गैस्ट्रोस्काइसिस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गैस्ट्रोस्काइसिस एक जन्म दोष है जिसमें बच्चे की आंत पेट के बगल में एक छेद के माध्यम से शरीर के बाहर फैली हुई है।[1] छेद का आकार परिवर्तनीय है, और पेट और यकृत सहित अन्य अंग बच्चे के शरीर के बाहर भी हो सकते हैं। जटिलताओं में भोजन की समस्याएं, समयपूर्वता, आंतों के एट्रेसिया, और इंट्रायूटरिन वृद्धि मंदता शामिल हो सकती है। इस रोग के कारण आमतौर पर अज्ञात है। धूम्रपान करने वाली या शराब पीने वाली, या 20 साल से कम उम्र वाली माँ में अधिक होती हैं। गर्भावस्था के दौरान अल्ट्रासाउंड निदान कर सकते हैं। अन्यथा जन्म पर निदान होता है।[2]

गैस्ट्रोस्काइसिस-वेब

इस रोग के उपचार में शल्य चिकित्सा शामिल है। यह आमतौर पर जन्म के कुछ ही समय बाद होता है। बड़े दोष वाले लोगों में उजागर अंग विशेष सामग्री से ढके जा सकते हैं और धीरे-धीरे पेट में वापस चले जाते हैं। यह स्थिति लगभग ४% यानि १०,000 नवजात बच्चों को प्रभावित करती है।[3]

संकेत और लक्षण[संपादित करें]

इस रोग का गर्भावस्था के दौरान कोई संकेत नहीं होता परंतु गैस्ट्रोस्काइसिस के साथ लगभग ६०% शिशु जन्म लेते हैं।[4] जन्म के समय, बच्चे को पेट की दीवार में अपेक्षाकृत छोटा (<4 सेमी) छेद होता हैं, आमतौर पर केवल पेट बटन के दाईं ओर। कुछ आंतें आमतौर पर शरीर के बाहर होती हैं, जो इस छिद्र से गुज़रती हैं। दुर्लभ परिस्थितियों में, यकृत और पेट पेट की दीवार के माध्यम से भी आ सकता है। जन्म के बाद इन अंगों को सीधे हवा में उजागर किया जाता है।[5]

कारण[संपादित करें]

गैस्ट्रोस्काइसिस का कारण ज्ञात नहीं है। परन्तु कुछ मामलों में अनुवांशिक कारण हो सकते हैं, और गर्भावस्था के दौरान मां को उजागर करने के लिए पर्यावरणीय कारक भी हो सकते हैं। छोटी उम्र में मां बनना, और माँ बनने वाली महिलओं का शराब या तंबाकू का सेवन करना भी शामिल है।[6]

मूल्यांकन[संपादित करें]

इस रोग का मूल्यांकन आमतौर पर दूसरे तिमाही में सामान्य अल्ट्रासाउंड स्क्रीन के दौरान लगभग ९०% मामलों की पहचान की जा सकती हैं।[7]

इलाज[संपादित करें]

गैस्ट्रोस्चिसिस को पेट की गुहा में उजागर आंतों को वापस करने और पेट में छेद को बंद करने के लिए शल्य चिकित्सा उपचार की आवश्यकता होती है। कभी-कभी यह तुरंत किया जाता है लेकिन अक्सर खुले अंग बाँझ के साथ ढके होते हैं, और बाद में सर्जरी की जाती है। प्रभावित नवजात बच्चों को अक्सर एक से अधिक शल्य चिकित्सा की आवश्यकता होती है, क्योंकि केवल एक ही सर्जरी में लगभग १०% मामलों को बंद किया जा सकता है।[8]

जन्म के बाद शल्य चिकित्सा की तत्काल आवश्यकता को देखते हुए, यह अनुशंसा की जाती है कि इन उच्च जोखिम वाले नियोनेट्स की देखभाल के लिए सुसज्जित सुविधा पर वितरण हो, क्योंकि अन्य सुविधाओं में स्थानान्तरण प्रतिकूल परिणामों का जोखिम बढ़ा सकता है।[9] इस बात का कोई सबूत नहीं है कि सीज़ेरियन डिलीवरी गैस्ट्रोस्काइसिस के साथ बच्चों के लिए बेहतर नतीजों का कारण बनती है, इसलिए सीज़ेरियन डिलीवरी केवल तभी माना जाता है जब अन्य संकेत हैं।[10]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Gastroschisis". Genetic and Rare Diseases Information Center (GARD). 2017. Archived from the original on 5 July 2017. Retrieved 14 July 2017.
  2. Sadler, Thomas W. (August 2010). "The embryologic origin of ventral body wall defects". Seminars in Pediatric Surgery.
  3. National Center on Birth Defects and Developmental Disabilities Home | NCBDDD | CDC. 27 June 2017. Archived from the original on 18 July 2017. Retrieved 14 July 2017.
  4. Sadler, Thomas W. (August 2010). "The embryologic origin of ventral body wall defects". Seminars in Pediatric Surgery. 19 (3): 209–214।
  5. Conn's current therapy 2017. Bope, Edward T., Kellerman, Rick D. Philadelphia: Elsevier. 2017।
  6. "Facts about Gastroschisis". CDC. June 27, 2017. Archived from the original on July 18, 2017.
  7. D'Antonio, F; Virgone, C; Rizzo, G; Khalil, A; Baud, D; Cohen-Overbeek, TE; Kuleva, M; Salomon, LJ; Flacco, ME; Manzoli, L; Giuliani, S (July 2015)।
  8. Conn's current therapy 2017. Bope, Edward T., Kellerman, Rick D. Philadelphia: Elsevier. 2017.
  9. W., Bianchi, Diana (2000). Fetology: diagnosis & management of the fetal patient. Bianchi, Diana W., Crombleholme, Timothy M., D'Alton, Mary E. New York: McGraw-Hill, Medical Pub. Division।
  10. Segel, S. Y.; Marder, S. J.; Parry, S.; Macones, G. A. (November 2001). "Fetal abdominal wall defects and mode of delivery: a systematic review". 98 (5 Pt 1): 867–873