क्रिकेट के नियम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्रिकेट के नियम मैरीलिबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) द्वारा स्थापित नियमों का एक समूह है जो निष्पक्षता और एकरूपता सुनिश्चित करने के लिए दुनिया भर के क्रिकेट के नियमों की व्याख्या करता है. वर्तमान में 42 कानून हैं जो इस खेल को खेलने के विषय में जानकारी देते हैं, जिनमें किसी टीम के जीतने तथा बल्लेबाज के आउट होने के तरीकों से लेकर पिच को तैयार करने तथा उसके रख-रखाव तक के सभी पहलुओं की जानकारी शामिल है. एमसीसी इंग्लैंड के लंदन में स्थित एक निजी क्लब है और अबू इस खेल का अधिकारिक प्रबंध निकाय नहीं है; हालांकि एमसीसी इस खेल के नियमों का कॉपीराइट अपने पास बरकरार रखे हुए है और केवल एमसीसी ही इन नियमों को बदल सकता है, यद्यपि आजकल आम तौर पर केवल खेल की वैश्विक नियामक संस्था इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) के साथ विचार विमर्श के बाद ही ऐसा किया जाता है.

'क्रिकेट उन गिने-चुने खेलों में से एक है जिसके लिए नियामक सिद्धांतों को 'नियमों' या 'विनियमों' की बजाय 'क़ानून' के रूप में संदर्भित किया जाता है. हालांकि विशेष प्रतियोगिताओं के लिए कानूनों का पूरक तैयार करने और/या इनमें भिन्नता के लिए विनियमों पर सहमती बनायी जा सकती है.

इतिहास[संपादित करें]

क्रिकेट का मूल बहस का मुद्दा रहा है लेकिन संभवतः इसका उद्गम कई ऐसे खेलों से हुआ है जिसमें एक गेंद को एक बल्ले या मुगदर से मारा जाता है (देखें क्रिकेट का इतिहास). अठारहवीं सदी में ब्रिटेन में इसका विस्तार एक सट्टा लगाने वाले खेल के रूप में हुआ जो विशेष तौर पर ब्रिटिश अभिजात वर्ग के बीच अधिक लोकप्रिय था. सबसे शुरुआती नियम भी पैसे की बड़ी रकम दाँव पर लगाये जाने वाले इस खेल को विनियमित करने के संदर्भ में ही तैयार किये गए थे. सबसे प्रारंभिक मौजूदा क्रिकेट की संहिता कुछ ख़ास 'अमीरों और सज्जनों' द्वारा तैयार की गयी थी जिन्होंने 1744 में लंदन में आर्टिलरी ग्राउंड का प्रयोग किया था. 1755 में "विभिन्न क्रिकेट क्लबों, विशेषकर पाल माल में स्टार और गार्टर" द्वारा संशोधित लिए जा रहे नियमों के अन्य संदर्भ मौजूद हैं, जिसके बाद 1774 में "स्टार और गार्टर में केंट, हैम्पशायर, सरे, ससेक्स, मिडिलसेक्स और लंदन के अमीरों और सज्जनों की एक समिति" द्वारा नियमों में एक संशोधन किया गया था. नियमों का एक मुद्रित स्वरूप 1775 में प्रकाशित किया गया था और इसके बाद कानून में एक और संशोधन कैंट, हैम्पशायर, सरे, ससेक्स, मिडिलसेक्स और लंदन के एक समान निकाय द्वारा 1786 में किया गया था.

हालांकि इन नियमों का सार्वभौमिक रूप से पालन नहीं किया गया था जब अलग-अलग मैच अलग-अलग मार्गदर्शन में खेले गए थे. 30 मई 1788 को मैरीलिबोन क्रिकेट क्लब, जिसका गठन सिर्फ एक साल पहले इस खेल को खेलने वाले प्रमुख अमीरों और सज्जनों द्वारा किया गया था, इसने नियमों की अपनी पहली संहिता तैयार की थी. जबकि नियमों के एमसीसी संस्करण को तत्काल पूरी तरह से स्वीकार नहीं किया गया था या निरंतरता के साथ लागू नहीं किया गया था, यह इन नियमों का परवर्ती संस्करण ही है जो आज के खेल को नियंत्रित करता है. 1809 में अगला बड़ा बदलाव गेंद के वजन का अगला मानकीकरण 5 और 6 औंस (142 से 170 ग्राम) से लेकर 5.5 और 5.75 औंस (156 से 163 ग्राम) तक करने के रूप में देखा गया और क्रिकेट के बल्ले की चौड़ाई को पहली बार मानकीकृत किया गया. नॉन-स्ट्राइकर स्टंप्स को लगने वाली गेंद पर रन बनाने के नियम को निरर्थक बनाया गया था और गेंदबाजों की मदद के लिए स्टंप्स की लंबाई बढ़ाकर 22 से 24 इंच और गिल्लियों की लंबाई 6 से 7 इंच कर दी गयी थी, और अंपायरों का महत्त्व और अधिक बढ़ा दिया गया था. अंततः बल्लेबाज को आउट करने की एक नई पद्धति शुरू की गई थी. इससे पहले चूंकि क्रिकेट में एक कठोर गेंद का उपयोग किया जाता था और लेग-पैड इस्तेमाल नहीं किये जाते थे, खिलाड़ी स्वाभाविक रूप से अपने पैरों को विकेट से दूर रखकर खेलते थे. जब बल्लेबाजों ने पैड पहनना शुरू कर दिया, वे गेंद को स्टंप्स पर लगने से रोकने और उन्हें गेंदबाजी करने के क्रम में अपने पैरों से अपने स्टंप को कवर करने के लिए तैयार हो गए. इसलिए एक "लेग बिफोर विकेट" का नियम लाया गया जिससे कि कोई बल्लेबाज जो अपने पैरों से स्टंप पर गेंद लगने से रोकने की कोशिश करेगा वह आउट हो जाएगा.

