँ गोपाल से चर्चा में भक्तो ने कालोनी के निर्माण के साथ एक बड़ा कामन हाल चाहिए जिसपर केवल हाल बनाने कि सहमती दी गयी। सामूहिक भजन व पूजन के लिए भी एक स्थल मंदिर के रूप में बनाने का आग्रह किया जिस पर माँ गोपाल ने विषयक स्वीकृति दे दी। परन्तु पहले गुरु भाइयो के बंगले कार्य को ही प्राथमिकता दी जावे। मंदिर एवं कालोनी निर्माण हेतु श्री गणेश के लिए १००१/- माँ गोपाल ने श्री मोटा भाई को दिए और कहा कि अच्छा मुहर्त देखकर मंदिर का निर्माण शुरू करे।  इसके साथ ही माँ गोपाल ने कालोनी निर्माण के सम्बन्ध में कुछ विशेष निर्देश दिये। 

1. मंदिर के लिए चंदा नहीं लेना
2. किसी का नाम लिखी वस्तु मंदिर में नहीं लगानी।
3. मंदिर में मूर्ति नहीं लगानी।
4. मंदिर में गुम्बज,घंटा,घड़ियाल,ध्वज,त्रिशूल,कलश आदि नहीं लगाना।
5. मंदिर दुसरो के देखने हेतु नहीं बनाना।
6. मंदिर केवल भक्तो के भजन हेतु बनाना
7. मंदिर में केवल पांच फोटो लगाना।
8. मंदिर में पुजारी के रहने के लिया पीछे कि दीवार एक हो।
9. रसोई में छोटी अलमारी व फ्लेट रेक हो।
10. बंगले के बडे कमरे में बड़ी अलमारी हो।

       इस प्रकार वर्ष १९६८ में कालोनी एवं मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हुआ। इस पूरे परिवेश को गोपाल कालोनी का नाम दिया गया। मंदिर निर्माण पूर्ण होने के पश्चात् मंदिर उदघाटन के अवसर पर माँ गोपाल को मंदिर ले जाने का प्रस्ताव किया गया तो माँ गोपाल द्वारा इंकार करते ही फ़रमाया:- "मुझे किसे बताना है कि कीर्ति मिली है जब परमात्मा है तो में हो ही नहीं सकता।  यह मंदिर और यह आवास गृह तो अपने भक्त बालको के लिए एक बहुत बड़ी सोगात है। " 
       इस प्रकार माँ गोपाल ने दिनांक ०७-०२-१९७५ को अपनी सांसारिक यात्रा पूर्ण कर विश्राम हेतु स्वधाम प्रस्थित हुई। तथा आज माँ श्री के ही घर को ही "ऋषिकुल मंदिर" में परिवर्तित कर जन्त्राल में भव्य मंदिर का निर्माण किया गया।  जहा अपनी शारीरिक हयाती के बिना ही बड़ी संख्या में भक्त गण गुरु पूर्णिमा व इसी प्रकार हर पूर्णिमा पर आते रहते है।
       झाबुआ के "श्री गोपाल मंदिर" तथा लिमखेडा के" श्री घनश्याम" मंदिर एवं ग्राम बावड़ी के के मंदिर "ऋषिकुल आश्रम बावड़ी" में भी ऋषिकुल मंडल के भक्त दर्शन , सत्संग का लाभ उठाते है।  इस प्रकार प .पूज्य श्री मोटा भाई ( श्री विश्वनाथ जी त्रिवेदी) द्वारा जीवन पर्यंत तक प्रभु कि सेवा कि गयी व दिनांक २२-०८-१९९१ को उनका देहावसान हुआ। तत्पश्चात सेवाभार एवं पूजा अर्चना का कार्य मोटा भाई के जयेष्ट सुपुत्र श्री रविन्द्र नाथ जी त्रिवेदी द्वारा आरम्भ कि गई जिन्होने पूरी निष्ठा व आस्था के साथ प्रभु कि सेवा कि एवं वर्ष २००७ में उनका देवलोकगमन हुआ।  वर्तमान में मंदिर कि पूजा अर्चना प .पूज्य स्व पं श्री रविन्द्र नाथ जी के जयेष्ट सुपुत्र पं रूपक त्रिवेदी द्वारा कि जा रही है। 

वर्णन[संपादित करें]

