खंडीभवन (जीवविज्ञान)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कशेरुकी प्राणियों की रीढ़ में खंडीभवन देखा जाता है

जीवविज्ञान में खंडीभवन (Segmentation) कुछ प्राणीवनस्पति जातियों की शारीरिक योजना में दोहराते हुए भागों का प्रयोग होता है। इस से जीव के शरीर विकास और हिलावट में लाभ होता है।[1][2][3]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Budd, G. E. (2001). "Why are arthropods segmented?". Evolution and Development. 3 (5): 332–42. PMID 11710765. डीओआइ:10.1046/j.1525-142X.2001.01041.x.
  2. Tautz, D (2004). "Segmentation". Dev Cell. 7 (3): 301–312. PMID 15363406. डीओआइ:10.1016/j.devcel.2004.08.008.
  3. Pick, L (1998). "Segmentation: Painting Stripes From Flies to Vertebrates". Dev Genet. 23 (1): 1–10. PMID 9706689. डीओआइ:10.1002/(SICI)1520-6408(1998)23:1<1::AID-DVG1>3.0.CO;2-A.