1829 में स्टंप की लंबाई को 24 से बढ़ा दिया गया और गिल्लियों की लंबाई 7 से बढ़ा दी गयी, जो एक बार फिर गेंदबाजों की मदद के लिए था. पहली बार स्टंप की मोटाई का उल्लेख किया गया. 19 मई 1835 को एमसीसी समिति द्वारा नियमों की एक नयी संहिता को मंजूरी दी गयी और 21 अप्रैल 1884 को दूसरी संहिता मंजूर की गयी. 1884 के नियमों में खिलाड़ियों की संख्या को पहली बार औपचारिक रूप दिया गया था (एक टीम में ग्यारह खिलाड़ी) और गेंद के आकार को भी पहली बार औपचारिक रूप दिया गया था. फिर फॉलो-ऑन नियम पेश किया गया था. यह उस समस्या के जवाब में किया गया था जिसमें किसी खेल को जीतने के लिए एक टीम द्वारा अपनी विपक्षी टीम को दो बार आउट करना जरूरी था. एक ऐसी टीम जिसने पहले बल्लेबाजी की है और उस मैच में बहुत अधिक रन बनाकर पूरी तरह से अपनी पकड़ बना ली है उसे तब तक इंतजार करना पड़ता था जब तक कि उसे दूसरी बार आउट नहीं कर दिया जाता इससे पहले कि यह विपक्षी टीम को दूसरी बार आउट करने की कोशिश कर सके. चूंकि क्रिकेट एक सीमित-समय का खेल है, इसका मतलब यह है कि वह टीम जो अपनी विपक्षी टीम पर हावी रही है उसे खेल को जीतने की बजाय बराबरी पर ख़त्म करने के लिए मजबूर किया जा सकता है. प्रारंभिक फॉलो-ऑन का नियम दोषपूर्ण था क्योंकि इसके लिए जब एक टीम पीछे रह जाती थी तो उसे फॉलो-ऑन करना पड़ता था. कोई टीम एक बिगड़ती पिच पर अंत में गेंदबाजी करने में सक्षम होने के लिए बदले में पहली पारी के अपने अंतिम विकेटों को जानबूझकर गंवा दे सकती थी. बाद में फॉलो-ऑन नियम को बदल दिया गया जिसे कि कोई टीम जो अपनी विपक्षी टीम से पर्याप्त रूप से आगे है उसके पास यह विकल्प है कि इसे लागू किया जाए या नहीं.

1947 में 7 मई को एमसीसी द्वारा एक नयी संहिता को मंजूरी दी गयी. 1979 में 1947 की संहिता पर कई मामूली संशोधनों के बाद 21 नवंबर को एमसीसी की एक विशेष आम बैठक में एक नयी संहिता मंजूर की गयी. इसे 1980 के कोड के रूप में जाना जाता है. अन्य परिवर्तनों में, विनिर्देशों में इम्पीरियल इकाइयों के बाद अब मीट्रिक इकाइयों का प्रयोग किया जाता है.

1992 में 1980 के कोड का एक दूसरा संस्करण तैयार किया गया. सन 2000 में एक नया कोड, जिसमें पहली बार क्रिकेट की भावना को परिभाषित करने वाली एक प्रस्तावना शामिल की गयी थी, इसे 3 मई को मंजूरी दी गयी. इस कोड को सरल अंग्रेजी में दुबारा लिखा गया था और यह पिछले कोड से कहीं अधिक तर्कमूलक है. एक ओवर की लंबाई को सभी मैचों के लिए आधिकारिक तौर पर छह गेंदों पर मानकीकृत किया गया, हालांकि व्यावहारिक तौर पर यह इससे 20 या इसके लगभग वर्षों पहले का मामला था. 2003 में 2000 की संहिता का एक दूसरा संस्करण तैयार किया गया जिसमें सन 2000 की संहिता को लागू करने से उत्पन्न होने वाले संशोधनों को शामिल किया गया था.

गेंद फेंकने को सबसे पहले 1829 में तैयार कानूनों में विनियमित किया गया था. 1860 में पहली बार ओवरआर्म गेंदबाजी की अनुमति दी गई थी.

1889 में एक ओवर की लंबाई चार गेंदों से बढ़ाकर पांच गेंदों की कर दी गयी. सन 1900 में एक ओवर की लंबाई छह गेंदों के रूप में बढ़ा दी गयी. 1922 में ओवर की लंबाई में भिन्नता की अनुमति दी गई (ऑस्ट्रेलियाई ओवर आठ गेंदों का होता था). 1947 के कोड में यह निर्धारित किया गया कि कप्तानों के बीच "पूर्व समझौते" के अनुसार एक ओवर की लंबाई छह या आठ गेंदों की होगी.

