कुशवाहा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कछवाहा या कुशवाहा
वंश सूर्यवंश
रियासत धुंधर
स्वतंत्र राजशाही: नरवर
जयपुर
अलवर
मैहर
मुरैना
रोहतास
जयपुर राज्य का पंचरंग ध्वज

कुशवाहा[1] भारतीय समाज की एक वंश/जाति है। परंपरागत रूप से किसान हैं परंतु 20वीं शताब्दी में उन्होने स्वयं को राजपूत वंश का बताया। इस जाति का कई स्वतंत्र राज्यों व रियासतों पर शासन रहा है। जिनमें से अलवर, आमेर (वर्तमान जयपुर) व मैहर प्रमुख हैं। कुशवाहा या कछवाहा अयोध्या के सूर्यवंशी राजा राम के पुत्र कुश के वंशज हैं।[2]

शासक गण[संपादित करें]

कछवाहा परिवार ने आमेर (आंबेर) पर शासन किया, जिसे बाद में जयपुर राज्य के नाम से जाना गया। कुशवाहों की इस शाखा को राजपूत माना गया।[3][4] मुग़ल शासक अकबर के सहयोग व समर्थन से कुशवाह सम्मानित राजाओं के रूप में स्थापित हुये।[5][6]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Toggle sidebar Jagran कुशवाहा समाज का रहा है गौरवशाली इतिहास". Jagran. अभिगमन तिथि 12 सितम्बर 2012.
  2. George S. Cuhaj; Thomas Michael (29 November 2012). Standard Catalog of World Coins - 1801-1900. Krause Publications. पपृ॰ 688–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-4402-3085-4.
  3. Raj Kumar (2003). Essays on Medieval India. Discovery Publishing House. पपृ॰ 294–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7141-683-7. अभिगमन तिथि 9 July 2017.
  4. Sailendra Nath Sen (2007). Textbook of Indian History and Culture. Macmillan India Limited. पपृ॰ 167–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-4039-3200-6.
  5. Wadley, Susan Snow (2004). Raja Nal and the Goddess: The North Indian Epic Dhola in Performance. Indiana University Press. पपृ॰ 110–111. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780253217240.
  6. Sadasivan, Balaji (2011). The Dancing Girl: A History of Early India. Institute of Southeast Asian Studies. पपृ॰ 233–234. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789814311670.

विस्तृत अध्ययन[संपादित करें]

  • Bayley C. (1894) Chiefs and Leading Families In Rajputana
  • David Henige|Henige, David (2004). Princely states of India;A guide to chronology and rulers
  • Jyoti J. (2001) Royal Jaipur
  • Krishnadatta Kavi, Gopalnarayan Bahura (editor) (1983) Pratapa Prakasa, a contemporary account of life in the court at Jaipur in the late 18th century
  • Khangarot, R.S., and P.S. Nathawat (1990). Jaigarh- The invincible Fort of Amber
  • Topsfield, A. (1994). Indian paintings from Oxford collections
  • Tillotson, G. (2006). Jaipur Nama, Penguin books