के एम बीनमोल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
के एम बीनमोल

बेनामोल ने 2010 में केरल के मुख्यमंत्री को रानी का बैटन सौंपते हुए
व्यक्तिगत जानकारी
पूरा नाम कलायथुमुझी मैथ्यूज बीनमोल
राष्ट्रीयता भारतीय
जन्म 15 अगस्त 1975 (1975-08-15) (आयु 45)
कोम्बिडिनजल, इडुक्की जिले, केरल

कलायथुमुझी मैथ्यूज बीनमोल, जो कि के एम बीनमोल (जन्म 15 अगस्त 1975) के रूप में लोकप्रिय हैं। बीनमोल भारत के एक अंतरराष्ट्रीय एथलीट हैं जो कोम्बिडिनजल, इडुक्की जिले, केरल से है।

जीवनी[संपादित करें]

बेनामोल का जन्म 15 अगस्त 1975 को कोम्बिदिंजल, इडुक्की जिला, केरल मे हुआ था। बेनामोल ने अपने भाई के एम बीनू के साथ भी इतिहास रचा, जब वे एक अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में पदक जीतने वाले पहले भारतीय भाई बहन बने। बीनू ने पुरुषों की 800 मीटर दौड़ में रजत पदक जीता। के.एम. बेनामोल ने चिकित्सक डॉ. विवेक जॉर्ज से शादी की और उनके 2 बच्चे हैं अश्विन और हैले।

ओलंपिक[संपादित करें]

2000 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेल के दौरान, बीनमोल काफी हद तक अज्ञात थी, जब तक कि वह पीटी उषा और शाइनी विल्सन के बाद एक ओलंपिक सेमीफाइनल में पहुंचने वाली तीसरी भारतीय महिला नहीं बन गई, जिसने 1984 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में क्रमशः 800 मीटर में 400 मीटर बाधा दौड़ में लगभग एक ही उपलब्धि हासिल की लॉस एंजिल्स में।

एशियाई खेल[संपादित करें]

उन्होंने बुसान में 2002 के एशियाई में महिलाओं के 800 मीटर और 4 × 400 मीटर की महिला रिले में स्वर्ण पदक जीता।[1][2][3]


उपलब्धियां[संपादित करें]

  • 2000 एशियाई चैंपियनशिप (जकार्ता, इंडोनेशिया) - 4 × 400 मीटर की महिला रिले में स्वर्ण पदक जीता।
  • 2000 एशियाई चैंपियनशिप (जकार्ता, इंडोनेशिया) - 400 मीटर की महिला दौड़ में रजत पदक जीता।
  • 2002 एशियाई खेल (बुसान, दक्षिण कोरिया) - 4 × 400 मीटर की महिला रिले में स्वर्ण पदक जीता।
  • 2002 एशियाई खेल (बुसान, दक्षिण कोरिया) - 800 मीटर की महिला दौड़ में स्वर्ण पदक जीता।
  • 2004 ओलिंपिक (एथेंस, ग्रीस) - 4 × 400 मीटर की महिला रिले में स्वर्ण पदक जीता।

पुरस्कार[संपादित करें]

बीनमोल को उनके एथलेटिक कैरियर में अनुकरणीय उपलब्धि के लिए 2000 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।[4][5] वह वर्ष 2002–2003 में अंजलि वेद पाठक भागवत के साथ भारत के सर्वोच्च खेल सम्मान, राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार की संयुक्त विजेता भी हैं। 2004 में, उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।[6][7][8]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Kombodinjal basks in Beenamol, Binu's glory". Rediff. 16 October 2002. मूल से 24 November 2002 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 19 November 2016.
  2. Sen Gupta, Abhijit (16 May 2002). "She's been at it". The Hindu. मूल से 8 नवंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-01-28.
  3. "`Star of the Year' award for Beenamol". The Hindu. 19 November 2004. मूल से 5 नवंबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2010-01-28.
  4. "Arjun Award - Sports". Indian Olympic Association. मूल से 22 September 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 November 2016.
  5. "List of Arjuna Award Winners". Ministry of Youth Affairs and Sports. Government of India. मूल से 25 December 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 November 2016.
  6. "Arjuna Awards, Rajiv Gandhi Khel Ratna, Dhyan Chand and Dronacharya awards given away". Press Information Bureau. Ministry of Youth Affairs and Sports. 29 August 2003. मूल से 26 April 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 November 2016.
  7. "Rajiv Gandhi Khel Ratna Award". Indian Olympic Association. मूल से 22 September 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 November 2016.
  8. "Padma Awards directory (1954-2014)" (PDF). Ministry of Home Affairs. Government of India. पृ॰ 136. मूल (PDF) से 15 November 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 November 2016.