आज के नियम[संपादित करें]

मैरीलिबोन क्रिकेट क्लब क्रिकेट के उन नियमों का निर्माता है जो इस खेल को नियंत्रित करता है. नियमों को दो पारियों के सभी मैचों पर लागू करने के इरादे से तैयार किया गया था; [[अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद|क्रिकेट के नियमों को आगे बढ़ाने के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल ने "टेस्ट मैचों के लिए मानक खेल परिस्थितियों" और "एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय]] मैचों के लिए मानक खेल परिस्थितियों" को लागू किया है. इसी प्रकार क्रिकेट खेलने वाले प्रत्येक देश ने घरेलू क्रिकेट को नियंत्रित करने के लिए खेल की शर्तों को लागू किया है. ये नियम एक दिवसीय या सीमित ओवर के क्रिकेट (ट्वेंटी20 सहित) के लिए यह निर्धारित करते हुए प्रावधान करता है कि प्रति टीम पारियों की संख्या एक या दो होगी, और यह कि प्रत्येक पारी ओवरों की एक अधिकतम संख्या या एक अधिकतम समय अवधि तक सीमित हो सकती है.

इन नियमों में इंपीरियल इकाइयों को उसी रूप में बनाए रखा गया है जैसा कि उन्हें मूल रूप से निर्दिष्ट किया गया था, लेकिन अब इसमें मीट्रिक रूपांतरण भी शामिल हैं.

नियमों को एक भूमिका, एक प्रस्तावना, बयालीस कानूनों और चार परिशिष्टों में व्यवस्थित किया गया है. भूमिका मैरीलिबोन क्रिकेट क्लब और नियमों के इतिहास से संबंधित है. प्रस्तावना एक नया संयोजन है और यह "खेल की भावना" से संबंधित है; इसकी शुरुआत असज्जनतापूर्ण आचरण के बढ़ती प्रचलनों को रोकने की कोशिश में की गयी थी.

नियमों में आठ संशोधन किये गए थे जिसे खराब रोशनी, टॉस, क्रिकेट की भावना, अभ्यास सत्रों, क्षेत्ररक्षण में चपलता और आउट होने के दुर्लभ मामलों से निपटने के लिए 30 सितंबर 2010 को तैयार किया गया था और यह 1 अक्टूबर 2010 से लागू हो गया था. सभी नवीनतम संशोधनों को यहां पढ़ा जा सकता है.

नियम स्वयं निम्नलिखित के साथ लागू होते हैं:

खिलाड़ी और अधिकारी[संपादित करें]

पुरुषों की क्रिकेट में गेंद का वजन 5.5 और 5.75 औंस (155.9 और 163 ग्राम) होना चाहिए और परिधि में माप को 8 13/16 और (22.4 और 22.9 सेमी) में 9 होना चाहिए.
क्रिकेट पिच आयाम
विकेट में लकड़ी के तीन स्टंप होते हैं जिन्हें जमीन में गाड़ा जाता है और उनके ऊपर दो गिल्लियां लगाई जाती हैं.

पहले चार नियम खिलाड़ियों, अंपायरों और स्कोर बनाने वालों को कवर करते हैं.

नियम 1: खिलाड़ी. एक क्रिकेट टीम में एक कप्तान सहित ग्यारह खिलाड़ी शामिल होते हैं. आधिकारिक प्रतियोगिताओं के बाहर टीमें एक तरफ ग्यारह से ज्यादा खिलाड़ी रखने पर सहमत हो सकती हैं, हालांकि ग्यारह से अधिक कोई भी खिलाड़ी क्षेत्ररक्षण नहीं कर सकता है.

नियम 2: विकल्प. क्रिकेट में एक घायल क्षेत्ररक्षक की जगह एक स्थानापन्न खिलाड़ी को लाया जा सकता है. हालांकि एक स्थानापन्न खिलाड़ी बल्लेबाजी, गेंदबाजी, विकेट कीपिंग या कप्तानी की भूमिका नहीं निभा सकता है. ऐसे में अगर मूल खिलाड़ी ठीक हो गया हो तो वह वापस आ सकता है. एक ऐसा बल्लेबाज जो दौड़ने में असमर्थ हो जाता है अपने लिए एक रनर रख सकता है जो रनों को पूरा करता है जबकि बल्लेबाज बल्लेबाजी करता रहता है. वैकल्पिक रूप से बल्लेबाज रिटायर हर्ट या बीमार हो सकता है और बाद में जब वह ठीक हो जाता है तो अपनी पारी को फिर से आगे बढ़ाने के लिए वापस आ सकता है.

नियम 3: अंपायर. खेल में दो अंपायर होते हैं जो नियमों को लागू करते हैं, सभी आवश्यक फैसले लेते हैं और अपने फैसले स्कोर बनाने वालों को प्रेषित करते हैं. हालांकि क्रिकेट के नियमों के तहत यह आवश्यक नहीं है, लेकिन उच्च स्तरीय क्रिकेट में किसी विशेष मैच या टूर्नामेंट की विशिष्ट खेल परिस्थितियों के तहत एक तीसरे अंपायर (मैदान के बाहर स्थित और मैदान-पर मौजूद अंपायर की सहायता के लिए उपलब्ध) का इस्तेमाल किया जा सकता है.

नियम 4: स्कोरर. इस खेल में दो स्कोरर होते हैं जो अंपायर के संकेतों का जवाब देते हैं और स्कोर को बनाए रखते हैं.

उपकरण और पिच की रूपरेखा तैयार करना[संपादित करें]

खिलाड़ियों के बारे में चर्चा करने के बाद नियम उपकरण और पिच विनिर्देशों की बात करते हैं जिसमें विकेट कीपर के दस्तानों के बारे में विनिर्देशों को छोड़ दिया गया है, जिसकी चर्चा नियम 40 में की जाती है. इन नियमों के पूरक परिशिष्ट ए और बी के रूप में दिए गए हैं (नीचे देखें).

