गिरिडीह जिला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
गिरिडीह ज़िला
ᱜᱤᱨᱤᱰᱤᱦ ᱦᱚᱱᱚᱛ

Giridih district
Skyline of गिरिडीह ज़िला ᱜᱤᱨᱤᱰᱤᱦ ᱦᱚᱱᱚᱛ
झारखंड में गिरिडीह ज़िला
झारखंड में गिरिडीह ज़िला
प्रान्तझारखंड
देश भारत
मुख्यालयगिरिडीह
क्षेत्रफल
 • कुल4853.56 किमी2 (1,873.97 वर्गमील)
जनसंख्या (2011)
 • कुल24,45,774
भाषा
 • प्रचलितहिन्दी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)

गिरिडीह ज़िला भारत के झारखण्ड राज्य का एक जिला है। इसका मुख्यालय गिरिडीह है।[1][2]

विवरण[संपादित करें]

गिरिडीह झारखण्ड राज्य के पूर्वोत्तर में स्थित एक जिला है। यह अबरख (Mica) एवं कोयला (Coal) जैसे खनिजों के लिए प्रसिद्ध है। जैनियों का प्रसिद्ध तीर्थस्थल पार्श्वनाथ भी इसि जिले में स्तिथ है, जो की जिला मुख्यालय से २६ किलोमीटर की दुरी पर है। झारखण्ड की राजधानी रांची से यहाँ की दुरी करीब २०५ किलोमीटर है। नोबेल पुरस्कार विजेता एवं महँ वैज्ञानिक सर जगदीश चन्द्र बोस भी यहीं से थे।

ज़िले का मुख्यालय गिरिडीह शहर है। गिरिडीह जिला ४ दिसम्बर १९७२ को हजारीबाग जिला के विभजन के तौर पर बना था। यह जिला २४ डिग्री ११ मिनट उत्तरी अझांश और ८६ डिग्री १८ मिनट पूर्वी देशांतर के बीच स्थित है। यह जिला उत्तरी छोटानागपुर प्रमण्डल के मघ्य में स्थित है। इसके उत्तर में बिहार रज्य के जमुई और नवदा जिले हैं, पुर्व में देवधर और जामताड़ा, दक्षिण में धनबाद और बोकारो तथा पश्चिम में हजारीबाग एवं कोडरमा जिले है। गिरिडीह जिला ४८५३.५६ वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। प्रसिद्ध पारसनाथ पहाड़ी यहीं पर स्थित है और यह झारखंड का सबसे ऊंची चोटी है जिसकी ऊँचाई समुद्र तल से ४४३१ फीट है। यह जिला रूबी, अभ्रक और कोयला जैसे खनिजों के लिए भी प्रसिध्द है। प्रसिध्द शेर शाह सूरी मार्ग (रष्ट्रीय राजमार्ग सं. २) इस जिले से होकर गुजरती है।

इतिहास[संपादित करें]

गिरिडीह जिला का इतिहास यह बताता है कि यह छोटानागपुर पठार के हजारीबाग जिला का एक हिस्सा है। छोटा नागपुर का संपूर्ण क्षेत्र जो झारखंड के रूप में जाना जाता है दुर्गम पहाड़ियों और जंगलों से घिरा है। हालांकि यह क्षेत्र भारत के कई भागों के साथ संपर्क में था, अभी तक गैर आर्य आदिवासी जिसका कोई राजा न था यहाँ निवास करता था। नियमित विदेशी आक्रमणकारियों के कारण छोटा नागपुर के निवासियों ने एक राजा के चुनाव का फैसला लिया और मुण्डा राज्य का राजा बना. गिरिडीह जिला के इतिहास के अनुसार, गिरिडीह जिला सहित छोटानागपुर प्रमण्डल अशोषित रूप में प्रकट प्रतीत हुआ है। 1556 ई0 में दिल्ली के गद्दी का उत्तरघिकारी अकबर ने झारखण्ड के इतिहास को नया मोड़ दिया. मुगल सम्राटों के लिए यह खुखरा के रूप में जाना जाता था। उस अबधि के दौरान, इस क्षेत्र का प्रथम मुगल राजस्व प्रसासन के रूप में पेश किया गया . रामगढ़ केंदी कुंदा और खरगडीहा (जो कि पुराने जिले हजारीबाग के साथ गिरिडीह को शामिल कर गठित किया था) एवं पूरे पलामू विजय प्रांत थे जिनको ब्रिटिश जिला के रूप मे गठन किया गया। 1931 में कोल के उत्पादन में बढ़ोत्तरी का बाद क्षेत्र की प्रसाशनिक संरचना बदल गयी पर गिरिडीह को गंभीरता से प्रभावित नहीं कर पाया। ये प्रान्त दक्षिण पश्चिम फ्रोंटियर का हिस्सा बन गए और एक प्रमंडल का गठन किया जो की हजारीबाग था, जिसका प्रसाशनिक मुख्यालय हजारीबाग था। 1954 में दक्षिण पश्चिम फ्रोंटियर एजेंसी छोटा नागपुर में बदल गया और यह बिहार के लेफ्टिनेंट गवर्नर के तहत एक गैर विनियमन प्रान्त केरूप में प्रसाशित किया जाने लगा.

