ख़ालेद हुसैनी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ख़ालेद हुसैनी
George and Laura Bush with Khaled Hosseini in 2007 detail2.JPG
वाइट हाउस में ख़ालिद हुसैनी
जन्मख़ालिद हुसैनी
04 मार्च 1965
काबुल, अफ़्ग़ानिस्तान
व्यवसायउपन्यासकार, डॉक्टर
भाषाअंग्रेज़ी
नागरिकताअमेरिकी
अवधि/काल2003 – वर्तमान
विधाउपन्यास
जीवनसाथीरोया हुसैनी
जालस्थल
http://www.khaledhosseini.com/
http://www.khaledhosseinibooks.info/

ख़ालेद हुसैनी (फ़ारसी: خالد حسینی [ˈxɒled hoˈsejni]; /ˈhɑːlɛd hˈsni/;[1] जन्म 4 मार्च, 1965) अफ़्ग़ान मूल के अमेरिकी उपन्यासकार और चिकित्सक है।[2][3]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

खालेद हुसैनी का जन्म अफगानिस्तान में हुआ था। पांच बच्चो में से वे सबसे बड़े थे। उन्होंने अपना बचपन काबुल में बिताया था। उनके पिता विदेश मंत्रालय में काम करते थे जबकि उनकी माँ फारसी साहित्य सिखाया करती थी। वह भारतीय सिनेमा से बहुत उत्कृस्ट हो गए थे और यही से उन्हें प्रेरणा मिली। वह शास्त्रीय फारसी काव्य में अधिक दिलचस्पी रखा करते थे। उन्हें पतंग उड़ाने का बेहद शोक था और इससे आधारित होकर उन्होंने अपनी पहली पुस्तक " कैट रनर " में इसका वर्णन किया।

प्रारंभिक ७० के दशक में, होसैनी के पिता अफगानिस्तान के दूतावास में तैनाथ हुए थे। इसी समय में उन्होंने शास्त्रीय फारसी के भाग में अपना ज्ञान बढ़ाया। वह विदेशी उपन्यास को पढ़कर शास्त्रीय फारसी साहित्यिक परंपरा में अपना ज्ञान बढ़ाना चाहते थे। हालांकि अफगान कि संस्कृति में एक साहित्यिक परंपरा कि लम्बी कमी थी, होसैनी को विदेशी उपन्यास का अनुवाद करना अधिक पसन्द था और उसने अपनी खुद की कहानियाँ लिखना शुरू कर दिया। उसने अपने परिवार के कुक को “हजारा जातीय समूह” का हिस्सा बनाया। यह एक अल्पसंख्यक था जो लंबे समय से अफगानिस्तान में भेदभाव का सामना कर रहा था। युवा खालेद हुसैनी ने अनपढ़ आदमी को पढ़ना और लिखना सिखाया और अपनी सोसाइटी में अन्याय से उसकी पहली अंतर्दृष्टि प्राप्त की।

जब २०० वर्षीय अफगान राजशाही को 1973 में उखाड़ फेंका गया हुसैनी काबुल में घर पर थे। राजा के चचेरे भाई, दाऊद खान ने खुद को नई गणराज्य का राष्ट्रपति घोषित किया, लेकिन अस्थिरता का एक लंबे युग शुरू हो गया था। १९७६ में, होसैनी के पिता को पेरिस के दूतावास में सौंपा गया था और खालिद उनके परिवार के साथ फ्रांस चले गए। हालांकि उन्हें इस समय यह नहीं पता था कि वो २७ साल के बाद ही अपने देश को वापस देख पाएगा। पेरिस में दो वर्ष रहने के बाद उन्हें खभर आई कि एक कम्युनिस्ट पार्टी ने दौड खान और उसके परिवार की हत्या कर दी है और उन्होंने अफगानिस्तान की सरकार को उखाड़ फेंका है।

