कार्बी-मेघालय पठार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कार्बी-मेघालय पठार मुख्य भारतीय प्रायद्वीपीय पठार का एक विस्तार है और मूल रूप से दो अलग-अलग पठार हैं - कार्बी आंगलोंग पठार और मेघालय पठार

विवरण[संपादित करें]

ऐसा माना जाता है कि हिमालय की उत्पत्ति के समय भारतीय प्लेट के उत्तरपूर्वी चलन से उत्पन्न बल के कारण, राजमहल पहाड़ियों और कार्बी-मेघालय पठार के बीच एक बहुत बड़ा फ़ॉल्ट पैदा हो गया था। बाद में, यह फ़ॉल्ट कई नदियों की निक्षेपण गतिविधि (depositional activity) के कारण भर गया। आज मेघालय और कार्बी आंगलोंग पठार मुख्य प्रायद्वीपीय ब्लॉक से अलग हैं। यह क्षेत्र दक्षिण-पश्चिम मानसून से अधिकतम वर्षा प्राप्त करता है, और भारत के पूर्वोत्तर के पठार में स्थित है।[1]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Vasudevan, Hari; एवं अन्य (2006). "Structure and Physiography". India:Physical Environment. New Delhi: NCERT. पृ॰ 17. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-7450-538-5.