खासी पर्वतमाला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

खासी पर्वतमाला, भारत के राज्य मेघालय में स्थित गारो-खासी पर्वत शृंखला का एक भाग है, साथ ही यह पटकाई पर्वतशृंखला और मेघालय के उपोष्णकटिबंधीय वन पारिस्थिकी क्षेत्र का भी अंग है। पुराने स्रोतों में अकसर इसे खासिया पर्वतमाला लिखा गया है।

मुख्य रूप से यह क्षेत्र खासी जनजाति के लोगों का निवास स्थान है, जो पारंपरिक रूप से छोटे-छोटे कबीलों में रहते है जिन्हें खासी पहाड़ी राज्यों के नाम से जाना जाता है। इस राज्यों में से एक की राजधानी चेरापूंजी, को दुनिया में सबसे अधिक वर्षा वाले स्थानों में से एक माना जाता है।

28 अक्तूबर 1976 को इस क्षेत्र को पश्चिम खासी हिल्स जिला और पूर्वी खासी हिल्स जिला में विभाजित किया गया और संपूर्ण क्षेत्र खासी हिल्स जिला के तहत आ गया। खासी पर्वतमाला की सबसे ऊंची चोटी लुम शिलांग है जो 1968 मीटर ऊंची है। यह शिलांग शहर के दक्षिण में कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

प्रशासन[संपादित करें]

प्रशासकनिक रूप से खासी पर्वतमाला खासी हिल्स जिले का एक हिस्सा हुआ करती थी। 28 अक्टूबर 1976 को इस जिले का विभाजन पूर्वी खासी हिल्स जिला और पश्चिमी खासी हिल्स जिले के रूप में कर दिया गया। 4 जून 1992 को पूर्व खासी हिल्स जिले का पुन: विभाजन कर री-भोई जिले का निर्माण किया गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]