नियम 5: गेंद क्रिकेट की गेंद की परिधि 8 13/16 और 9 इंच (22.4 सेमी और 22.9 सेमी) के बीच होती है और इसका वजन 5.5 और 5.75 औंस (155.9 ग्राम और 163 ग्राम ) के बीच होता है. एक बार में केवल एक गेंद का इस्तेमाल किया जाता है जब तक कि यह खो नहीं जाता, जब इसकी जगह इसके सामान घिसावट वाली एक दूसरी गेंद ली जाती है. इसे प्रत्येक पारी की शुरुआत में भी बदला जाता है और क्षेत्ररक्षण पक्ष के अनुरोध पर भी, जब ओवरों की एक ख़ास संख्या (टेस्ट मैचों में 80, एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में 34) की गेंदबाजी कर लिए जाने के बाद इसकी जगह नयी गेंद ले ली जाती है. पारी के दौरान गेंद का क्रमिक विरूपण खेल का एक महत्वपूर्ण पहलू है.

नियम 6: बल्ला बल्ला लंबाई में 38-इंच (97 cm) से अधिक नहीं होता है और इसकी चौडाई 4.25-इंच (10.8 cm) से अधिक नहीं होती है. बल्ले को पकड़ने वाले हाथ या दस्ताने को बल्ले का हिस्सा माना जाता है. हेवी मेटल की घटना, जो डेनिस लिली द्वारा मार्केटिंग की एक अत्यधिक प्रचारित कोशिश थी, जो एक अंतरराष्ट्रीय मैच के दौरान एक एल्युमीनियम का बल्ला लेकर आए थे, इसके बाद नियमों में यह प्रावधान किया गया था कि बल्ले का ब्लेड अनिवार्य रूप से लकड़ी का बना हुआ होना चाहिए (और व्यावहारिक रूप से इन्हें व्हाइट विल्लो लकड़ी से बनाया जाता है).

नियम 7: पिच पिच मैदान का एक आयताकार क्षेत्र है जो 22-yard (20 मी.) लंबा और 10 फुट (3.0 मी.) चौड़ा होता है. मैदान के अधिकारी पिच का चयन करते हैं और इसे तैयार करते हैं, लेकिन एक बार खेल शुरू हो जाने के बाद पिच पर जो कुछ भी होता है उस पर अंपायर का नियंत्रण होता है. अंपायर इस बात का भी फैसला लेते हैं कि क्या पिच खेल के लिए उपयुक्त है या नहीं, और अगर वे इसे अनुपयुक्त समझते हैं तो दोनों कप्तानों की सहमति से पिच को बदल सकते हैं. पेशेवर क्रिकेट लगभग हमेशा एक घास की सतह पर खेला जाता है. हालांकि एक घास-रहित पिच का इस्तेमाल किये जाने की स्थिति में कृत्रिम सतह की न्यूनतम लंबाई 58 फुट (18 मी.) और न्यूनतम चौडाई 6 फुट (1.8 मी.) होनी चाहिए.

नियम 8: विकेट विकेट में लकड़ी के तीन स्टंप होते हैं जिनकी लंबाई 28-इंच (71 cm) होती है. स्टंपों को प्रत्येक स्टंप के बीच एक समान दूरी के साथ बल्लेबाजी क्रीज के पास रखा जाता है. उन्हें इस प्रकार रखा जाता है कि वे 9-इंच (23 cm) चौड़ा रहें. स्टंपों के ऊपर लकड़ी की दो गिल्लियां रखी जाती हैं. गिल्लियां स्टंप के 0.5-इंच (1.3 cm) से अधिक ऊपर नहीं रखी जानी चाहिए और पुरुषों के क्रिकेट के लिए अनिवार्य रूप से 4-इंच (400.79 cm) लंबी होनी चाहिए. गिल्ली की बेलनाकार नली और डाट के लिए भी लंबाइयां निर्दिष्ट हैं. जूनियर क्रिकेट के लिए विकेटों और गिल्लियों के अलग-अलग विनिर्देश दिए गए हैं. अगर परिस्थितियां अनुपयुक्त होती हैं तो अंपायर गिल्लियों को बांट सकते हैं (यानी हवा चलने पर ये स्वयं गिर सकती हैं). विकेटों के विनिर्देशों पर अधिक जानकारी नियमों के परिशिष्ट ए में संलग्न है.

