कुण्डलपुर, मध्य प्रदेश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कुण्डलपुर में स्थित जैन मंदिर

कुण्डलपुर भारत के मध्य प्रदेश राज्य में स्थित एक जैनों का एक सिद्ध क्षेत्र है जहाँ से श्रीधर केवली मोक्ष गये है जो दमोह से ३५ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह एक प्रमुख जैन तीर्थ स्थल है। यहाँ तीर्थंकर ऋषभदेव की एक विशाल प्रतिमा विराजमान है।

जैन तीर्थ स्थल[संपादित करें]

प्रसिद्ध 15 फीट ऊँची तीर्थंकर ऋषभदेव की प्रतिमा

कुण्डलपुर में ६३ जैन मंदिर है। उनमें से 22वाँ मंदिर काफ़ी प्रसिद्ध है। इसी मंदिर में बड़े बाबा (भगवान आदिनाथ) की विशाल प्रतिमा है। यह प्रतिमा जी बड़े बाबा के नाम से प्रसिद्ध है। प्रतिमा पद्मासन मुद्रा में है और 15 फुट ऊँची हैं। [1][2] यह मंदिर कुण्डलपुर का सबसे प्राचीन मंदिर माना जाता है। एक शिलालेख के अनुसार[3] विक्रम संवत् 1757 में यह मंदिर फिर से  भट्टारक सुरेन्द्रकीर्ति द्वारा खोजा गया था। तब यह मंदिर जीर्ण शीर्ण हालत में था। तब बुंदेलखंड के शासक छत्रसाल.[4] की मदद से मंदिर का पुनः निर्माण कराया गया था। यह जगह कुंडलगिरी कुण्डलपुर दमोह जिले के पटेरा ब्लाक, मध्य प्रदेश. में है।

आचार्य विद्यासागर इस क्षेत्र के जीर्णोद्धार के मुख्य प्रेरणा स्रोत माने जाते है।

फोटो गैलरी[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Shri Digamber Jain Siddha Kshetra Kundalgiri, The Jaina Gazette, Vol.
  2. Jagannmohanlal Shastri, Anekanta, December 1967, page. 194.
  3. Y.K. Malaiya, "Kundalpur's Past Three Centuries," Arhat Vacan, Vol. 13, no. 3-4, 2001 pp. 5-13
  4. Thakurdas Bhagavandas Javeri, Bharatvarshiya Digambar Jain Directory, 1914

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]