कालिदास समारोह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कालिदास समारोह एक सांस्कृतिक-साहित्यिक सम्मेलन है जो भारत के मध्य प्रदेश राज्य के उज्जैन नगर में प्रतिवर्ष कार्तिक शुक्ल एकादशी (देवप्रबोधिनी एकादशी) को आयोजित होता है।

गतिविधियाँ[संपादित करें]

कालिदास समारोह तीन अलग-अलग चरणों में मनाया जाता है। इसका प्रमुख आकर्षण है संस्कृत नाटक और शास्त्रीय नृत्य। सात दिन तक संस्कृत नाटकों और शास्त्रीय नृत्य का प्रदर्शन होता है। इसके अलावा देश भऱ के विद्वान संस्कृत साहित्य और कालिदास को लेकर शोध पत्रों का वाचन करते हैं। विश्वविद्यालयीन स्तर पर संस्कृत वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है जिसमें देश भर के संसकृत छात्र-छात्राएं भाग लेने आते हैं। इस वाद विवाद प्रतियोगिता के उच्च स्तर का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि किसी जमाने में इसमें प्रतियोगी की हैसियत से बाग लेने आने वाले छात्र आज किसी विश्वविद्यालय में संस्कृत के प्राध्यापक की हैसियत से इसमें निर्णायक की भूमिका में बैठे नजर आते हैं।

इतिहास[संपादित करें]

वर्तमान रूप में कालिदास समारोह का आरम्भ सन् १९५८ से हुआ। इसकी परिकल्पना स्वर्गीय पंण्डित सूर्यनारायण व्यास के द्वारा की गयी थी जो तीस के दशक से ही उज्जैन में "कालिदास जयन्ती" का आयोजन करते आ रहे थे। सन् १९७९ में मध्य प्रदेश सरकार ने उज्जैन में कालिदास अकादमी की स्थापना की जो विक्रम विश्वविद्यालय के साथ मध्य-प्रदेश के संस्कृति मंत्रालय के सहायता से इसे प्रतिवर्ष आयोजित करता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]