गुरमीत राम रहीम सिंह इन्साँ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
गुरमीत राम रहीम सिंह इन्साँ Makhan Singh Insan
Saint Gurmeet Ram Rahim Singh Ji Insan (cropped).jpg
जन्म 15 अगस्त 1967 (1967-08-15) (आयु 52)
श्री गुरुसर मोडिया (राजस्थान, भारत
आवास सिरसा, हरियाणा, भारत[1]
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय आध्यात्मिक नेता, सामाजिक कार्यकर्ता, अभिनेता, गायक
बच्चे 4
माता-पिता
  • नसीब कौर
  • मघर सिंह
वेबसाइट
Official website

गुरमीत राम रहीम सिंह इन्साँ हरियाणा के सिरसा में स्थित आध्यात्मिक संस्था डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख है।[2] डेरा सच्चा सौदा की स्थापना १९६८ में शाह मस्ताना जी द्वारा की गई थी। गुरमीत इस संस्था के तीसरे प्रमुख हैं। इनके कार्यकाल में डेरा का अभूतपूर्व प्रचार प्रसार हुआ और इनके अनुयायियों की संख्या में कई गुना वृद्धि हुई। गुरमीत राम रहीम सिंह के नेतृत्व में डेरा सच्चा सौदा में कई सकारात्मक कार्य किये गए, नए नए प्रयोग किए गए, वहीं वे हमेशा विवादों में भी बने रहे। विवादों की परिणति 25 अगस्त 2017 को एक यौन शोषण मामले में अदालत द्वारा इन्हें दोषी करार दिए जाने के रूप में हुई।[3] इस मामले में राम रहीम को 20 साल के सश्रम कारावास व 65 लाख रूपये जुर्माने की सजा हुई। और राम रहीम को पत्रकार राम चन्द्र छत्रपति हत्या काँड में 11 जनवरी 201० को दोषी करार दिया गया व दिनांक 17 जनवरी 2019 को सीबीआई की विशेष आदालत ने उम्र कैद की सजा सुनाई है।

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

गुरमीत राम रहीम सिंह सिद्धू मूल के पंजाबी जाट है। स्वयं गुरमीत राम रहीम सिंह के अनुसार उसका जन्म १५ अगस्त १९६७ को माता नसीब कौर और पिता मघर सिंह के यहाँ गुरूसर मोदिया गांव में हुआ था। यह परिवार डेरा सच्चा सौदा का भक्त था।

आध्यात्मिक नेता[संपादित करें]

डेरा के द्वितीय प्रमुख शाह सतनाम जी ने गुरमीत सिंह को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया। सिरसा के डेरा सच्चा सौदा की कमान राम रहीम ने 90 के दशक में संभाली थी। गद्दी संभालने के बाद वे भी परंपरानुसार सत्संग, प्रवचन आदि देने लगे। इनके नेतृत्व में डेरे के भक्तों की संख्या में काफी वृद्धि हुई। आमतौर पर व्यक्तिगत आध्यात्म पर केंद्रित इस संस्था को इन्होंने सामाजिक रूप से सक्रिय बनाया। इनके द्वारा कई प्रकार के सकारात्मक सामजिक कार्य किए गए, यथा:

  • सर्वधर्म समभाव का संदेश देने के लिए इन्होंने अपने नाम में सभी धर्मों के नाम शामिल किए व अपना नाम गुरमीत सिंह से बदलकर गुरमीत राम रहीम सिंह रखा।
  • जातिप्रथा की समाप्ति का आह्वान किया तथा अपने भक्तों से जातिवाचक नाम हटाकर इन्साँ नाम लगाने को प्रेरित किया।
  • कई वेश्याओं को अपनी पुत्री का दर्जा देकर अपनाया व अनुयायियों से आह्वान कर उनके घर बसाए।
  • बालिका भ्रूण ह्त्या के विरुद्ध अभियान चलाया। अनुयायियों को प्रेरित किया कि यदि एक से अधिक पुत्र हों तो दूसरे पुत्र को घर-जमाई के रूप में कन्या के मातापिता की सेवा करने को कहें।
  • सामूहिक रक्तदान अभियान आदि के कई कीर्तिमान स्थापित किए गए।
  • आपदा प्रबंधन के लिए शाह सतनाम जी ग्रीन वैलफेयर फोर्स के नाम से प्रशिक्षित अनुयायियों के दल का गठन किया गया।
  • व्यापक स्तर पर सफाई अभियान छेड़ा। इसके अंतर्गत हजारों डेरा प्रेमियों द्वारा एक ही दिन में पूरे शहर की सफाई के कई अभियान संपन्न किए।
  • नशे के विरुद्ध आभियान चलाया।
  • रासायनिक खेती को छोड़कर जैविक खेती अपनाने की मुहिम चलाई।
  • MSG के नाम से कई उत्पाद भी बनाने शुरु किए जिससे कई लोगों को रोजगार प्राप्त हुआ।
  • आधुनिक पीढ़ी को संदेश देने के लिए फिल्में बनाईं तथा आधुनिक शैली में गायन भी किया।