भूगोल[संपादित करें]

भौगोलिक दृष्टि से, गिरिडीह जिला मोटे तौर पर दो प्राकृतिक डिवीजनों, अर्थात् केंद्रीय पठार और निचले पठार में विभाजित है। केंद्रीय पठार, जिले के बगोदर ब्लॉक के निकट पश्चिमी भाग छूती है। निचले पठार की औसत ऊंचाई उनकी उतार-चढाव सतह से 1300 फुट है। उत्तर और उत्तर पश्चिम में, निचली पठार काफी फार्म का स्तर पठार होता है जब तक कि 700 फुट नीचे घाटों पर नहीं पहुंचते. जिला में शामिल विशाल जंगलों को समान रूप से वितरित कर हैं। पेड़ों में सबसे प्रसिद्ध साल है और प्रमुख प्रजातियों यहाँ पाया जाता है। अन्य प्रजातियाँ बांस, सिमुल, महुआ, पलास, कुसुम, केन्द, आसन पीयार और भेलवा हैं। गिरिडीह जिला दो मुख्य जलसिराओं में विभाजित है- बराकर और सकरी नदी. जिला खनिज संसाधनों में समृद्ध है और इसे यहाँ कई बड़े कोयला क्षेत्र हैं जो भारत में मेटलर्जिकल कोल की सर्वोत्तम गुणों के होते है। झारखंड के इस जिले में बड़े पैमाने पर मीका पाया जाता है, जो की न केवल भारत बल्कि अन्य देशों के लिए भी महत्वपूर्ण है। यह ज्यादातर तिसरी और गांवा ब्लॉकों में पास पाया जाता है।

पर्यटक स्थल[संपादित करें]

गिरिडीह जिले में कई लोकप्रिय पर्यटक स्थल हैं। जिले के दर्शनीय स्थलों की यात्रा दर्शनीय विकल्पों में पेश करता हैं। इस जिले का दौरा करने वाले यात्रियों को उपलब्ध विकल्पों के साथ एक साहसिक अनुभव भी होता है। गिरिडीह जिले के महत्वपूर्ण्यटक स्थल उसरी फॅाल, खण्डोली, मधुबन, पारसनाथ(मारांग् बुरू), राजदह धाम निमाटाँड, झारखण्डी धाम और हरिहर धाम हैं। 2001 की जनगणना के अनुसार गिरिडीह जिले के कुल आबादी 19,01,564 है। गिरिडीह जिले में ५अनुमंडल गिरिडीह सदर, खोरिमहुआ, बगोदर- सरिया और डुमरी है। गिरिडीह जिले में 13 सामुदायिक विकास प्रखण्ड, गिरिडीह, गाण्डेय, बेंगाबाद, पीरटांड, डुमरी, बगोदर, सरीया, बिरनी, धनवार , जमुआ, देवरी, तिसरी और गांवा हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

गिरिडीह में पर्यटक स्थल

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Lonely Planet Bihar & Jharkhand," Lonely Planet Publications, 2012, ISBN 9781743212004
  2. "Superfast Jharkhand GK," Prabhat Prakashan