केंद्रीय आयुध भंडार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

केंद्रीय आयुध भंडार महाराष्ट्र के वर्धा जिल के पुलगांव में स्थित भारतीय सेना का सबसे बड़ा आयुध भंडार है[1] जो कि लगभग 7,000-10,000 एकड़[2] में फैला है। इसकी गिनती एशिया के सबसे बड़े आयुध भंडारों में होती है।[1] भारतीय सेना के कुल 12 आयुध भंडार हैं, जिनमें 11 फील्ड आयुध भंडार तथा एक केंद्रीय आयुध भंडार हैं। केंद्रीय आयुध भंडार नागपुर से 115 किलोमीटर दूर पुलगांव में स्थित है जिसमें सेना के सभी हथियारों व गोल बारूद का भंडारण किया जाता है। नागपुर से पुलगांव 1 घंटे की दूरी पर है।[2][1]

देश की विभिन्न आयुध फैक्ट्रियों में बनने वाले हथियार पहले केंद्रीय भंडार में लाए जाते हैं जहां से उन्हें अग्रिम ठिकानों पर भेजा जाता है। इस भंडार में बमों, हथगोलों, गोलों, रायफलों, मिसाइलों और अन्य विस्फोटक सामग्री का विशाल भंडार है।[1] अपनी निर्धारित अवधि पार कर चुके हथियारों को नष्ट करने का काम भी इसी आयुध भंडार द्वारा किया जाता है।[2] ब्रह्मोस मिसाइल , एके 47 भी इस आयुध भंडार में रखे जाते हैं।[2]

घटनाएं[संपादित करें]

31 मई 2016, रात्रि 1:30 बजे से 2 बजे (आईएसटी) (30 मई 2016, सायं 8 बजे से 8:30 बजे के मध्य यूटीसी) अनुसार[2][3]इस भंडार गृह में आग लग गयी[4] जिसमें सेना के दो अधिकारियों तथा 18 अन्य लोगों की मौत हो गई तथा 130 टन टैंक रोधी सामग्री नष्ट हो गई।[5]

रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर और सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह ने मौके पर पहुंच कर स्थिति की समीक्षा की और घटना की जांच के आदेश दिये। मृतकों की पहचान लेफ्टिनेंट कर्नल आर एस पवार और मेजर के. मनोज के रूप में हुई है। घायल हुए सैनिकों में कई की स्थिति गंभीर है और मृतकों की संख्या अधिक होने की आशंका है।[1] दुर्घटना के समय वहां लगभग 70 लोग मौजूद थे जिसमें से ज्यादातर रक्षा सुरक्षा कोर के जवान थे।[1]घायलों कोे जिले के सावंगी मेघे में स्थित दत्ता मेघे चिकित्सा कॉलेज और अस्पताल में भर्ती कराया गया।[2][6] आग लगने के कुछ देर बाद ही आयुध भंडार के निकट स्थित पांच गांवों को तुरंत खाली करा लिया गया था।[2] इससे पहले 2010 में पारागढ़ में व अनंतनाग और भरतपुर आयुध भंडारों समेत देश के अन्य आयुध भंडारों में आग की 7 घटनाएं हुई हैं।[1][7][8][9][10][11][12][13][14][15][16][17][18]

प्रतिक्रिया[संपादित करें]