फिल्में व गायन[संपादित करें]

राम रहीम का पहला म्यूजिक ऐल्बम 'हाइवे लव चार्जर' नाम से 2014 में आया था। गुरमीत राम रहीम सिंह ने 2015 में फिल्मों में प्रवेश किया था। 5 फिल्मों का भी निर्माण किया।[4][5]

विवाद[संपादित करें]

  • नए प्रयोग जैसे कि फ़िल्में बनाना व आधुनिक शैली में गायन, कंसर्ट आदि अनुयायियों के अतिरिक्त आम जनता द्वारा आलोचना के शिकार बने।
  • राजनीति में इनका दखल रहा। अनुयायियों को किसी दलविशेष को वोट देने को प्रेरित करने की परंपरा हमेशा विवादों में रही। इनके दामाद भी विधायक रहे।
  • २००२ में साध्वियों के यौन शोषण के आरोप लगे।
  • २००२ में ही यौन शोषण की खबर छापने वाले स्थानीय पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के भी आरोप इनपर लगे।
  • डेरे में साधुओं की जबरन नसबंदी करने के भी आरोप लगे व केस दर्ज हुए।
  • एक समारोह में इनके वेष को सिख संगठनों द्वारा गुरु गोविंद सिंह की नकल माना गया जिससे उनकी भावनाएँ आहत हुई। लंबे विवाद के बाद डेरा प्रमुख ने माफी मांगी।

यौन शोषण केस में दोषी[संपादित करें]

25 अगस्त 2017 को पंचकूला की विशेष सीबीआई (केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो) अदालत ने डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम रेप(बलात्कार) केस में दोषी करार दिया। जिसकी वजह से पँचकुला और सिरसा मेँ दंगे हुए और प्रशासन की कारवाई से सरकारी आकड़ोँ के अनुसार 38 मौत हुई। सजा पर फैसला 28 अगस्त 2017 को आया।[6] जिसमें न्यायालय ने उन्हें 20 साल जेल व 30 लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। सीबीआई की विशेष अदालत ने डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को उनके खिलाफ दो बलात्कार के मामलों में 20 साल की जेल की सजा दी [7]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Dera strong with 50 million followers". TNP Zest. Retrieved 2015-06-08.[मृत कड़ियाँ]
  2. "5 फिल्में कर चुके हैं राम रहीम, जानें 100 करोड़ के कलेक्शन का राज". Archived from the original on 25 अगस्त 2017. Retrieved 25 अगस्त 2017. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  3. "The day a rapist held India hostage". Archived from the original on 28 अगस्त 2017. Retrieved 28 अगस्त 2017. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  4. "'लव चार्जर बाबा' गुरमीत राम रहीम ऐसे बने धार्मिक 'रॉक स्टार'". Archived from the original on 25 अगस्त 2017. Retrieved 25 अगस्त 2017. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  5. "धर्म गुरुओं के न जानें कितने चेहरे, आसाराम से लेकर राम रहीम तक". Archived from the original on 25 अगस्त 2017. Retrieved 25 अगस्त 2017. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  6. "LIVE: डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम रेप केस में दोषी करार, सजा पर फैसला 28 अगस्त को". Archived from the original on 25 अगस्त 2017. Retrieved 25 अगस्त 2017. Check date values in: |access-date=, |archive-date= (help)
  7. "गुरमीत राम रहीम सिंह रेप केस". अमर उजाला. Archived from the original on 14 सितंबर 2017. Retrieved 14 September 2017. Italic or bold markup not allowed in: |publisher= (help); Check date values in: |archive-date= (help)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]