गुलबर्ग सोसाइटी नरसंहार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गुलबर्ग सोसाइटी नरसंहार 28 फरवरी 2002 को 2002 गुजरात दंगों के दौरान तब हुआ था, जब राष्ट्रवादियों की एक भीड़ ने गुलबर्ग सोसाइटी (अहमदाबाद के चमनपुरा में स्थित एक मुस्लिम मुहल्ला) पर हमला किया। हमले में सोसाइटी के अधिकतम घर जला दिए गए, और कम से कम 35 लोग (जिनमें कांग्रेस के पूर्व सांसद एहसान जाफ़री भी शामिल थे) जिन्दा जलकर मरे। हमले के बाद 31 लोग लापता थे, इन्हें बाद में मृत मान लिया गया।[1][2][3][4][5]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Year later, Gulbarg still a ghost town". The Indian Express. 1 March 2003. Archived from the original on 9 जनवरी 2020. Retrieved 3 जून 2016. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  2. "Apex court SIT submits report on Gulbarg Society massacre". Hindustan Times. 14 May 2010. Archived from the original on 6 जून 2011. Retrieved 3 जून 2016. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  3. Shelton, p. 502
  4. "The Gulbarg Society massacre: What happened". NDTV. 11 March 2010. Archived from the original on 28 जनवरी 2011. Retrieved 3 जून 2016. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  5. "Safehouse of Horrors". Tehelka. 3 November 2007. Archived from the original on 20 मार्च 2017. Retrieved 3 जून 2016. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)


ग्रन्थ सूची[संपादित करें]

  • Shelton, Dinah (2005). Encyclopedia of Genocide and Crimes Against Humanity (Volume 2). Macmillan Reference. ISBN 0-02-865849-3.