झाबुआ शहर के मध्य भाग में स्थित गोपाल मंदिर जिले भर में अपनी अलग पहचान बनाये हैं. वैसे तो शहर मैं सेकडो मंदिर हैं पर गोपाल मंदिर शायद अपने अलग अस्तित्व एवं प्राचीन स्म्रतियो के कारण शायद यहाँ के लोगो को और अन्यत्र निवासरत लोगो को अपनी और आकर्षित करता हैं. माँ गोपाल अपने पुरे परिवार के साथ यहाँ पर विराजित हैं मंदिर प्रांगन मैं समय समय पर विभिन् आयोज़न किये जाते हैं जिनमे प्रमुख वार्षिक उत्सव, गुरु पूर्णिमा आदि हैं. यहाँ पर विभिन् उत्सव जैसे राम नवमी,कृष्ण जन्माष्टमी,गणेश चथुर्ति आदि को भी भव्य रूप मैं मनाया जाता हैं.

      गोपाल मंदिर का वार्षिक उत्सव प्रति वर्ष मई माह मैं मनाया जाता हैं उत्सव चार दिन का होता हैं जिसमे पुरे मंदिर पर आकर्षक साज़ सज्जा की जाती हैं गोपाल मंदिर झाबुआ के आलावा जन्त्राल , भरूच, महू और इंदौर मैं भी हैं गुरु पूर्णिमा के अवसर पर इन जगहों पर भी भव्य आयोज़न किये जाते हैं. झाबुआ स्थित गोपाल मंदिर मैं कार्य समिति के देखरेख मैं विभिन् संस्थाए भी संचालित की जाती हैं जिनमे श्री गोपाल वाचनालय, श्री गोपाल शिशु विद्या मंदिर आदि हैं. वाचनालय मैं धार्मिक, संस्कृतिक, साहित्यिक जैसे कुल २०००० हज़ार पुस्तकों का संग्रह हैं. विद्यालय मैं कक्षा १ से ५ तक कक्षाए आयोजीत की जाती हैं जिनका अधिपत्य एवं संचालन मंदिर कार्यसमिति द्वारा किया जाता हैं. मंदिर मैं प्रातकाल मैं ९:३० बजे आरती की जाती हैं एवं सांयकाल मैं ८ से ९ भजन संध्या आयोजीत की जाती हैं विभिन् उत्सव के दोरान मंदिर मैं विशाल भंडारे का अयोज़ं किया जाता हैं जो मंदिर प्रांगन मैं होता हैं. 
       गोपाल मंदिर का निर्माण आज से करीब ४८ वर्ष पूर्व हुआ था तब यह स्थान पूरी तरह रिक्त था तथा मंदिर निर्माण के पश्चात् यहाँ कालोनी का निर्माण किया गया जिसे गोपाल कालोनी का नाम दिया गया। मंदिर में हाल ही में अपना निर्माण के ४८ वर्ष पूरे किये है तथा अभी मई माह में वार्षिक उत्सव के रूप में मंदिर में भव्य आयोजन किया गया जिसमे विभिन स्थानों से हजारो भक्तो ने अपनी उपस्थिति दर्ज करा कर कार्यक्रम को सफल बनाया !
        गोपाल मंदिर झाबुआ शहर के मध्य भाग में स्थित है ! गोपाल मंदिर से दाहोद शहर की दुरी मात्र ७५ कि.मी है व इंदौर शहर से दुरी मात्र १५० कि.मी है। उज्जैन शहर से भी दुरी अधिक नहीं है।  इसके अलावा मध्य बिंदु में स्थित होने के कारण अन्य स्थानो से गोपाल मंदिर की दुरी अधिक नही है।गोपाल मंदिर के पास में ही कई छोटे छोटे गॉव है जिनमें रानापुर, थांदला , जोबट, मेघनेगर आदि है जो गोपाल मंदिर से कुछ ही कि.मी की दुरी पर है।  इनमें मेघनगर जो कि गोपाल मंदिर से मात्र १५ कि.मी की दुरी पर स्थित है वहॉ पर रेल्वे स्टेशन की सुविधा भी है अन्यत्र स्थानो से आने वाले लोगो के लिए जो रेल मार्ग से गोपाल मंदिर तक पहुचना चाहते है वे सीधे ही रेल मार्ग से मेघनगर आकर यहॉ से उपयुक्त व्यवस्था बस जीप आदि व्यवस्था कर बिना किसी परेशानी के गोपाल मंदिर तक पहुच सकते है।


सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]