खैर-उल-मनाज़िल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
खैर-उल-मनाज़िल
Khairul Manazil Mosque 03.jpg
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिनई दिल्ली, भारत
वास्तु विवरण
प्रकारमस्जिद
निर्मातामहम अंगा
निर्माण पूर्ण1561


खैरुल मंज़िल या खैर-उल-मनाज़िल अर्थात् 'सबसे शुभ घर' एक ऐतिहासिक मस्जिद है जिसे 1561 में नई दिल्ली, भारत में बनाया गया था। मस्जिद मथुरा रोड पर पुराना किला के सामने शेरशाह गेट के दक्षिण पूर्व में स्थित है। मस्जिद के प्रवेश द्वार को मुगल वास्तुकला का अनुसरण करते हुए लाल बलुआ पत्थर से बनाया गया था, लेकिन इमारत की आंतरिक संरचना दिल्ली सल्तनत पैटर्न में बनाई गई थी। [1]

इतिहास[संपादित करें]

इस मस्जिद का निर्माण महम अंगा ने करवाया था जो बादशाह अकबर की पालक माँ जेसी थीं। ऐसा कहा जाता है कि १५६४ में, अकबर पर मस्जिद के पास एक हत्यारे ने हमला किया था, जब वह निजामुद्दीन दरगाह से लौट रहा था। बाद में इसे मदरसे के रूप में इस्तेमाल किया जाने लगा।[2] वर्तमान में यह भवन भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के संरक्षण में है।[1]

केंद्रीय द्वार के मेहराब के ऊपर संगमरमर की पट्टिका पर खुदी हुई फ़ारसी में पुरालेख सम्राट अकबर के दरबारी इतिहासकार और कवि मौलाना शिहाबुद्दीन अहमद खान (कलम का नाम: बाज़िल) द्वारा लिखा गया एक कालक्रम है, जिसे खुसरो की मृत्यु के लगभग दो सौ दस साल बाद हजरत निजामुद्दीन की दरगाह पर अमीर खुसरो की समाधि पर स्तुति के संगीतकार के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। अरबी में "खैरुल मनाज़िल" शब्द बनाने वाले अक्षर जब के नियम द्वारा उनके संख्यात्मक समकक्ष में अनुवादित होते हैं और हिजरी वर्ष ९६९ के अंकों को १५६१ ईस्वी के बराबर देते हैं [3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Driving past Khairul Manzil". indianexpress.com. 26 April 2009. अभिगमन तिथि 26 October 2017.
  2. R.V. Smith. "Gateway to medieval era". thehindu.com. अभिगमन तिथि 24 October 2017.
  3. Sir Syed Ahmad Khan "Asaar-us-sanadeed"