पुत्तिंगल मंदिर हादसा, केरल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पुत्तिंगल मन्दिर हादसा

പുറ്റിങ്ങൽ ദേവി ക്ഷേത്രം.jpg
पुत्तिंगल देवी का मंदिर

पुत्तिंगल मंदिर की भारत के मानचित्र पर अवस्थिति
पुत्तिंगल मंदिर
पुत्तिंगल मंदिर
पुत्तिंगल मंदिर की केरल के मानचित्र पर अवस्थिति
पुत्तिंगल मंदिर
पुत्तिंगल मंदिर
तिथि 10 अप्रैल 2016
समय 03:30
स्थान कोल्लम, केरल, Flag of India.svg भारत
निर्देशांक 8°48′45″N 76°39′52″E / 8.812619°N 76.664436°E / 8.812619; 76.664436निर्देशांक: 8°48′45″N 76°39′52″E / 8.812619°N 76.664436°E / 8.812619; 76.664436
मृत्यु 111+
घायल 350+


पुत्तिंगल मंदिर हादसा एक भयावह आतिशबाजी विस्फोट है जो 10 अप्रैल 2016 में कोल्लम के परावुर पुत्तिंगल मंदिर में भारतीय मानक समयानुसार(आईएसटी) रात्रि 03:30 बजे (22:15 जीएमटी) पर हुआ था। इस हादसे में 111 से अधिक लोगों की मौत हो गयी और 350 से अधिक लोग घायल हो गए।[1][2]

हादसा[संपादित करें]

सुबह 3 बजे के करीब मंदिर में एक समारोह के दौरान आतिशबाज़ी की जा रही थी जिसे देखने के लिए मैदान पर 10 हज़ार से ज्यादा लोग मौजूद थे। इसी दौरान चिंगारियां पास के गोदाम तक पहुंच गई यहाँ गुरुवार को केरल में नववर्ष (विशु)के मौके के लिए पटाखों का ढेर रखा हुआ था। हादसे का असर डेढ़ किलोमीटर की दूरी तक पड़ा।[3] मारे गए लोगों में आम पुरूषों और महिलाओं के अलावा पुलिस अधिकारी भी शामिल थे।[2]

बचाव[संपादित करें]

भारतीय नौसेना द्वारा कोच्चि स्थित दक्षिण नौसेना कमान(नेवल कमांड) मुख्यालय से एक डोर्नियर परिवहन विमान और चिकित्सा दल के साथ बचाव के परिवहन के लिए दो हेलीकाप्टरों को भी भेजा गया। घायलों को जिले के तथा पास ही में स्थित तिरूवनंतपुरम के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया।[2]

प्रतिक्रियाएं[संपादित करें]

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर बताया कि वह वहां जाएंगे। उन्होंने मृतकों के परिजनों के लिए 2 लाख और घायलों को 50 हजार देने की घोषणा की है। इसके साथ ही उन्होंने वायुसेना और नौसेना को घटना स्थल पर फौरन जाने आदेश भी जारी कर दिए हैं।[2][4]

सचिन ने ट्वीट किया, "कोल्लम मंदिर में हुए हादसे से हिल गया हूं। पीड़ितों के साथ मेरे विचार और प्रार्थनाएं। भगवान इससे उबरने के लिए मनोबल व शक्ति दें।"[5]

सोनिया ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा, "दिवंगत आत्माओं की शांति और घायलों की सलामती की प्रार्थना कर रही हूँ। मैंने सरकार से पर्याप्त और तत्काल राहत के उपाय सुनिश्चित करने के लिए कहा है।"

राहुल ने ट्वीट कर के कहा, "कोल्लम के पुत्तिंगल मंदिर में विनाशकारी आग की खबर सदमे जैसी है। मेरी प्रार्थना उन लोगों के साथ हैं, जिन्होंने इस त्रासदी में अपने प्रियजनों को खोया है।"[6]

आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने केरल के कोल्लम में एक मंदिर में हुई आग लगने की घटना पर गहरा दुख और अफसोस जाहिर किया है।[7]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. सी॰ गौरीदसन नैयर (10 अप्रैल 2016). "Kollam temple fire: 106 dead, over 350 injured" [कोल्लम मंदिर आग: १०६ की मौत और ३५० से अधिक घायल] (अंग्रेज़ी में). द हिन्दू.
  2. "कोल्लम मंदिर हादसे में 102 लोगों के मरने की पुष्टि". अभिगमन तिथि 10 अप्रैल 2016.
  3. "कोल्लम मंदिर में आग: 'पटाखे फोड़ने की होड़' हो सकती है हादसे की वजह". एनडीटीवी. अभिगमन तिथि 10 अप्रैल 2016.
  4. "कोल्लम मंदिर हादसा: प्रधानमंत्री मोदी ने किया मुआवजे का ऐलान". ज़ी न्यूज़. अभिगमन तिथि 10 अप्रैल 2016.
  5. "सचिन ने कहा, 'कोल्लम हादसे पर हिल गया हूं'". खबर.आईबीइन.कॉम. अभिगमन तिथि 10 अप्रैल 2016.
  6. "केरल मंदिर त्रासदी पर सोनिया, राहुल ने दुख जताया". राजस्थान पत्रिका. अभिगमन तिथि 10 अप्रैल 2016.
  7. "आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री ने कोल्लम मंदिर हादसे पर जाहिर किया अफसोस". अभिगमन तिथि 10 अप्रैल 2016.