कुशल इलेक्ट्रोलिसिस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कुशल और भरपूर मात्रा में वैकल्पिक ईंधन लगाने की इस् दौड मे, शोधकर्ताओं ने हमेशा जब समुद्री जल के बंटवारे की एक कारगर तरीका अपनाने के लिए हाइड्रोजन ईंधन का उत्पादन करने की कोशिश की है तब मात खाई है। जून 10 पर, इलेक्ट्रोमटेरियल् विज्ञान के लिए उत्कृष्टता के ऑस्ट्रेलियाई अनुसंधान परिषद सेंटर की एक टीम एक उत्प्रेरक खोज निकाला है जिसे बहुत कम ऊर्जा चहिय्.जो उत्प्रेरक है एक लचीला प्लास्टिक की फिल्म है जो सुर्य किर्णो से प्राप्त उर्जा के साथ समुद्र के पानी को विभाजित करने में सक्षम है। मौजूदा तरीकों मे पानी के ऑक्सीकरण करने के लिए बहुत् बड़ी राशि मे ऊर्जा की आवश्यकता के विपरीत, इस विधि के द्वारा औसत से एक् घर और पूरे दिन के लिए कार को केवल 5 लीटर (1.3 लड़की) समुद्री जल के उपयोग से पर्याप्त ऊर्जा का उत्पादन होगा। फिल्म में एक सूर्य की ऊर्जा का दोहन करने के लिए सिंथेटिक क्लोरोफिल अणु है , ठीक उसी तरह जैसे पौधों की पत्तियों में होते हैं। न ही इस पद्धति का उपयोग करके कोइ नुक्सान है, मौजूदा जल बंटवारे तरीका जहरीला क्लोरीन गैस का उत्पादन करता है। यह एक बहुत कुशल् विधि है ,पेट्रोल ईंधन की तुलना मे, ये तरीका ईंधन की लागत को कम कर सकता है।

वॉलोन्गॉन्ग विश्वविद्यालय के एसोसिएट प्रोफेसर जून चेन ने कहा, "हम प्रणाली सामग्री सहित डिज़ाइन किया गया, हमें विभिन्न उपकरणों और अनुप्रयोगों के एक पानी बंटवारे स्रोत के रूप में समुद्र के पानी का उपयोग कर डिजाइन करने का अवसर देता है।सामग्री की लचीली प्रकृति भी पोर्टेबल हाइड्रोजन के उत्पादन के उपकरणों का निर्माण करने की संभावना प्रदान करता है।" ए.सी.इ.एस् कार्यकारी अनुसंधान निदेशक प्रोफेसर गॉर्डन वालेस ने कहा, "आज की दुनिया में उच्च प्रदर्शन सामग्री की खोज पर्याप्त नहीं है।"


पानी मे से हाइड्रोजन और ऑक्सीजन को अलग करना इलेक्ट्रोलिसिस के माध्यम से :[संपादित करें]

इलेक्ट्रोलीज़ हाइड्रोजन प्राप्त करने के लिए सबसे कारगर तरीका नहीं है, लेकिन यह "होमब्रिय्" हाइड्रोजन के लिए सबसे आसान और सस्ता उपाय है।हाइड्रोजन ब्रह्मांड में सबसे प्रचुर मात्रा में तत्व है। पिछले कुछ वर्षों में ज्यादा ध्यान मिल गया है"हरी ऊर्जा" और हाइड्रोजन को।

2H2O (तरल्) = 2H2 (गैस्) + O2 (गैस्)

हर कोई जानता है की पानी के अणु दो तत्वों से बने है-हाइड्रोजन और ऑक्सीजन। पानी के अणु इन आयनों के बीच विद्युत चुम्बकीय आकर्षण से एक साथ आयोजित होते है। बिजली दो इलेक्ट्रोड के माध्यम से पानी मे पेश किया जाता है, एक कैथोड (नकारात्मक) और एक एनोड (सकारात्मक), ये आयनों के इलेक्ट्रोड सामने वाले चार्ज आकर्षित करता है। इसलिए पासिटिव् हाइड्रोजन आयन कैथोड पर एकत्रित करेगा और नेगेटिव् ऑक्सीजन एनोड पर एकत्रित करेगा।जब ये आयन अपने अपने इलेक्ट्रोड से मिलते है तब ये या तो इलेक्ट्रॉनों देते है या लेते है।ये प्र्कृति उनके आयनों के चार्ज पर निर्भर करता है।(इस मामले में हाइड्रोजन इलेक्ट्रॉनों लेता है और ऑक्सीजन कइलेक्ट्रॉनों को खो देता है। इन सब कामो मे चार्ज संतुलित हो जाता है। यह प्रणाली बहुत कुशल नहीं है क्योंकि विद्युत ऊर्जा के कुछ प्रक्रिया के दौरान गर्मी में बदल जाती है,और बरबाद हो जाती है।

अमेरिकी नौसेना की बढ़ती ताकत:छोटी मशीन बडे काम[संपादित करें]

अमेरिकी नौसेना पहले ही समुद्र शासन करता है, लेकिन इस कोंटरापशन से नौसेना और भी ताकतवर हो गइ है। यह समुद्री जल से कार्बन डाइऑक्साइड पर कब्जा करने के लिए एक उपकरण है, मूल तत्व है के रूप में हाइड्रोजन भी उत्पन्न करता है।और यह भी एक प्रतिफल है, जिसका मतलब है कि आप अपने खुद के ईंधन-ऑन-द-गो बनाने के लिए तैयार होगे।


सन्दर्भ[संपादित करें]

[1] [2]

[3]

  1. http://listverse.com/2013/07/12/10-recent-scientific-advances-that-signal-the-future/
  2. https://www.chemistryworld.com/news/split-water-splitting-raises-green-hydrogen-hopes/6059.article
  3. http://phys.org/news/2013-06-sea-ocean-hydrogen-fuel.html