नियम 9: बॉलिंग, पॉपिंग और रिटर्न क्रीज. यह नियम क्रीज के आयामों और स्थानों को निर्धारित करता है. गेंदबाजी क्रीज, जो वह लाइन है जिसके बीच में स्टंपों को रखा जाता है, यह लाइन पिच के प्रत्येक छोर पर खींची जाती है जिससे कि पिच के उस छोर पर स्टंपों के सेट में तीन स्टंप उस पर पड़ें (और इसके परिणाम स्वरूप यह दोनों मिडिल स्टंपों के केंद्रों को जोड़ने वाली एक काल्पनिक रेखा के लंबवत होती है). प्रत्येक गेंदबाजी क्रीज लंबाई में 8-फुट-8-इंच (2.6 मी.) होना चाहिए जो प्रत्येक छोर पर मिडिल स्टंप पर केंद्रित होना चाहिए और प्रत्येक गेंदबाजी क्रीज दोनों में से एक रिटर्न क्रीज पर समाप्त होता है. पॉपिंग क्रीज, जो यह निर्धारित करता है कि बल्लेबाज अपने स्थान पर मौजूद है या नहीं और जिसका इस्तेमाल फ्रंट-फुट के नो बॉल को निर्धारित करने के लिए किया जाता है (नियम 24 देखें), इसे स्टंपों के दोनों सेटों में से प्रत्येक के सामने पिच के प्रत्येक छोर पर बनाया जाता है. पॉपिंग क्रीज गेंदबाजी क्रीज के सामने 4-फुट (1.2 मी.) और इसके समानांतर होना चाहिए. हालांकि इसे असीमित लंबाई का माना जाता है, पॉपिंग क्रीज को मिडिल स्टंपों के केंद्रों को जोड़ने वाली काल्पनिक रेखा के प्रत्येक छोर पर कम से कम 6-फुट (1.8 मी.) पर चिह्नित किया जाना चाहिए. रिटर्न क्रीज, जो वे लाइनें होती हैं जिसके भीतर गेंदबाज को गेंद फेंकते समय रहना चाहिए, इन्हें पिच के दोनों तरफ स्टंपों के प्रत्येक सेट के प्रत्येक छोर पर आरेखित किया जाना चाहिए (जिससे कि कुल मिलाकर चार रिटर्न क्रीज हों, स्टंपों के दोनों सेटों के प्रत्येक छोर पर एक). रिटर्न क्रीज पॉपिंग क्रीज के लंबवत स्थित होते हैं और गेंदबाजी क्रीज दोनों मिडिल स्टंपों के केंद्रों को जोड़ने वाली काल्पनिक रेखा के समानांतर और दोनों तरफ 4-फुट-4-इंच (1.3 मी.) होता है. प्रत्येक रिटर्न क्रीज एक छोर पर पॉपिंग क्रीज पर समाप्त होता है लेकिन दूसरे छोर की लंबाई असीमित मानी जाती है और इसे पॉपिंग क्रीज से कम से कम 8-फुट (2.4 मी.) पर चिह्नित किया जाना चाहिए.

नियम 10: खेल क्षेत्र का निर्माण और रखरखाव क्रिकेट में जब कोई गेंद फेंकी जाती है तो यह हमेशा पिच पर बाउंस होता है और गेंद किस तरह का आचरण करेगी यह काफी हद तक पिच की स्थिति पर निर्भर करता है. इसलिए स्वयं पिच पर विस्तृत नियमों का होना जरूरी है. यह नियम उन शर्तों को निर्धारित करता है जो यह नियंत्रित करता है कि पिचों को कैसे तैयार किया जाए, इस पर लगी घास कैसे काटी जाए और कैसे रोल किया जाए.

नियम 11: पिच को कवर करना पिच को कवर करना इस बात को प्रभावित करता है कि इस पर बाउंस करते समय गेंद की प्रतिक्रिया कैसी होगी. उदाहरण के लिए, एक गीली जमीन पर बाउंस करने वाली गेंद सूखी जमीन पर बाउंस करने की तुलना में अलग प्रतिक्रिया करेगी. नियम यह निर्धारित करता है कि पिच को कवर करने के विनियमों पर पहले से सहमति बना ली जानी चाहिए. गेंदबाज का रन-अप भी शुष्क होना चाहिए जिससे कि उनके फिसलने की संभावना कम हो जाए. इसलिए जहां भी संभव हो नम मौसम होने की स्थिति में नियमों में इन्हें कवर किये जाने की आवश्यकता होती है.

खेल की संरचना[संपादित करें]

नियम 12 से 17 खेल की संरचना की रूपरेखा तैयार करते हैं.

नियम 12: पारी. खेल से पहले टीमें इस बात पर सहमत होती हैं कि क्या इसे एक पारी या दो पारियों में समाप्त होना चाहिए और क्या दोनों में से एक या दोनों पारियां समय और ओवरों के हिसाब से सीमित होंगी. व्यावहारिक रूप से इन फैसलों को खेल-पूर्व समझौते की बजाय प्रतियोगिता विनियमों द्वारा निर्धारित किये जाने की संभावना रहती है. दो-पारियों के खेलों में दोनों पक्ष बारी-बारी से बल्लेबाजी करते हैं जब तक कि फॉलो-ऑन (नियम 13) के लिए मजबूर नहीं किया जाता है. सभी बल्लेबाजों के आउट हो जाने के बाद एक पारी समाप्त हो जाती है, अगर कोई अन्य बल्लेबाज खेलने के लिए फिट नहीं होता है तो पारी घोषित कर दी जाती है या बल्लेबाजी कप्तान द्वारा इसका अधिकार खो दिया जाता है या जब कोई सहमत समय या ओवर की सीमा पूरी हो जाती है. एक सिक्के का टॉस जीतने वाला कप्तान पहले बल्लेबाजी या गेंदबाजी करने का फैसला करता है.

नियम 13: फॉलो-ऑन. दो पारियों के मैच में अगर बाद में बल्लेबाजी करने वाली टीम पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम की तुलना में बहुत ही कम रन बनाती है, तो पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम अपनी विपक्षी टीम को तत्काल फिर से बल्लेबाजी करने पर मजबूर कर सकती है. फॉलो-ऑन के लिए मजबूर करने वाली टीम फिर से बल्लेबाजी नहीं करने का जोखिम उठाती है और इस तरह अपने लिए जीत का अवसर पैदा करती है. पांच या उससे अधिक दिनों के खेल के लिए पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम को फॉलो-ऑन लागू करने के लिए कम से कम 200 रन से आगे होना चाहिए; तीन या चार-दिन के खेल के लिए इसे 150 रन; दो-दिन के खेल के लिए 100 रन; एक-दिवसीय मैच के लिए 75 रन होना चाहिए. खेल की लंबाई वास्तव में खेल शुरू होने के समय से बाकी बचे खेल के निर्धारित दिनों की संख्या द्वारा निर्धारित की जाती है.

