गढ़वाल राइफल्स

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(गढ़वाल रेजीमेंट से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

इसने १९वीं सदी के अंत और २०वीं सदी की शुरुआत के सीमावर्ती अभियानों के साथ-साथ विश्व युद्धों और स्वतंत्रता के बाद लड़े गए युद्धों में भी काम किया।[2] यह मुख्य रूप से राजपूत और ब्राह्मण गढ़वाली सैनिकों से बना है। [3] आज यह २५,००० से अधिक सैनिकों से बना है, जो इक्कीस नियमित बटालियन (यानी २ से २२ वीं) में संगठित हैं, गढ़वाल स्काउट्स जो जोशीमठ में स्थायी रूप से तैनात हैं और १२१ इन्फ बीएन टीए और १२७ इन्फ बीएन टीए सहित प्रादेशिक सेना की दो बटालियन हैं। (इको) और 14 आरआर, 36 आरआर, 48 आरआर बटालियन भी रेजिमेंट का हिस्सा हैं। [3] तब से पहली बटालियन को मैकेनाइज्ड इन्फैंट्री में बदल दिया गया है और मैकेनाइज्ड इन्फैंट्री रेजिमेंट का हिस्सा इसकी छठी बटालियन के रूप में है।[2] रेजिमेंटल प्रतीक चिन्ह में एक माल्टीज़ क्रॉस शामिल है और यह निष्क्रिय राइफल ब्रिगेड (प्रिंस कंसोर्ट्स ओन) पर आधारित है क्योंकि वे एक नामित राइफल रेजिमेंट हैं। [उद्धरण वांछित] नियमित राइफल रेजिमेंट के विपरीत, वे 10 ऐसी इकाइयों में से एक हैं जो नियमित गति से चलती हैं। भारतीय सेना के समारोहों में। [उद्धरण वांछित]

गढ़वाल राइफल्स भारतीय सेना का एक सैन्य-दल है।

इस पलटन का गठन 4 नवंबर 1887 को हुआ।

भारत की सबसे ज्यादा वीरता चक्र प्राप्त करने वाली रेजिमेंट है ।

बड़े चलो गढ़वालियो, बड़े चलो  ❤️

जय बदरीविशाल लाल की जय

देवभूमि उत्तराखंड ❤️

गढ़वाल राइफल:- सबसे ज्यादा ब्रेवरी अवॉर्ड पाने वाली रेजीमेंट, गढ़वाल राइफल्स का ध्येय वाक्य ‘युद्धाय कृत निश्चय’ है। इस रेजीमेंट का उद्घोष है जय बदरी विशाल लाल

||रक्षक हैं बदरी विशाल|| 🇮🇳 देश की आन, बान और शान पर अपना सर्वोच्च बलिदान देने वाले वीर सपूतों को सत सत नमन 🇮🇳

🇮🇳🇮🇳जय हिंद🇮🇳🇮🇳

  1. badrivishal
  2. gadwali #rifles #gadwalrifles
  3. jaihind #indainarmy #army #uttarakhanddevdarshan
  4. dream