गोकुलानन्द महापात्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गोकुलानन्द महापात्र (24 मई 1922 - 10 जुलाई 2013) एक भारतीय वैज्ञानिक व विज्ञान-गल्प लेखक थे। उन्होने ओडिया भाषा में विज्ञान के लोकीकरण की दिशा में महत्वपूर्ण कार्य किया। उन्होने लगभग 95 विज्ञान-गल्प एवं बच्चों की विज्ञान की पुस्तकों की रचना की है।

उनकी कुछ प्रमुख कृतियाँ हैं- कृत्रिम उपग्रह, पृथिबिबाहरे मानिश, चन्द्रर मृत्यु, निशब्द गोधुलि, मेडम क्यूरी, तथा नील चक्र बाल सपारे। वे ओडिशा विज्ञान प्रचार समिति के संस्थापक सदस्य थे। इस समिति का उद्देश्य ओडिशा में विज्ञान को लोकप्रिय करना है। अपनी पुस्तक 'ई-युग र श्रेष्ठ आविष्कार' पर उन्हें ओडिसा साहित्य अकादमी पुरस्कार प्रदान किया गया।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]