  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने शोक संदेश में कहा कि शस्त्र भंडार में आग लगने से उन्हें गहरा दुख हुआ है। उन्होंने प्रभावित परिवारो के प्रति संवेदना व्यक्त की व घायल हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की। उन्होंने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से घटना स्थल का दौरा कर स्थिति का जायजा लेने का निर्देश दिया है।[1]
  • गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा, " मैं पुलगांव में लगी आग में घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूँ। शोकाकुल परिवारों को मेरी सांत्वना।"[2]
  • महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस ने हादसे पर दुख जताया। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन को पूरी मदद करने के निर्देश दिए गए हैं। राज्य सरकार अपनी तरफ से हरसंभव सहायता मुहैया करा रही है।[2]
    • वर्धा के सांसद रामदास तडस ने कहा कि घायलों को उचित इलाज मुहैया कराया जा रहा है।[2]
  • कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी में अपने ट्वीट में कहा, "केंद्रीय आयुध भंडार, महाराष्ट्र में आग में अफसरों और जवानों की मौत की खबर जानकर गहरा दुःख और पीड़ा हुई है।"[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "केन्द्रीय आयुध डिपो में आग लगने से 20 लोगों की मौत". देशबन्धु. 1 जून 2016. अभिगमन तिथि 1 जून 2016.
  2. "पुलगांव अग्निकांड: जायजा लेने पहुंचे रक्षा मंत्री ने दिए जांच के आदेश". दैनिक जागरण. 31 मई 2016. अभिगमन तिथि 1 जून 2016.
  3. "सेना का सबसे बड़ा हथियार डिपो भस्म, 17 जवानों की मौत, कहीं साजिश तो नहीं?". आईबीएन 7. 31 मई 2016. अभिगमन तिथि 1 जून 2016.
  4. "आतंकी संगठनों के निशाने पर हैं सेना के आयुध भंडार". अमर उजाला. 1 जून 2016. अभिगमन तिथि 1 जून 2016.
  5. "सेना के आयुध डिपो में आग: 130 टन टैंक रोधी सामग्री नष्ट, सात पीड़ितों के उड़ गये चीथड़े". प्रभात खबर. 1 जून 2016. अभिगमन तिथि 1 जून 2016.
  6. "सेना के डिपो में आग: मनोहर पर्रिकर ने साजिश ने किया इनकार". नवभारत टाइम्स. 31 मई 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  7. "एक और अग्निकांड". दैनिक जागरण. 1 जून 2016. अभिगमन तिथि 1 जून 2016.
  8. "India: Fire at ordnance depot in Maharashtra state kills 20 troops" [भारत: महाराष्ट्र में आयुध भंडार ने आग 20 सैनिक मरे] (अंग्रेज़ी में). अबतक.टीवी. 1 जून 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  9. "Indian army depot fire kills 16 raises safety fears" [भारतीय सेना के भंडार में आग में 16 की मृत्यु, सुरक्षा चिंता बढ़ी] (अंग्रेज़ी में). जीओपाकिस्तान.नेट. 31 मई 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  10. "Indian army depot fire kills 16 raises safety fears" [भारतीय सेना के भंडार में आग में 16 की मृत्यु, सुरक्षा चिंता बढ़ी] (अंग्रेज़ी में). ट्रिब्यून.कॉम.पीके. 31 मई 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  11. "130 tons of anti tank mines worth 14 million destroyed in india's army depot" [भारत में 14 मिलियन मूल्य की 130 टन एंटी टैंक सामग्री सेना भंडार में आग से नष्ट] (अंग्रेज़ी में). डिफेन्स.पीके. 1 जून 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  12. "India : Fire at ordnance depot in Maharashtra state" [भारत: महाराष्ट्र राज्य में आयुध भंडार में आग] (अंग्रेज़ी में). आलमीअख़बार.कॉम. 1 जून 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  13. "16 dead in fire at India's biggest ammo depot" [भारत के सबसे बड़े भंडार में आग से 16 की मृत्यु] (अंग्रेज़ी में). बीडीन्यूज़24.कॉम. 1 जून 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  14. "Indian army depot fire kills 16 raises safety fears" [भारतीय सेना के भंडार में आग में 16 की मृत्यु, सुरक्षा चिंता बढ़ी] (अंग्रेज़ी में). न्यूऐजबीडी.नेट. 31 मई 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  15. "Fire at arms depot kills 16 in India" [भारत। इ आयुध भंडार में आग ने 16 की जान ली] (अंग्रेज़ी में). दडेलीस्टार.नेट. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  16. "Ordnance depot inferno kills 16" [आयुध भंडार की आग में 16 की मृत्यु] (अंग्रेज़ी में). एचटीसिंडिकेट.कॉम. 1 जून 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016.
  17. "17 killed in fire at indian army ammunitions depot" [भारतीय सेना आयुध भंडार में आग ने 17 लोग मारे गए] (अंग्रेज़ी में). मायरिपब्लिका.कॉम. 1जून 2016. अभिगमन तिथि 2 जून 2016. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  18. "Fire, blasts at Indian arms depot killed at least 16" [भारतीय आयुध भंडार में आग, धमाके में कम से कम 16 मरे] (अंग्रेज़ी में). न्यूज़जेएस.कॉम. 31 मई 2016मई. अभिगमन तिथि 2 जून 2016. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)