सामग्री पर जाएँ

गुजरात सल्तनत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
सल्तनत के समय में बना तीन दरवाजा

गुजरात सल्तनत या गुजरात की सल्तनत, पश्चिमी भारत में 15वीं शताब्दी की शुरुआत में भारत के वर्तमान राज्य गुजरात में स्थापित एक मध्यकालीन मुस्लिम राज्य था। इस राज्य की स्थापना सुल्तान ज़फर खान मुज़फ्फर ने की थी। वह दिल्ली के सुल्तान फिरोज शाह तुगलक के साथ अपनी बहन की शादी के बाद राजसी परिवार के हो गए थे। उन्हें दिल्ली सल्तनत के तहत गुजरात का राज्यपाल (नायब) बनाया गया। दिल्ली सल्तनत पर तैमूर के आक्रमण के बाद दिल्ली तबाह हो गई थी और उसका शासन काफी कमजोर हो गया था। इसलिए ज़फर खान ने 1407 में खुद को स्वतंत्र घोषित कर दिया और औपचारिक रूप से सल्तनत की स्थापना की।

अगले सुल्तान उनके पोते अहमद शाह प्रथम ने 1411 में अहमदाबाद को राजधानी बनाया। उनके उत्तराधिकारी मुहम्मद शाह द्वितीय ने अधिकांश राजपूत सरदारों को अपने अधीन कर लिया। महमूद बेगड़ा के शासन के दौरान सल्तनत की समृद्धि अपने चरम पर पहुंच गई।[1] उन्होंने अधिकांश गुजराती राजपूत सरदारों को भी अपने अधीन कर लिया और दीव के तट पर एक नौसेना का निर्माण किया। 1509 में, पुर्तगाली साम्राज्य ने दीव की लड़ाई (1509) में सल्तनत से दीव को छीन लिया।[2] मुग़ल बादशाह हुमायूँ ने 1535 में गुजरात पर हमला किया और कुछ समय के लिए उस पर कब्जा कर लिया। उसके बाद 1537 में एक सौदा करते हुए बहादुर शाह को पुर्तगालियों ने मार डाला। सल्तनत का अंत 1573 में हुआ जब अकबर ने गुजरात सल्तनत को अपने साम्राज्य में मिला लिया। अंतिम शासक मुजफ्फर शाह तृतीय को बंदी बनाकर आगरा ले जाया गया। 1583 में, वह जेल से भाग गए और थोड़े समय के लिए सिंहासन हासिल करने में सफल रहे। बाद में अकबर की सेना से उन्हें अंतिम बार पराजित किया।

सन्दर्भ

[संपादित करें]
  1. "खाने के साथ जहर पीता था गुजरात का ये सुल्तान, रेशमी मूंछ रखने का था शौकीन". आज तक. 3 फरवरी 2023. अभिगमन तिथि 13 मई 2023.
  2. "भारतीय समंदर में हुई इस लड़ाई ने दुनिया बदल दी!". अभिगमन तिथि 13 मई 2023.