गेम टेस्टिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

गेम टेस्टिंग (अंग्रेज़ी: Game Testing) गेम विकास, व सॉफ्टवेयर टेस्टिंग का एक हिस्सा है जिसमे वीडियो गेम की गुणवत्ता परखी जाती है।[1][2][3] इसका मुख्य कार्य गेम में मौजूद बग्स (खामियां) ढूंड कर उन्हें लिखना होता है।

कार्यप्रणाली[संपादित करें]

गेम टेस्टिंग को मुख्यतः निम्नलिखित तरीकों में बांटा जा सकता है:

  • कार्यक्षमता परीक्षण (फंक्शनलिटी टेस्टिंग)
  • अनुपालन परीक्षण (कंप्लायंस टेस्टिंग)
  • अनुकूलता परीक्षण (कम्पैटिबलिटी टेस्टिंग)
  • स्थानीयकरण परीक्षण (लोकलाईजेशन टेस्टिंग)
  • सोक टेस्टिंग
  • बेटा टेस्टिंग
  • रिग्रेशन टेस्टिंग
  • लोड टेस्टिंग
  • मल्टीप्लेयर टेस्टिंग

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Bates 2004, pp. 176-180
  2. Moore, Novak 2010, p. 95
  3. Oxland 2004, p. 301-302

बाहरी सन्दर्भ[संपादित करें]

  • एडम्स, अर्नस्ट; रोलिंग, ऐंड्रू (2003). एंड्रू रोलिंग्स एंड एडम्स ऑन गेम डिज़ाइन. न्यू राइडर्स पब्लिशिंग. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-59273-001-9.
  • बेट्स, बॉब (2004). गेम डिज़ाइन (2nd संस्करण). Thomson Course Technology. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-59200-493-8.
  • Moore, Michael E.; Novak, Jeannie (2010). Game Industry Career Guide. Delmar: Cengage Learning. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-4283-7647-2.
  • Oxland, Kevin (2004). Gameplay and design. Addison Wesley. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-321-20467-0.