गेर्हार्ड श्र्योडर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
गेर्हार्ड श्र्योडर
Gerhard Schröder (cropped).jpg

पद बहाल
२७ अक्टूबर १९९८ – २२ नवम्बर २००५
राष्ट्रपति रोमन हर्ज़ोग
जोहान्स रॉउ
हॉर्स्ट कूह्लर
कुलपति जोस्का फिशर
पूर्वा धिकारी हेल्मुट कोल
उत्तरा धिकारी एंजेला मर्केल

जर्मनी की सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रमुख
पद बहाल
१२ मार्च १९९९ – २१ मार्च २००४
पूर्वा धिकारी ओस्कर लाफोंटेन
उत्तरा धिकारी फ्रांज म्यून्टफेरिंग

पद बहाल
१ नवम्बर १९९७ – २७ अक्टूबर १९९८
पूर्वा धिकारी एरविन टेफेल
उत्तरा धिकारी हंस एशेल

लोअर सैक्सनी के प्रधान मंत्री
पद बहाल
२१ जून १९९० – २७ अक्टूबर १९९८
पूर्वा धिकारी अर्न्स्ट अल्ब्रेक्ट
उत्तरा धिकारी गेरहार्ड ग्लोगोव्स्की

जन्म 7 अप्रैल 1944 (1944-04-07) (आयु 74)
ब्लॉमबर्ग, नॉर्थ राइन-वेस्टफालिया, जर्मनी
राजनीतिक दल जर्मनी की सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी
बच्चे
शैक्षिक सम्बद्धता गौटिंगेन विश्वविद्यालय
हस्ताक्षर

गेर्हार्ड श्र्योडर (अंग्रेज़ी: Gerhard Schröder) (जन्म ७ अप्रैल १९४४) जर्मनी के व्यवसायी और राजनीतिज्ञ है। वे भूतपूर्व जर्मनी के चांसलर भी हैं जिन्होने २७ अक्टूबर १९९८ से २२ नवम्बर २००५ तक कार्य किया। वे राजनेता बनने से पहले एक वकील थे और चांसलर बनने से पहले उन्होंने १९९० से १९९८ तक लोअर सैक्सनी के प्रधान मंत्री के रूप में सेवा की।

जीवन[संपादित करें]

चांसलर के रूप में, श्र्योडर यूरोपीय एकीकरण को बढ़ावा देते थे, जर्मनी की बेरोजगारी की उच्च दर को कम करने में जुटे थे और, ऊर्जा उत्पादन में परमाणु ऊर्जा उत्पादन के उपयोग को सीमित करना का लक्ष्य रखत थे। पूर्वी जर्मनी के आर्थिक पुनर्निर्माण को आगे बढ़ाने के भी उन्होंने प्रयास किये। उनकी सरकार ने नागरिकता के जर्मन कानूनों को उदार बनाया और विदेशी माता-पिता के बच्चों को दोहरी राष्ट्रीयता की अनुमति दे कर वयस्क होने पर अपनी पसंदीदा राष्ट्रीयता चयन करने की अनुमति दी। आर्थिक विकासहीनता और उच्च बेरोजगारी जारी रहने के बावजूद, २००२ में श्र्योडर चांसलर के रूप में दोबारा चुन लिए गये।[1]

सन् २०१७ में श्र्योडर को रुसी तेल कंपनी रोसनेफ्ट का चेयरमैन नियुक्त किया गया। इसके विरोध में कई प्रदर्शन हुए और उनकी आलोचना की गई।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]