यद्यपि नई सरकार सिविल सेवकों को पुरानई शासन से मुक्त नहीं कर रही थी, होसैनी को अभ भी आशा थी कि वो वापस अपने परिवार सहित, अफगानिस्तान जा सखे। नए नेताओं के बीच अंदरूनी और ग्रामीण इलाकों में सशस्त्र प्रतिरोध के कारण देश अराजकता में कूद पढ़ा था। होसैनी फ्रांस में तभी थे, जब सोवियत सेना ने १९७९ में अफगानिस्तान में प्रवेश किया। उन्हें निष्कासित करने के लिए कई हथियारबंद गुटों का प्रयास किया गया था। ५ लाख अफगान अपने देश को छोड़कर भाग गए थे, जबकि सोवियत ने पुरे देश को अपने कब्ज़े में ला लिया।

अफगानिस्तान में अपने परिवार के साथ वापस आने का सवाल बिलकुल बहार हो चूका था। होसैनी को बहुत आशा थी कि वो वापस आ सके लिकेन इस वक्त यह नामुमकिन नज़र आ रहा था। उन्होंने अमेरिका में राजनीतिक शरण के लिए आवेदन किया। युवा खालिद जो लगभग १५ साल का था, १९८० में कैलिफ़ोर्निया आ पहुंचा। उन्हें ज़रा सी भी अंग्रेजी नहीं आया करती थी। उनके परिवार ने सभ कुछ खो दिया था और उन सब को यह आशा थी कि सारा परिवार जल्द से जल्द काम में लग जाए और इसी सूचना के साथ था पिता और पुत्र, अफगान शरणार्थियों के साथ एक बाज़ार स्टाल में काम करने के लिए चले गए।

अमेरिका में स्कूल के पहले वर्ष में, अंग्रेजी के साथ, खालेद हुसैनी ने संघर्ष किया, लेकिन जॉन स्टीनबेक के अवसाद-युग उपन्यास " द ग्रेप्स ऑफ रैथ" ने साहित्य में उनका प्यार बढ़ाया। इस से प्रभावित होकर उसने फिरसे कहानियाँ लिखना शुरू कर दिया. लिकेन एस समय एक अलग बात थी की सारी कहानियाँ अंग्रेज़ी मैं लिखी गयी थी। खालिद के पिता को एक ड्राइविंग अनुदेशक के रूप में काम मिल गया और धीरे-धीरे परिवार की स्थिति में सुधार आने लगे, लेकिन खालिद, सबसे बढ़ा बच्चा था और नए देश में सफल होने के लिए एक विशेष जिम्मेदारी महसूस करने लगा। उन्होंने अपनी रेजीडेंसी UCLA मेडिकल सेंटर में पूरा कर लिया और पासाडेना में मेडिकल प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया। कुछ साल बाद उन्होंने विवाह कर लिया और अपनी पत्नी रोया के साथ अपने परिवारवालो से नजदीक होने के लिए उत्तरी कैलिफोर्निया में लौटने का फैसला लिया। होसैनी, स्वास्थ्य रखरखाव संगठन में शामिल हो गए और एक परिवार शुरू करने के लिए कैलिफोर्निया में बस गए। १९९८ में, सोवियत संघ के प्रस्थान के बाद, तालिबान ने अफगानिस्तान को घेर लिया था। महिलाओं के अधिकार और सभी विदेशी कला या संस्कृति को पूरी तरह से समाप्त किया गया था। होसैनी दुनिया को इस बात के बारे में बताना चाहते थे। उन्होंने अपनी कहानियों को उपन्यास में विस्तार करने का फैसला किया।

उनकी रचनाएँ[संपादित करें]

काईट रनर[संपादित करें]

Hosseini, Khaled (with actors)

वे डेढ़ साल तक हर सुबह चार बजे उठ कर अपने उपन्यास पर काम करते थे और उसके बाद पूरा दिन अपने रोगियों को देखते थे। जब संयुक्त राज्य अमेरिका और संबद्ध देशों ने अफगानिस्तान में सैन्य अभियानों की शुरूआत की, तब उन्होंने वह परियोजना छोड़ने पर विचार किया, लेकिन तालिबान की हार के साथ, उन्हें दुनिया को अपनी कहानी बताना पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण लगा। जब पूरी दुनिया की आँखें उनके देश पर थी, उन्होंने अपनी कहानी जो दो अफ़ग़ान लड़कों के बारे में थी, कैसे बचपन के दोस्त युद्ध की आपदाओं से अलग हो जाते हैं, और फिर कैसे उनकी ज़िन्दगी दो अलग अलग रास्तों पर रुख ले लेती है -उस कहानी को उन्होंने पूरा किया। हुसैनी ने पांडुलिपि को संभालने के लिए एक एजेंट ढूँढा, और प्रकाशक रिवेर्हेअद पुस्तकें, जो पेंग्विन समूह का एक प्रभाग था उन्हें किताब दे दी गयी। "काईट रनर" २००३ में, थोड़े प्रचार के साथ, प्रकाशित की गयी थी।

