कौशल्या बैसंत्री

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

कौशल्या बैसन्त्री (जन्म - ८ सितंबर १९२७ , निधन २४ जून २०११) एक दलित लेखिका थीं। महाराष्ट्र में जन्मीं बैसंत्री अम्बेडकर की समकालीन छात्र नेता और सामजिक कार्यकर्त्री थीं।२४ जून २०११ को इनका निधन हो गया।

आरंभिक जीवन[संपादित करें]

माता-पिता नागपुर एम्प्रेस मिल में मजदूरी करते थे। उनकी माँ धागा बनाने का और पिता मशीन में तेल डालने का काम करते थे। इनके माता-पिता की १३ संतानें - १० लड़कियाँ ओर तीन लड़के थे ,जिन में कुल ५ लड़कियाँ व एक लड़का जीवित रहे।

कृतियाँ[संपादित करें]

बैसंत्री की आत्मकथा "दोहरा अभिशाप" एक चर्चित पुस्तक है। यह कृति कौशल्या बैसंत्री द्वारा ही लिखित पहली व आख़िरी लेख मानी जाती है।

सन्दर्भ[संपादित करें]