कालीरामणा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कालीरावणा
जाट गोत्र
स्थिति हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, दिल्ली उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश
हिन्दू वर्ण व्यवस्था क्षत्रिय
वंश नागवंशी
शाखा कालीरामणा, कालीरमन, कालीरमना, कालीरमने, कालीधामन, कालखण्डे, कालीरावण, कालीरावणा, कालेरावणा, कालीरावत, कालु
भाषा हरियाणवी, हिन्दी, पंजाबी और राजस्थानी
धर्म हिन्दू धर्म और सिख धर्म

कालीरामणा या कालीरमन या 'कालेरावने हरियाणा और पंजाब की एक जाट गोत्र है।

उदय[संपादित करें]

उनका उद्भव कालिय से हुआ जो मथुरा के रामंका द्विप क्षेत्र के निकट के एक नागवंशी क्षत्रिय राजा थे।[1]

कालस कालशोक के वंशज हैं जो शिशुनाग के पुत्र थे।[2]

इतिहास[संपादित करें]

उन्होंने कालकुता पर भी विजय प्राप्त कर ली। इस गोत्र के लोग पंजाब में सिंहपुरा और भागोवाला इनके गणराज्य थे।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. दिलीप सिंह अहलावत. जाट वीरों का इतिहास.
  2. डॉ॰ महेन्द्र सिंह आर्य, धर्मपाल सिंह डूडी, किशन सिंह फौजदार और विजेन्द्र सिंह नारवार (1998). आधुनिक जाट इतिहास. आगरा. पृ॰ 229.