हार्ड कवर में किताब की प्रारंभिक बिक्री धीमी थी, लेकिन जैसे ही किताब की प्रतियां एक पाठक से दूसरे पाठक तक गयी -और ज्यादा लोगों को इस किताब के बारे में पता चला . पेपरबैक संस्करण ने दुनिया भर में एक उत्साह भरे पाठकों को पाया। "काईट रनर" ने न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलर सूची में दो साल से अधिक साल बिताए, और अपनी आरंभिक उपस्थिति के पांच साल के बाद सूची में लौट आयी . इस लेखन के रूप में, यह ४० से अधिक भाषाओं में प्रकाशित संस्करणों के साथ, १२ लाख से अधिक प्रतियां बिक चुकी हैं। हालाकि इसका सब हलकों में प्रशंसा के साथ स्वागत किया गया है, कुछ अफगान अफगानिस्तान में जातीय हुसैनी के पूर्वाग्रह के चित्रण पर आपत्ति जताने लगे। हुसैनी को कोई पछतावा नहीं था, और उन्हें आशा थी कि इस विषय के बारे में वह अपने देशवासियों के बीच एक अरसे से बातचीत कि चिंगारी लगा देंगे।

अपनी पुस्तक की सफलता के बाद, हुसैनी २७ साल में पहली बार अफगानिस्तान लौट गए। उन्होंने कहा कि वर्षों के युद्ध से वे अपने बचपन के शहर में जो तबाही हुई है उस से हैरान हैं। साथ ही आतिथ्य और उदारता की पारंपरिक भावना अपरिवर्तित हो रही थी। हर जगह, उन्होंने अपने देशवासियों के त्रासदियों का सामना करने की कहानियाँ सुनी।

हुसैनी ने अपनी पुस्तक प्रकाशित होने के बाद डेढ़ वर्ष के लिए दवा का अभ्यास जारी रखा, लेकिन लोगों कि मांग ने अंत में अनुपस्थिति की छुट्टी लेने के लिए उन्हें मजबूर किया। २००६ में उन्होंने दुनिया भर में युद्ध क्षेत्रों में विस्थापित लोगों की सहायता करने, शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त के लिए एक विशेष दूत के रूप में खालेद हुसैनी जी काम करने पर सहमत हुए। इस क्षमता में उन्होंने दारफुर से शरणार्थियों के साथ पूरा करने के लिए पूर्वी चाड करने के लिए कूच किया है और ईरान और पाकिस्तान से लौटे हुए शरणार्थियों के साथ पूरा करने के लिए अफगानिस्तान को लौट गए।

अ थाउजेंड स्प्लेंडिड संस[संपादित करें]

अफगानिस्तान में अपने २००३ यात्रा के बाद से, हुसैनी सोवियत कब्जे और गृह युद्ध के दौरान, और तालिबान की तानाशाही के तहत युद्ध पूर्व अफगानिस्तान में महिलाओं के अनुभव पर ध्यान केंद्रित कर, एक दूसरे उपन्यास पर काम कर रहे थे। बेसब्र पाठकों की एक सेना से प्रतीक्षित उनकी एक नई किताब, २००७ में प्रकाशित हुयी थीखालेद हुसैनी "अ थाउजेंड स्प्लेंडिड संस" १७ वीं सदी फारसी कवि "सेब ए तब्र्ज़ी" द्वारा एक कविता से शीर्षक ली हुई यह, कहानी दो महिलाओं, मरियम और लैला, की है जो एक ही अपमानजनक आदमी से शादी कर लेती हैं। अपने पूर्ववर्ती की तरह, "अ थाउजेंड स्प्लेंडिड संस" को जैसे ही प्रकाशित किया गया था, वह बेस्टसेलर सूची में, एक बड़े पैमाने पर अंतरराष्ट्रीय बेस्टसेलर बन गयी।"अ थाउजेंड स्प्लेंडिड संस" ने पेपरबैक संस्करण न्यूयॉर्क टाइम्स बेस्टसेलर सूची में दो साल बिताए।

