गोपाल कृष्ण अडिग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गोपाल कृष्ण अडिग (१८ फ़रवरी १९१८) कन्नड़ में नवयुग के प्रवर्तक कवियों में से एक हैं। कृष्ण नकोबलु, हिमगिरिथ कंदर, वर्धमान, देहलिचाल्लि, आरोहण, मूलक महाशयस आदि उनके प्रमुख कविता संग्रह हैं। अनेक पुरस्कारों से अलंकृत गोपाल कृष्ण अडिग १९७४ में साहित्य अकादमी तथा कबीर सम्मान से भी सम्मानित हो चुके हैं।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. समकालीन भारतीय साहित्य (पत्रिका). नई दिल्ली: साहित्य अकादमी. जनवरी मार्च १९९२. पृ॰ १९१. |year= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद); |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)