नियम 14: पारी की घोषणा करना और अधिकार सौंपना बल्लेबाजी करने वाली टीम का कप्तान गेंद के बेकार हो जाने पर किसी भी समय एक पारी के अंत की घोषणा कर सकता है. वह अपनी पारी शुरू होने से पहले इसका अधिकार भी सौंप दे सकता है.

नियम 15: अंतराल. प्रत्येक दिन के खेल के बीच में अंतराल होते हैं, पारियों के बीच में एक दस-मिनट का अंतराल, और दोपहर का भोजन, चाय और ड्रिंक्स के अंतराल. अंतरालों के समय और इनकी लंबाई पर सहमति मैच शुरू होने के पहले बना ली जानी चाहिए. विशेष परिस्थितियों में अंतरालों और अंतरालों की लंबाई को बदलने के लिए भी प्रावधान मौजूद हैं, सबसे उल्लेखनीय रूप से वह प्रावधान कि अगर नौ विकेट गिर गए हैं, तो चाय के अंतराल को अगले विकेट के पतन के पहले और इसके 30 मिनट बाद तक विलंबित किया जाता है.

नियम 16: खेल की शुरुआत; खेल की समाप्ति. एक अंतराल के बाद खेल की शुरुआत अंपायर द्वारा "खेलने" के कॉल से होती है और एक सत्र का अंत "समय" द्वारा होता है. किसी मैच के अंतिम घंटे में कम से कम 20 ओवर होते हैं, जहां आवश्यकता पड़ने पर 20 ओवरों को शामिल करने के लिए कुछ समय बढ़ा दिया जाता है.

नियम 17: मैदान पर अभ्यास. दिन का खेल शुरू होने से पहले और दिन का खेल समाप्त हो जाने के बाद को छोड़कर पिच पर बल्लेबाजी या गेंदबाजी का कोई अभ्यास नहीं हो सकता है. गेंदबाज केवल रन-अप का परीक्षण कर सकते हैं अगर अंपायरों का मानना ​​है कि इससे कोई समय बर्बाद नहीं होगा.

स्कोरिंग और जीत[संपादित करें]

इसके बाद नियम इस बात पर चर्चा करते हैं कि रन कैसे बनाए जा सकते हैं और कैसे एक टीम दूसरी टीम को मात दे सकती है.

नियम 18: रन बनाना. रन तब बनते हैं जब दो बल्लेबाज पिच पर एक दूसरे के छोर तक दौड़ लगाते है. एक गेंद से कई रन बनाए जा सकते हैं.

नियम 19: बाउंड्री. बाउंड्री खेल के मैदान के किनारे चारो ओर चिह्नित की जाती है. जब किसी गेंद को इस बाउंड्री के भीतर या इसके पार मारा जाता है तो चार रन बनते हैं या अगर गेंद ने बाउंड्री को पार करने से पहले जमीन को नहीं छुआ है तो छः रन बनते हैं.

नियम 20: लॉस्ट बॉल. अगर खेल में कोई गेंद खो जाती है या उसे फिर से प्राप्त नहीं किया जा सकता है तो क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम "लॉस्ट बॉल" की मांग कर सकती है. बल्लेबाजी करने वाली किसी भी टीम पैनल्टी रन (जैसे कि नो-बॉल और वाइड) को अपने पास रखती है और छः रन से ज्यादा बनाती है और रनों की वह संख्या जो वास्तव में दौड़ लगाकर पूरी की जाती है.

नियम 21: परिणाम. जो टीम अधिक रन बनाती है वही मैच का विजेता बनती है. अगर दोनों टीमें एक बराबर संख्या में रन बनाती है तो मैच बराबर (टाई) हो जाता है. हालांकि मैच समय सीमा के बाहर जा सकता है इससे पहले कि सभी पारियां पूरी हो सकें. ऐसी स्थिति में मैच बराबर हो जाता है.

नियम 22: ओवर. एक ओवर में वाइड और नो-बॉल को छोड़कर छह गेंदों की गेंदबाजी होती है. पिच के विपरीत छोरों से लगातार ओवर डाले जाते हैं. एक गेंदबाज लगातार दो ओवर की गेंदबाजी नहीं भी कर सकता है.

नियम 23: डेड बॉल. गेंद खेल में उस समय आता है जब गेंदबाज अपनी दौड़ शुरू करता है और यह उस समय बेकार हो जाता है जब उस गेंद से सभी तरह की गतिविधि खत्म हो जाती है. एक बार जब गेंद बेकार हो जाता है तो कोई भी रन नहीं बनाया जा सकता है और किसी भी बल्लेबाज को आउट नहीं किया जा सकता है. गेंद कई कारणों से बेकार हो जाता है जिसमें सबसे अधिक आम तौर पर जब एक बल्लेबाज आउट होता है, जब एक चौका मारा जाता है या जब गेंद अंततः गेंदबाज या विकेटकीपर के पास पहुंच जाता है.