बाद में उस वर्ष, "काईट रनर" दूर पश्चिम चीन के में कशगर प्रांत में बनायीं गयी, एक अत्यधिक प्रशंसित मोशन पिक्चर बन गयी हालाँकि फिल्म के निर्माता अमेरिकी थे, उन्होंने कहानी की प्रामाणिकता को संरक्षित करने के लिए दारी भाषा में फिल्म शूट करना ही सही समझा। क्योंकि एक जवान लड़के के खिलाफ यौन उत्पीड़न का एक दृश्य फिल्म में दिखाया गया है, इस बात पर एक विवाद अफगानिस्तान में भड़क उठा। बाल कलाकार और उसके परिवार के इस चित्रण को परंपरावादी इंसानों द्वारा शर्मनाक माना गया था जो और हिंसा के साथ उन्हें धमकी दी गयी थी। इस कारण लड़के और उसके परिवार के लिए जगह बदली गई, जबकि फिल्म की रिलीज को स्थगित कर दिया गया था।

एंड द माउंटेन्स एकोड[संपादित करें]

"एंड द माउंटेन्स एकोड" (२०१३) एक भाई और बहन के बारे में है जिन्हें अलग कर दिया जाता है जब बेटी को उनके परिवार की तंगहाल आर्थिक परिस्थितियों के कारण गोद लेने के लिए दे दिया जाता है। उपन्यास में १९५० की दशकों में अफगानिस्तान के इतिहास में भाई बहन का विचलन दिखाया गया है।

अफगानिस्तान के प्रति हुसैनी की भक्ति न सिर्फ उनके लेखन में, लेकिन उनकी सक्रियता में भी देखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि 2006 के बाद से, संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी, यूएनएचसीआर के लिए एक सद्भावना राजदूत किया गया है, और वे अपनी निजी वेबसाइट द्वारा अफगानिस्तान की मदद कर रहे हैं और उनकी वेबसाइट पर कई सहायता संगठनों के लिए लिंक शामिल हैं। साक्षात्कारकर्ता एक शांत हवा के साथ एक स्मार्ट, खूबसूरत आदमी के रूप में हुसैनी का वर्णन है और टाइम पत्रिका में उन्हें "दुनिया में लगभग निश्चित रूप से सबसे प्रसिद्ध अफ़ग़ान" बताया गया था।

वर्तमान जीवन[संपादित करें]

George and Laura Bush with Khaled Hosseini in 2007

कुछ समय के लिए, डॉ॰ हुसैनी ने संयुक्त राष्ट्र के लिए अपने काम लिखने के लिए और जारी रखने के लिए अपने चिकित्सा अभ्यास छोड़ दिया हैउनके तीसरे उपन्यास, "एंड द माउंटेन्स एकोड", का न्यूयॉर्क टाइम्स द्वारा इस प्रकार स्वागत किया गया "अभी तक की सबसे आश्वासन और भावनात्मक रूप से भरी मनोरंजक कहानी "। वे और उनकी पत्नी रोया, और उनके दो बच्चे, उत्तरी कैलिफोर्निया में अपने घर में रहते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. inogolo:pronunciation of Khaled Hosseini
  2. Bilal ibn Rasheed The not-so-curious case of Khaled Hosseini. Jang Group of Newspapers
  3. "A Critical Response to the Pashtun Bashing in The Kite Runner, by Nationalist Pashtun Rahmat Rabi Zirakyar". Dawat Independent Media Center (DIMC).

1. http://www.achievement.org/autodoc/page/hos0bio-1

2. http://www.gradesaver.com/author/khaled-hosseini/

3. http://www.loc.gov/bookfest/author/khaled_hosseini