कौर्वकि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कहा जाता है कि रानी कौर्वकि एक मछुवारन थीं जो बाद में सम्राट अशोक की पत्नी बनीं। उन्होंने बौद्ध धर्म को अपनाया तथा अशोक की दूसरी पत्नी बनीं। अशोक के लघु शिलालेखों में से एक रानी शिलालेख से वह अमर हो गयीं। इस शिलालेख के अनुसार वह अशोक की दूसरी पत्नी तथा तिवला की माँ थीं[1].

प्रचलित संस्कृति में[संपादित करें]

फ़िल्म 'अशोका' में कौर्वकि को कलिंग राज्य की एक अनाथ राजकुमारी दिखाया गया है जो अशोक के आक्रमण के विरुद्ध एक सेना का संचालन करती है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. द क्वीन एडिक्ट "बुद्धाज़ वर्ल्ड् १९९९, प्राप्त की गयी २००९-०३-०५.