नियम 24: नो-बॉल. कोई गेंद कई कारणों से एक नो बॉल हो सकता है: अगर गेंदबाज गलत स्थान से गेंदबाजी करता है; या अगर गेंद फेंकने के दौरान वह अपनी कोहनी को सीधा कर लेता है; या अगर गेंदबाजी खतरनाक होती है; या अगर गेंद दो से अधिक बार बाउंस करती है या बल्लेबाज तक पहुंचने से पहले जमीन के साथ घिसटती है; या अगर क्षेत्ररक्षक अवैध स्थानों पर खड़े हैं. एक नो-बॉल इस पर बनाए गए अन्य रनों के अलावा बल्लेबाजी करने वाली टीम के स्कोर में एक अतिरिक्त रन जोड़ देता है, और बल्लेबाज को रन आउट के जरिये आउट करने, या गेंद की हैंडलिंग के जरिये, गेंद को दो बार मारने, या फील्ड को बाधित करने के अलावा किसी भी नो-बॉल से आउट नहीं किया जा सकता है.

नियम 25: वाइड बॉल अंपायर किसी गेंद को "वाइड" करार देता है अगर उनकी राय में बल्लेबाज के पास उस गेंद से रन बनाने का एक उचित मौका नहीं मिला था. किसी गेंद को वाइड तब कहा जाता है जब गेंदबाज एक ऐसा बाउंसर फेंकता है जो बल्लेबाज के सिर के ऊपर से गुजर जाता है. एक वाइड गेंद पर बनाए गए किसी भी अन्य रन के अलावा यह बल्लेबाजी टीम के स्कोर में एक अतिरिक्त रन और जोड़ देता है और बल्लेबाज को एक वाइड गेंद पर आउट नहीं किया जा सकता है सिवाय इसके कि उसे रन आउट या ट्रंप आउट नहीं कर दिया जाए या वह गेंद की हैंडलिंग के जरिये, अपने विकेट को मार देने, या फील्ड को बाधित करने पर आउट ना हो जाए.

नियम 26: बाय और लेग बाय. अगर कोई गेंद जो एक नो-बॉल या वाइड नहीं है वह स्ट्राइकर के सामने से गुजर जाता है और उस पर रन बनाए जाते हैं तो उसे बाय रन कहा जाता है. अगर कोई गेंद जो एक नो बॉल नहीं है वह स्ट्राइकर को लगती है लेकिन बल्ले को नहीं लगती और उस पर रन बनाए जाते हैं तो उन्हें लेग बाय रन कहा जाता है. हालांकि लेग-बाय रन उस स्थिति में नहीं बनाए जा सकते हैं अगर स्ट्राइकर न तो स्ट्रोक लगाने का प्रयास करता है और न ही अपने को मारे जाने से बचने की कोशिश करता है. बाय और लेग बाय रनों को टीम के रनों में जोड़ा जाता है लेकिन बल्लेबाज के कुल रनों में नहीं.

आउट करने की प्रक्रियाएं[संपादित करें]

गोपाल राजपुत

नियम 27 से 29 तक उन प्रमुख प्रक्रियाओं का जिक्र करते है जिसमें यह बताया गया है कि किसी बल्लेबाज को कैसे आउट किया जा सकता है.

नियम 27: अपील. अगर क्षेत्ररक्षकों का मानना है कि बल्लेबाज आउट है तो वे अंपायर से पूछ सकते हैं "हाऊ इज दैट? (यह कैसा है?)", आम तौर पर अगली गेंद फेंकने से पहले, दोनों हाथों को ऊपर उठाते हुए जोरदार ढंग से चिल्लाकर ऐसा किया जा सकता है. उसके बाद अंपायर यह फैसला लेते हैं कि बल्लेबाज आउट है या नहीं. सख्ती से कहा जाता है, क्षेत्ररक्षण पक्ष को बोल्ड किये जाने जैसे स्पष्ट मामलों सहित सभी प्रकार से आउट करने की अपील करनी चाहिए. हालांकि एक बल्लेबाज जो जाहिर तौर पर आउट है वह किसी अपील के लिए या अंपायर के फैसले का इंतजार किये बिना सामान्य रूप से पिच को छोड़ देगा.

नियम 28: विकेट नीचे है. आउट होने के कई तरीके होते हैं जब विकेट को नीचे गिरा दिया जाता है. इसका मतलब यह है कि विकेट को गेंद से मारा गया है, या बल्लेबाज या वह हाथ जिसमें क्षेत्ररक्षक गेंद को पकड़े हुए है वह विकेट पर लगी है और कम से कम एक गिल्ली गिरा दी गयी है.

नियम 29: बल्लेबाज अपने स्थान से बाहर है. बल्लेबाज रन आउट या स्टम्प्ड आउट हो सकता है अगर वह अपने स्थान से बाहर है. बल्लेबाज अपने स्थान पर है, लेकिन अगर उसका या उसके बल्ले का कोई भाग पॉपिंग क्रीज के पीछे जमीन पर है. अगर विकेट को नीचे गिराए जाते समय दोनों बल्लेबाज पिच के बीच में हैं तो जो बल्लेबाज उस छोर के करीब है वह आउट हो जाता है.

आउट होने के तरीके[संपादित करें]

नियम 30 से 39 तक उन विभिन्न तरीकों पर चर्चा करते हैं जिनके जरिये किसी बल्लेबाज को आउट किया जा सकता है. इन 10 तरीकों के अलावा बल्लेबाज रिटायर होकर बाहर जा सकता है. यह प्रावधान नियम 2 में है. इनमें से कैच आउट आम तौर पर सबसे सामान्य तरीका है जिसके बाद बोल्ड आउट, लेग बिफोर विकेट, रन आउट और स्टम्प्ड आउट का नंबर आता है. आउट होने के अन्य स्वरूप बहुत ही दुर्लभ हैं.

