कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा

शिक्षा मंत्री
बिहार सरकार
पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
29 जुलाई 2017 (2017-07-29)
पूर्वा धिकारी अशोक चौधरी

घोसी से
बिहार विधान सभा के सदस्य
पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
नवम्बर 2015 (2015-11)
पूर्वा धिकारी राहुल कुमार

मखदुमपुर से
बिहार विधान सभा के सदस्य
पद बहाल
नवम्बर 2005 (2005-11) – नवम्बर 2010 (2010-11)
पूर्वा धिकारी रामाश्रय प्रसाद सिंह
उत्तरा धिकारी जीतन राम मांझी

जन्म 1 सितम्बर 1950 (1950-09-01) (आयु 70)
राजनीतिक दल जनता दल (यूनाइटेड)
शैक्षिक सम्बद्धता पटना विश्वविद्यालय

कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा एक भारतीय राजनेता हैं। वह अभी बिहार सरकार के शिक्षा मंत्री हैं। वह घोसी से बिहार विधान सभा के सदस्य हैं।

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

वर्मा का जन्म १ जनवरी १९५० को बिहार के जहानाबाद जिले में हुआ था। उन्होंने पटना विश्वविद्यालय से स्नातक किया।[1]

राजनिति[संपादित करें]

कृष्ण वर्मा ने २००५ के बिहार विधान सभा चुनाव में मखदुमपुर से जित हासिल की। बाद में २०१५ के बिहार विधान चुनाव में घोसी से पुनः चुनाव जीता।[2]

२९ जुलाई २०१७ को बिहार के मुख्यमंत्री ने एक नया मंत्रालय बनाया।[3] इसमें कृष्ण वर्मा को शिक्षा मंत्री का पद मिला।[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Member Profile" (PDF). Bihar Vidhan Sabha. मूल (PDF) से 15 अप्रैल 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-04-15.
  2. "🗳️ Krishan Nandan Prasad Verma, Ghosi Assembly Elections 2015 LIVE Results | LatestLY.com". LatestLY (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-04-15.[मृत कड़ियाँ]
  3. "CM नीतीश ने मंत्रियों को बांटे विभाग, अपने पास रखा गृह, सुशील मोदी को दिया वित्त मंत्रालय". aajtak.intoday.in. मूल से 2020-04-15 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-04-15.
  4. "मुख्यमंत्री एंव मंत्रियों को सरकार के विभागो का कार्य का आवंटन ।" (PDF). Cabinet Secretariat Department, Bihar. 2017-07-29. मूल (PDF) से 10 अप्रैल 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2020-04-14.