कोस मीनार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कोस मीनार का प्रयोग शेर शाह सूरी के जमाने में सड़कों को नियमित अंतराल पर चिन्हित करने के लिए किया जाता था।[1]ग्रैंड ट्रंक रोड के किनारे हर कोस पर मीनारें बनवाई गई थीं। अधिकतर इन्हें १५५६-१७०७ के बीच बनाया गया था। कई मीनारें आज भी सुरक्षित हैं तथा इन्हें दिल्ली-अंबाला राजमार्ग[2] पर देखा जा सकता है। पुरातत्व विभाग के अनुसार भारत के हरियाणा राज्य में कुल ४९ कोस मीनारे है जिनमें फरीदाबाद में १७, सोनीपत में ७, पानीपत में ५, करनाल में १०, कुरुक्षेत्र और अम्बाला में ९ एवं रोहतक में १ मीनार हैं। आजकल इन्हें सुरक्षित स्मारक घोषित किया गया है तथा पुरातत्व विभाग इनकी देखरेख करता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Caravanserias along the grand trunk road in Pakistan" (PDF). युनेस्को. अभिगमन तिथि २४ दिसम्बर २०१४.
  2. "कोस मीनार इतिहास, सोनीपत". Society for development and Beautification of Sonepat Town (regd.). अभिगमन तिथि २४ दिसम्बर २०१४.