नियम 30: बोल्ड. एक बल्लेबाज उस स्थिति में आउट होता है अगर गेंदबाज द्वारा फेंकी गयी एक गेंद उसके विकेट को नीचे गिरा देती है. यह अप्रासंगिक है कि विकेट को नीचे गिराने के लिए आगे बढ़ने से पहले गेंद ने बल्ले, दस्ताने या बल्लेबाज के किसी भाग को छुआ है, हालांकि ऐसा करने से पहले यह किसी अन्य खिलाड़ी या अंपायर को छुआ नहीं हो सकता है.

नियम 31: टाइम्ड टाइम. एक नए आने वाले बल्लेबाज को निवर्तमान बल्लेबाज के आउट होने के 3 मिनट के भीतर गेंद का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए (या एक गेंद का सामना करने के लिए अपने साथी के साथ क्रीज पर होना चाहिए), अन्यथा आने वाला बल्लेबाज आउट हो जाएगा.

नियम 32: कैच आउट. अगर एक गेंद बल्ले या बल्ले को पकड़ने वाले हाथ को लगती है और उसके बाद गेंद के बाउंस करने से पहले खेल के मैदान के भीतर उसे विपक्षी खिलाड़ी द्वारा कैच कर लिया जाता है तो बल्लेबाज आउट हो जाता है.

नियम 33: गेंद को हैंडल किया जाना. अगर कोई बल्लेबाज विपक्षी टीम की सहमति के बिना जान-बूझकर एक ऐसे बॉल को एक हाथ से हैंडल करता है जो बल्ले को नहीं छूती है तो वह आउट हो जाता है.

नियम 34: गेंद को दो बार मारना. अगर कोई बल्लेबाज सिर्फ आपके विकेट को बचाने के मकसद से या विपक्षी टीम की सहमति के अलावा गेंद को दो बार मारता है तो वह आउट है.

नियम 35: हिट विकेट. अगर गेंदबाज अपनी गेंद फेंकने के क्षेत्र में प्रवेश कर लेता है और जब गेंद खेल के बीच में होती है, ऐसे में कोई बल्लेबाज अपने बल्ले या अपने शरीर से विकेट को नीचे गिरा देता है तो वह आउट है. स्ट्राइकर उस स्थिति में भी हिट विकेट के रूप में आउट होता है जब वह पहले रन के लिए भागते समय अपने बल्ले या अपने शरीर से अपने विकेट को नीचे गिरा देता है. "शरीर" में कपड़े और बल्लेबाज के उपकरण भी शामिल हैं.

नियम 36: लेग बिफोर विकेट (एलबीडब्ल्यू). अगर गेंद पहले बल्ले से टकराए बिना बल्लेबाज को लग जाती है, लेकिन अगर बल्लेबाज वहां नहीं होता तो वह गेंद विकेट को लग जाती, और अगर गेंद विकेट के लेग साइड पर पिच नहीं करती है तो बल्लेबाज आउट हो जाएगा. हालांकि अगर गेंद ऑफ-स्टंप की लाइन से बाहर बल्लेबाज को लगती है और बल्लेबाज द्वारा एक स्ट्रोक खेलने का प्रयास किया गया था तो वह आउट नहीं है.

नियम 37: फील्ड को बाधित करना अगर कोई बल्लेबाज जानबूझकर शब्द या गतिविधि से विपक्षी टीम को बाधित करता है तो वह आउट है.

नियम 38: रन आउट. एक बल्लेबाज उस स्थिति में आउट है जब गेंद के खेल में रहने में दौरान किसी भी समय उसके बल्ले का कोई भी भाग या वह खिलाड़ी पॉपिंग क्रीज से पीछे रह जाता है और उसके विकेट को विपक्षी टीम द्वारा स्पष्ट रूप से गिरा दिया जाता है.

नियम 39: स्टम्प्ड. एक बल्लेबाज उस स्थिति में आउट हो जाता है जब बल्लेबाज अपनी क्रीज से बाहर है और रन लेने की कोशिश नहीं कर रहा है और विकेट-कीपर (देखें नियम 40) विकेट को नीचे गिरा देता है.

क्षेत्ररक्षक[संपादित करें]

नियम 40: विकेट-कीपर. विकेट-कीपर गेंदबाजी करने वाली टीम की ओर से वह नामित खिलाड़ी है जो बल्लेबाज के स्टंपों के पीछे खड़े रहने के लिए अधिकृत है. वह अपनी टीम का एक मात्र खिलाड़ी है जिसे दस्ताने और बाहरी लेग गार्ड पहनने की अनुमति दी गयी है.

नियम 41: क्षेत्ररक्षक. गेंदबाजी पक्ष के सभी ग्यारह क्रिकेटर क्षेत्ररक्षक होते हैं. क्षेत्ररक्षकों को गेंद पकड़ने के लिए, रनों और चौकों को रोकने के लिए और गेंद को कैच कर या रन आउट के रूप में बल्लेबाज को आउट करने के लिए मैदान पर तैनात किया जाता है.

उचित और अनुचित खेल[संपादित करें]

नियम 42: उचित और अनुचित खेल.

परिशिष्ट[संपादित करें]

नियम के पांच परिशिष्ट इस प्रकार हैं:

परिशिष्ट ए: स्टंप और बेल्स (गुल्ली) के निर्दिष्टीकरण और चित्र
परिशिष्ट बी: पिच और क्रीज़ के निर्दिष्टीकरण और चित्र
परिशिष्ट सी: दस्तानों के निर्दिष्टीकरण और चित्र
परिशिष्ट डी: परिभाषाएँ
परिशिष्ट ई: बल्ला

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]