गढ़वा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
गढ़वा
Garhwa
गढ़वा is located in झारखण्ड
गढ़वा
गढ़वा
झारखंड में स्थिति
निर्देशांक: 24°10′N 83°48′E / 24.16°N 83.80°E / 24.16; 83.80निर्देशांक: 24°10′N 83°48′E / 24.16°N 83.80°E / 24.16; 83.80
ज़िलागढ़वा ज़िला
प्रान्तझारखण्ड
देश भारत
जनसंख्या (2011)
 • कुल46,059
भाषाएँ
 • प्रचलितहिन्दी
समय मण्डलभामस (यूटीसी+5:30)

गढ़वा (Garhwa) भारत के झारखण्ड राज्य के गढ़वा ज़िले में स्थित एक शहर है। यह ज़िले का मुख्यालय भी है। राष्ट्रीय राजमार्ग 39 यहाँ से गुज़रता है।[1][2]

विवरण[संपादित करें]

यह गढवा ज़िले का मुख्यालय है। ज़िले का निर्माण पलामू के आठ प्रखंडो को मिलाकर 1 अप्रैल 1991 को किया गया जो पलामू के दक्षिण पश्चिम हिस्से में स्थित थे। गढवा के दक्षिण में कनहर नदी बहती है जो इसे छत्तीसगढ़ से अलग करती है, पूर्व में पलामू है और पश्चिम में छत्तीसगढ का सरगुजा जिला तथा उत्तर प्रदेश का सोनभद्र जिला है। गढवा के प्रखंडों में गढवा सहित- मेराल, रंका, भंडरिया, मंझिआंव, नगर उंटारी, भवनाथपुर एवं धुरकी शामिल थे। बाद में इन्हीं प्रखंडों में से छह और नये प्रखंड सृजित किए गए जिनमें डंडई, चिनिया, रमना, रमकंडा एवं कांडी शामिल थे।

यातायात[संपादित करें]

गढवा रेल एवं सडक द्वारा भारत के बाकी हिस्सों से सुगम संपर्क में है। झारखंड में रांचीएवं अन्य स्थानों से गढवा के लिए सीधी बस सेवा उपलब्ध है। इसके अलावा बिहार एवं छत्तीसगढ के भी कुछ अन्य स्थानों से यहां के लिए बस सुविधा है। इस जिले से होकर कोई राष्ट्रीय राजमार्ग नहीं गुजरती लेकिन २१० किलोमीटर राज्य उच्च पथ एवं ९६ किलोमीटर लंबाई की जिला सडक इस शहर के विभिन्न हिस्सों को जोडती है। जिनमें गढवा मुरीसेमर रोड जो नगर उंटारी होते हुए झारखंड को उत्तर प्रदेश के बनारस एवं इलाहाबाद क्षेत्रों से जोडता है, तथा रेहला गोदरमना]] रोड जो गढवा को नव निर्मित प्रदेश छत्तीसगढ़ से जोडता है। रेलगाडी से यहां पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी स्टेशन गढ़वा टाउन है। यह जिला अभी भी वायु मार्ग से नहीं जुडा है।

मंदिर[संपादित करें]

यहां एक "गढदेवी मंदिर" है ,जो कि गढ़वा शहर के बीचों-बीच स्थित है तथा आसपास के क्षेत्र में लोकप्रिय एवं प्रसिद्ध है। और गढ़वा जिले के बिशुनपुरा प्रखंड में विष्णु मंदिर,खोटा बाबा का मंदिर है ये मंदिर बहुत ही प्रतिष्ठित है। और साथ ही नगर उंटारी के बंशीधर मंदिर भी काफी लोकप्रिय हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Tourism and Its Prospects in Bihar and Jharkhand Archived 2013-04-11 at the Wayback Machine," Kamal Shankar Srivastava, Sangeeta Prakashan, 2003
  2. "The district gazetteer of Jharkhand," SC Bhatt, Gyan Publishing House, 2002